loader

चुनावी राजनीति में ख़त्म हो फ़ेसबुक का दख़ल: सोनिया गांधी 

चुनावी राजनीति में सोशल मीडिया कंपनियों के दख़ल की खबरों पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने बुधवार को लोकसभा में अपनी बात रखी। सोनिया ने सरकार से अपील की कि वह फेसबुक और अन्य सोशल मीडिया कंपनियों के भारतीय चुनावी राजनीति में किसी प्रकार के दख़ल को खत्म करें। 

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि हमें बजाय यह देखे कि सत्ता में कौन है, लोकतंत्र और सामाजिक सौहार्द्र को बचाने की जरूरत है। 

सोनिया गांधी ने इस दौरान बीते साल द वॉल स्ट्रीट जर्नल में छपी उन खबरों का भी ज़िक्र किया जिनमें यह कहा गया था कि फेसबुक ने भारत में सत्तारूढ़ दल के नेताओं की ऐसी पोस्ट को हटाने से मना कर दिया था, जो घृणा फैलाने वाली थीं।

ताज़ा ख़बरें

सोनिया ने कहा कि अल जजीरा और द रिपोर्टर्स कलेक्टिव ने भी यह बताया है कि किस तरह एक जहरीला वातावरण तैयार किया जा रहा है और ऐसा भारत के चुनावी कानूनों को दरकिनार कर किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि ऐसा करके ऐसे लोगों की आवाज को दबाया जा रहा है जो सरकार के खिलाफ बोलते हैं। 

उन्होंने कहा कि फेसबुक के द्वारा सत्तारूढ़ दल के साथ मिलीभगत करके सामाजिक सौहार्द्र को बर्बाद किया जा रहा है और यह हमारे लोकतंत्र के लिए बहुत खतरनाक है। सोनिया ने कहा कि गलत जानकारी देकर युवाओं और बड़े लोगों के दिमाग में नफरत भरी जा रही है। 

देश से और खबरें

सोनिया गांधी ने कहा कि फेसबुक को इस बारे में जानकारी थी और उसने इससे फायदा भी कमाया। रायबरेली की सांसद सोनिया गांधी ने कहा कि यह रिपोर्ट दिखाती है कि बड़े कॉरपोरेट घरानों और सत्तारूढ़ दल के बीच में किस तरह का गठजोड़ बन रहा है।

अल ज़ज़ीरा की रिपोर्ट के मुताबिक़, रिलायंस से मदद हासिल वाली करने वाली एक न्यूज़ मीडिया कंपनी NEWJ ने फेसबुक पर बीजेपी के चुनाव अभियान को आगे बढ़ाया था। अल ज़ज़ीरा की रिपोर्ट कहती है कि 2019 के लोकसभा चुनाव और उसके बाद 9 राज्यों के विधानसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी की पहुंच और लोकप्रियता को बढ़ाने के लिए NEWJ के द्वारा फेसबुक पर विज्ञापनों के रूप में लाखों रुपए की रकम खर्च की गई। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें