loader
फिल्म काली की डायरेक्टर लीना मणिमेकलाई

कालीः विवाद बढ़ा, यूपी में भी FIR, भारत ने कनाडा से पोस्टर हटाने को कहा

काली फिल्म पर विवाद बढ़ता जा रहा है। दिल्ली के बाद अब यूपी में फिल्म की डायरेक्टर लीना मणिमेकलाई समेत फिल्म के निर्माता के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज की गई है। भारत सरकार ने कनाडा से कहा है कि वो उस प्रदर्शनी से इस विवादित फिल्म को फौरन हटाए, जिसमें भारतीय देवी का अपमान किया गया है। लीना ने कहा है कि वो सच बताने के लिए अपनी आवाज बुलंद करती रहेंगी, चाहे इसके लिए उन्हें अपनी जान देना पड़े।
निर्देशक लीना मणिमेकलाई की डॉक्यूमेंट्री फिल्म काली के पोस्टर ने हिंदू देवी काली के अपमानजनक चित्रण की वजह से एक बड़े विवाद को जन्म दे दिया है। इस फिल्म में देवी काली को सिगरेट पीते दिखाया गया है। हालांकि फिल्म एलजीबीटी कम्युनिटी के मुद्दों पर है। फिल्म का पोस्टर डायरेक्टर लीना ने खुद ट्वीट किया था।
ताजा ख़बरें
सबसे पहले दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल ने फिल्म से जुड़े लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की । फिल्म का पोस्टर 4 जुलाई को आया था, उसको देखते ही दिल्ली में एफआईआर कराई गई। कुल मिलाकर दिल्ली में दो एफआईआर हो गई है। एक एफआईआर दिल्ली के एक वकील ने भी 4 जुलाई को ही दर्ज कराई थी।

अब यूपी पुलिस ने लीना के खिलाफ आपराधिक साजिश, पूजा स्थल में अपराध, जानबूझकर धार्मिक भावनाओं को आहत करने और शांति भंग करने के इरादे से एफआईआर दर्ज की है। यह एफआईआर लखनऊ के हजरतगंज थाने में दर्ज की गई है। यूपी के कई अन्य शहरों में भी एफआईआर दर्ज कराई जा रही है।

दिल्ली जिस वकील ने एफआईआर कराई है, उसने पोस्टर के साथ धार्मिक भावनाओं को आहत करने का आरोप लगाते हुए शिकायत दी थी। वकील ने आपत्तिजनक तस्वीर पर प्रतिबंध लगाने की मांग की थी और कहा था कि यह हिंदू समुदाय के लिए अपमानजनक है।

फिल्म एक शाम की घटनाओं के इर्द-गिर्द घूमती है, जब काली प्रकट होती है और टोरंटो की सड़कों पर टहलती है। मैं फिल्म के जरिए सच बताती रहूंगी, चाहे इसके लिए मुझे जो भी कीमत चुकानी पड़े।


-लीना मणिमेकलाई, फिल्म काली की डायरेक्टर

इस बीच, कनाडा के ओटावा में भारतीय उच्चायोग ने डॉक्यूमेंट्री फिल्म पर आपत्ति जताई। एक बयान में, उसने कहा कि कनाडा में हिंदू समुदाय के नेताओं से आगा खान संग्रहालय, टोरंटो में प्रदर्शित फिल्म काली के पोस्टर पर हिंदू देवताओं के अपमानजनक चित्रण के संबंध में शिकायतें प्राप्त हुई थीं।
भारत सरकार की ओर से भारतीय हाईकमीशन ने कनाडा सरकार और अंडर द टेंट इवेंट के अधिकारियों से इस फिल्म के पोस्टर और फिल्म को प्रदर्शनी स्थल से हटाने का आग्रह किया है।
यह विवाद अब धीरे-धीरे बढ़ रहा है। क्योंकि ट्विटर पर भी इसके खिलाफ अभियान शुरू हो चुका है। हालांकि इससे फिल्म की लोकप्रियता बढ़ रही है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें