loader
जेएनयू में जातिवादी नारे

जेएनयू में जातिवादी नारे लिखे गए, छात्र गुटों का एक दूसरे पर आरोप 

दिल्ली में जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू)  में गुरुवार को तनाव का माहौल रहा। यहां की दीवारों पर जातिवादी नारे लिखे नजर आए। इससे छात्रों में अनहोनी संघर्ष से बेचैनी रही। एबीवीपी और वामपंथी छात्र संगठनों ने एक दूसरे को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया है।

जेएनयू में स्कूल ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज की दीवारों पर गुरुवार को जातिवादी नारे गुरुवार को दिखे। एक नारा लिखा था- ब्राह्मणों भारत छोड़ो। दूसरे नारे में लिखा था - ब्राह्मणों कैंपस छोड़ो, एक जगह लिखा था- गो बैक टू शाखा यानी शाखा में वापस जाओ। एक नारा यह भी था - खून बहेगा। नारे सामने आने के बाद एबीवीपी के जेएनयू अध्यक्ष रोहित और अन्य नेताओं ने आरोप लगाया कि लेफ्ट ग्रुप के छात्रों की यह हरकत है। वे जेएनयू कैंपस में फिर से तनाव फैलाना चाहते हैं। दूसरी तरफ वामपंथी ग्रुप के छात्रों ने आरोप लगाया कि यह खुद एबीवीपी के लोगों की हरकत है। वे इसकी आड़ में जेएनयू प्रशासन और पुलिस की मदद लेकर वामपंथी आवाजों को कैंपस में दबाना चाहते हैं।

ताजा ख़बरें

जेएनयू में हर दो-चार महीने के अंतराल में किसी न किसी बवाल की आड़ में दक्षिणपंथी और वामपंथी छात्र समूह टकराते रहते हैं। तमाम विवादों की शुरुआत इसी तरह होती है। पिछले दिनों पोस्टर लगाने के बाद तनाव बन गया था।  

जेएनयू कैंपस में अभी ये बहस जारी है, लेकिन यह लड़ाई सोशल मीडिया पर पहुंच गई है। जिनमें दक्षिणपंथी समर्थक ट्वीट करके जेएनयू कैंपस को कट्टरपंथी धार्मिक समूहों का अड्डा बता रहे हैं। कुछ इसे आतंकियों की नर्सरी लिख रहे हैं। कुछ ने मांग कर डाली है कि जेएनयू, जामिया और एएमयू को तत्काल प्रभाव से बंद कर दिया जाना चाहिए ताकि यहां आतंकी नहीं तैयार हो सकें। आइसा समर्थक छात्रों का कहना है कि इन नारों के पीछे गंदी संघी मानसिकता काम कर रही है जो इसकी आड़ में अपना मकसद पूरा करना चाहते हैं।

JNU: Casteist slogans written in JNU, tension increasing  - Satya Hindi
जेएनयू में ऐसा स्लोगन भी लिखा गया

आइसा समर्थक छात्रों का कहना है कि इंटरनेशल स्टडीज की तीसरी मंजिल पर लिखे गए इन वाहियात नारों को देखकर लगता है कि इन्हें बहुत समय देकर बहुत तसल्ली से लिखा गया है। ताज्जुब है कि जेएनयू के सुरक्षा विंग के अधिकारियों की नजर इस तरह की हरकत करने वालों पर नहीं पड़ी और खुराफाती अपनी हरकत करके गायब हो गए।

जेएनयू परिसर में अप्रैल 2022 में चारों ओर 'भगवा जेएनयू' के पोस्टर और भगवा झंडे दिखे।हिंदू सेना द्वारा कथित तौर पर लगाए गए झंडे और पोस्टरों में एबीवीपी के छात्रों के साथ एकजुटता दिखाई गई थी। इन पोस्टरों और भगवा झंडा लगाने वाले संगठन हिन्दू सेना ने कहा था कि जेएनयू कैंपस में भगवा का अनादर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

जेएनयू में अप्रैल में ही रामनवमी के मौके पर मीट परोसने को लेकर एबीवीपी और लेफ्ट समर्थक छात्र समूहों के बीच मारपीट हुई थी। आरोप है कि कावेरी हॉस्टल की मेस में एबीवीपी समर्थकों ने लेफ्ट समर्थक छात्रों पर हमला किया। इसमें कई छात्र घायल हो गए। वसंतकुंज थाने में अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआऱ दर्ज हुई। लेफ्ट समर्थक छात्रों ने एबीवीपी का नाम लिया था। एबीवीपी ने वामपंथी छात्रों पर रामनवमी पूजा में बाधा डालने का आरोप लगाया। लेकिन यह विवाद मीट परोसे जाने को लेकर हुआ था। एबीवीपी समर्थकों ने चेतावनी दी थी कि मीट न परोसा जाए। हालांकि बाद में एबीवीपी ने कहा कि हम लोग मीट के खिलाफ नहीं हैं। लेकिन उस दिन रामनवमी थी तो हमने मीट नहीं परोसने के लिए कहा था। वैसे हम मीट के खिलाफ नहीं है। इस पर लेफ्ट छात्रों ने कहा था कि कौन क्या खाएगा, यह एबीवीपी नहीं तय कर सकता। एबीवीपी ने बाद में वसंतकुंज थाने में जवाबी एफआईआर लेफ्ट समर्थक छात्रों पर कराई।

देश से और खबरें

जेएनयू कैंपस से गायब नजीब नामक छात्र का पता कई वर्षों बाद भी नहीं चल पाया है। यह घटना भी छात्रसंघ चुनाव के दौरान हुई थी। इस मामले में भी वामपंथी छात्र संगठनों ने एबीवीपी पर आरोप लगाए थे। लेकिन यह मामला अब पूरी तरह दब चुका है। नजीब की मां आज भी बेटे का इंतजार कर रही है। नजीब जेएनयू से एफफिल कर रहे थे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें