loader

उपग्रह इस्तेमाल योग्य नहीं, गलत कक्षा में स्थापित हुए: इसरो

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन यानी इसरो ने कहा है कि नये रॉकेट के साथ लॉन्च किए गए उपग्रह इस्तेमाल के योग्य नहीं हैं क्योंकि वे ग़लत कक्षा में स्थापित हो गए हैं।

इसरो के नये विकसित छोटे उपग्रह प्रक्षेपण यान यानी एसएसएलवी से पहली उड़ान में रविवार सुबह दो उपग्रह भेजे गए थे। लेकिन रॉकेट के अंतिम चरण में कुछ डेटा में समस्या आ गई थी। शुरुआती तौर पर अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा था कि प्रक्षेपण में कुछ दिक्कत आई गई, जबकि अब इसने कहा है कि उपग्रह अब उपयोग करने योग्य नहीं है क्योंकि एसएसएलवी डी 1 ग़लत कक्षा में स्थापित हो गया है।

इसरो ने ट्वीट किया है कि 'एसएसएलवी-डी1 ने उपग्रहों को 356 किमी वृत्ताकार कक्षा के बजाय 356 किमी x 76 किमी के एलिप्टिकल कक्षा में स्थापित किया। उपग्रह अब प्रयोग करने योग्य नहीं हैं। समस्या की तार्किक पहचान की गई है।' इसने आगे कहा है कि सेंसर विफलता की वजह से रॉकेट अपने पाथ से विचलित हुआ। इसने यह भी कहा, 'एक समिति विश्लेषण और सिफारिश करेगी। सिफारिशों के कार्यान्वयन के साथ इसरो जल्द ही एसएसएलवी-डी2 के साथ वापस आएगा।'

इससे पहले इसरो ने सुबह कहा था कि वह अपने सबसे छोटे रॉकेट एसएसएलवी-डी1 प्रक्षेपण के डेटा का विश्लेषण कर रहा है, जो रविवार 7 जुलाई की सुबह श्रीहरिकोटा के अंतरिक्ष केंद्र से 'पृथ्वी अवलोकन उपग्रह' और एक 'छात्र उपग्रह' लेकर गया। 
इसरो अध्यक्ष एस. सोमनाथ ने कहा था कि SSLV-D1 ने सभी चरणों में अपेक्षित रूप से प्रदर्शन किया। मिशन के अंतिम चरण में, डेटा में कुछ गड़बड़ हो रही है। हम इस डेटा का विश्लेषण कर रहे हैं। 
ताजा ख़बरें
इसरो की नवीनतम पेशकश स्मॉल सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल (एसएसएलवी) रविवार 7 अगस्त को श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र के पहले लॉन्च पैड से आसमान में गरज कर उठा। जबकि लॉन्च के बाद तीन चरणों ने अच्छा प्रदर्शन किया। हालांकि इसरो ने सुबह कहा था कि वेलोसिटी ट्रिमिंग मॉड्यूल के साथ डेटा हानि हुई थी और यह देखने के लिए विश्लेषण किया जाएगा कि उपग्रहों को उनकी वांछित कक्षाओं में रखा गया था या नहीं।
एसएसएलवी स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ को महत्व देने के लिए 750 स्कूली छात्रों द्वारा निर्मित 75 पेलोड से युक्त "आज़ादी सैट" नामक एक उपग्रह ले जा रहा है। सैटेलाइट डिजाइन करने वाली छात्राओं ने श्रीहरिकोटा के स्पेसपोर्ट में एसएसएलवी-डी1 लॉन्च भी देखा। 
ISRO: Small rocket first launch in trouble, data messed up - Satya Hindi
इसरो में छोटे रॉकेट लॉन्च करने की तैयारी
तेलंगाना की एक छात्रा श्रेया ने कहा, हमारे स्कूल के तीन समूहों ने इस एसएसएलवी लॉन्च में भाग लिया है। मुझे बहुत खुशी है कि हमें यह मौका मिला। हमने वास्तव में इस पर कड़ी मेहनत की और आज हम आजादी सैट उपग्रह के प्रक्षेपण को देखेंगे।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें