loader

जहांगीरपुरी हिंसाः एक ही समुदाय के 5 लोगों पर एनएसए

जहांगीरपुरी हिंसा के पांच आरोपियों पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) लगाया गया है। इन लोगों पर आरोप है कि 16 अप्रैल को इलाके में शोभायात्रा निकलने के दौरान हुई हिंसा में ये लोग शामिल थे। इनमें से अंसार नामक युवक तो मुख्य आरोपी है। हालांकि जहांगीरपुरी मामले में पुलिस खुद कई विवादों में फंस गई है। उसकी हर कार्रवाई पर सवाल उठ रहे हैं। राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम एक ऐसा अधिनियम है जो सरकार को किसी व्यक्ति को हिरासत में लेने का अधिकार देता है। यदि अधिकारी संतुष्ट है कि वह राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा है या उससे सार्वजनिक व्यवस्था बाधित हो सकती है तो ऐसे अभियुक्तों पर एनएसए लगाया जा सकता है। वही एनएसए पांच अभियुक्तों पर लगाया गया है।
ताजा ख़बरें
दिल्ली पुलिस ने अंसार, सलीम चिकना, इमाम शेख उर्फ़ सोनू, दिलशाद और अहमद के खिलाफ एनएसए लगाया है। केंद्र सरकार ने दिल्ली पुलिस को निर्देश दिया है कि 16 अप्रैल की झड़पों में शामिल लोगों के खिलाफ बहुत कड़ी कार्रवाई की जाए। केंद्र ने दिल्ली सरकार से कहा है कि वो कड़ी कार्रवाई करके एक मिसाल कायम करें ताकि दिल्ली या देश में कहीं और इस तरह की घटना दोबारा न हो। इससे पहले दिल्ली पुलिस ने केंद्रीय गृह मंत्रालय को भेजी गई रिपोर्ट में जहांगीरपुरी सांप्रदायिक हिंसा के पीछे आपराधिक साजिश को अहम वजह बताई थी। रिपोर्ट में अब तक हुई गिरफ्तारियों और हिंसा की जांच के लिए बनाई गई टीमों व अन्य अहम जानकारियों को शामिल किया गया है। रिपोर्ट में शोभा यात्राओं के बारे में दी गई अनुमति को लेकर भी स्थिति साफ की गई है। 
देश से और खबरें
पुलिस अभी तक इस बात पर मौन है कि शोभायात्रा के दौरान जो पिस्तौल, तलवारें, डंडे, चाकू वगैरह लहराए गए, उनके आरोपियों पर उसने क्या कार्रवाई की। जिस तरह उसने एक ही समुदाय के पांच लोगों पर एनएसए लगाया है, उससे भी संकेत मिल रहा है कि उसके इरादे क्या हैं। पाठकों को याद होगा कि इंडिया टुडे द्वारा एक्सेस किए गए वीडियो में, धार्मिक जुलूस में भाग लेने वालों को शॉट गन, पिस्तौल और तलवारें दिखाते हुए देखा जा सकता है। दिल्ली के जहांगीरपुरी के सी-डी ब्लॉक मार्केट में लिया गया यह वीडियो शनिवार शाम इलाके में पथराव शुरू होने से पहले रिकॉर्ड किया गया था।
वीडियो रिकॉर्ड करने वाले दो स्थानीय लोगों ने इंडिया टुडे से ख़ास बातचीत की थी। 30 साल की अनवारा ने कहा, मैं बाजार से आ रही थी जब दोपहर करीब 2.15 बजे हनुमान जयंती शोभा यात्रा बाजार पार कर रही थी। मैंने लोगों को बंदूकें लहराते हुए देखा। इसलिए मैंने वीडियो शूट किया। 15 साल के साहिल ने कहा, मैं अपनी दुकान पर था। हनुमान जयंती यात्रा बाजार पार कर रही थीं और लोग बंदूकें लहरा रहे थे। यात्रा 2 बजे से जारी रही। सबूत रखने के लिए, मैंने वीडियो रिकॉर्ड किए। एक अन्य वीडियो में लोगों के एक समूह को पथराव करते देखा जा सकता है।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

फरवरी 2020 के दंगों के बाद से दिल्ली में पहली सांप्रदायिक घटना में, 16 अप्रैल को शहर के जहांगीरपुरी इलाके में हनुमान जयंती जुलूस के दौरान पथराव और झड़प के कारण 8 पुलिस कर्मी और एक नागरिक घायल हो गए थे। अधिकारियों ने कहा कि जहांगीरपुरी में सुरक्षाकर्मियों की भारी तैनाती क्षेत्र में सामान्य स्थिति बहाल होने तक जारी रहेगी। जिस मस्जिद के सामने शोभा यात्रा के दौरान कथित तौर पर विवाद हुआ था, उसके सामने की सड़क को बंद कर दिया गया है और पूरे इलाके को पुलिस ने घेर रखा है। क्षेत्र में चौबीसों घंटे 500 से अधिक पुलिस कर्मियों और अतिरिक्त बल की छह कंपनियों को तैनात किया गया है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें