loader
फ़ोटो साभार:

अर्णब की गिरफ़्तारी: प्रेस की आज़ादी या अपराध का केस?

अर्णब गोस्वामी की गिरफ़्तारी पर प्रेस की आज़ादी को लेकर हो-हल्ला क्यों है? क्या उनकी गिरफ़्तारी उनके चैनल रिपब्लिक टीवी पर किसी ख़बर को प्रकाशित करने को लेकर है? नहीं न? या फिर क्योंकि यह एक पत्रकार से जुड़ा मामला है इसलिए यह अपने आप ही प्रेस की आज़ादी से जुड़ा मामला हो गया? क्या यह पूरी तरह आपराधिक मामला है? इन सवालों का जवाब इस पूरे मामले को समझने पर मिल सकता है। 

जिस मामले में अर्णब की गिरफ़्तारी की गई है वह मामला दो साल पुराना है। कोंकोर्ड डिज़ाइन के मैनेजिंग डायरेक्टर अन्वय नाइक अपनी माँ कुमुद नाइक के साथ मई 2018 में रायगढ़ ज़िले में अलीबाग के अपने बंगले में मृत पाए गए थे। मरने के पहले अन्वय ने ख़ुदकुशी नोट छोड़ा था। इसमें उन्होंने अपनी मौत के लिए 3 लोगों को ज़िम्मेदार बताया था जिनमें एक नाम अर्णब गोस्वामी का भी था। 

सम्बंधित ख़बरें

इस मामले में तब आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में 2018 में अर्णब गोस्वामी सहित तीन लोगों पर दर्ज किए गए थे। आरोप था कि अर्णब ने अपने दफ़्तर का काम करवाने के बाद अन्वय नाइक के 83 लाख नहीं दिये। पुलिस ने ख़ुदकुशी का मामला दर्ज कर जाँच शुरू की लेकिन उसने उस केस को पिछले साल यह कहते हुए बंद कर दिया था कि अर्णब गोस्वामी और दो अन्य के ख़िलाफ़ चार्जशीट पेश करने के लिए पर्याप्त सबूत नहीं हैं। तब राज्य में बीजेपी की सरकार थी।

लेकिन जब सरकार बदली तो अन्वय की बेटी अदन्या ने इस मामले में केस को दोबारा खोलने के लिए प्रयास शुरू किया। इसी साल मई महीने में महाराष्ट्र सरकार ने इस केस को खोलने का आदेश दिया था। 

'द इंडियन एक्सप्रेस' की एक रिपोर्ट के अनुसार, अन्वय की बेटी अदन्या ने आरोप लगाया था कि पुलिस ने उस 83 लाख रुपये बकाये की जाँच पुलिस ने नहीं की जिसे गोस्वामी ने उनके पिता को भुगतान नहीं किया था और इसी कारण उन्होंने आत्महत्या कर ली थी। 

अख़बार की रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस को अंग्रेज़ी में एक सुसाइड नोट मिला था, जिसमें कथित रूप से कहा गया था कि अन्वय और उनकी माँ ने आख़िरी क़दम उठाने का फ़ैसला किया क्योंकि बकाये का भुगतान तीन कंपनियों के मालिकों द्वारा ख़त्म किया जा रहा था- रिपब्लिक टीवी, IcastX/Skimedia के फिरोज शेख, और स्मार्टवर्क्स के नितीश सारदा। उस नोट में कहा गया कि तीनों फर्मों पर कॉनकॉर्ड डिजाइन का क्रमश: 83 लाख रुपये, 4 करोड़ रुपये और 55 लाख रुपये बकाया है।

रिपोर्ट के अनुसार, रिपब्लिक टीवी ने पहले दावा किया था कि इसने सभी बकाए का भुगतान कोंकोर्ड डिज़ाइन को कर दिया है। 

तो सवाल है कि आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज हुआ था तो इस केस को बंद क्यों किया गया?

मई महीने में प्रकाशित 'द इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के अनुसार, रायगढ़ के पुलिस अधीक्षक अनिल पारस्कर ने कहा था, 'जब शव पाया गया था, हमने तीन लोगों के ख़िलाफ़ आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज किया था। हालाँकि, पिछले अप्रैल में हमने एक अदालत के समक्ष एक सारांश रिपोर्ट प्रस्तुत की थी जिसमें कहा गया था कि आरोपियों के ख़िलाफ़ आरोप पत्र दायर करने के लिए पर्याप्त सबूत नहीं थे।' 

भारी कर्ज में थे अन्वय!

अख़बार की रिपोर्ट के अनुसार, एक अधिकारी ने कहा कि यह पता चला है कि जब अन्वय ने आत्महत्या की थी, तब पोस्टमार्टम रिपोर्ट में संकेत दिया गया था कि कुमुद का गला घोंटा गया था। उसके बाद, पुलिस ने हत्या का मामला भी दर्ज किया। पुलिस को शक है कि अन्वय ने अपनी माँ की हत्या कर दी और फिर आत्महत्या कर ली। जबकि कुमुद का शव ग्राउंड-फ़्लोर के सोफे पर पाया गया था, अन्वय का शव बंगले की पहली मंजिल पर लटका हुआ पाया गया था।

रिपोर्ट के अनुसार, एक अधिकारी ने कहा था कि जाँच के दौरान उन्होंने पाया कि अन्वय भारी कर्ज में थे और ठेकेदारों को पैसा चुकाने के लिए संघर्ष कर रहे थे।

इस बीच इस साल जब यह मामला चर्चा में फिर आ गया और जाँच की बात कही गई तब आरोप लगाए जाने लगे कि महाराष्ट्र सरकार बदले की कार्रवाई कर रही है क्योंकि कांग्रेस भी उद्धव ठाकरे सरकार में शामिल है। उसी दौरान अर्णब गोस्वामी ने अपने चैनल पर सोनिया गाँधी के ख़िलाफ़ कथित तौर पर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। 

अब जब अर्णब की गिरफ़्तारी हुई है तो आरोप लग रहे हैं कि सुशांत सिंह राजपूत की संदिग्ध मौत को अर्णब ने मुद्दा बनाकर मुंबई पुलिस और ठाकरे सरकार को घेरना शुरू किया था इसलिए बदले की भावना से सरकार यह कार्रवाई कर रही है।
आरोप जो भी लगाए जाएँ, लेकिन यह सच है कि अन्वय नाइक ने आत्महत्या की थी। ख़ुदकशी के नोट भी मिले हैं और उसमें अर्णब गोस्वामी के नाम भी हैं। इसी को आधार बनाकर कहा जा रहा है कि यह आपराधिक मामले में कार्रवाई है। सवाल यही उठाए जा रहे हैं कि क्या किसी पत्रकार से जुड़े आपराधिक मामले में प्रेस की आज़ादी के नाम पर कार्रवाई नहीं होनी चाहिए!
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें