loader

विद्यासागर की मूर्ति तोड़ने पर बवाल, बंगाल में तनाव

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के पश्चिम बंगाल के कोलकाता में रोड शो के दौरान हुए बवाल और समाज सुधाकर ईश्वर चंद्र विद्यासागर की मूर्ति तोड़े जाने की घटना ने बड़ा रूप ले लिया है। बीजेपी और तृणमूल कांग्रेस इसे लेकर आमने-सामने आ गए हैं। मुद्दे की गंभीरता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि अमित शाह ने इस पर तुरंत प्रेस कॉन्फ़्रेस कर तृणमूल पर आरोपों की बौछार कर दी। दूसरी ओर तृणमूल ने भी बीजेपी को जवाब देते हुए राज्य भर में प्रदर्शन किए हैं।
ताज़ा ख़बरें
अमित शाह ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस में कहा कि बंगाल में अब तक हर चरण में हिंसा हुई है, इसका मतलब साफ़ है कि तृणमूल कांग्रेस ही हिंसा करवा रही है। शाह के मुताबिक़, टीएमसी के लोगों ने हिंसा की और टीएमसी के ही गुंडों ने ही ईश्वर चंद्र विद्यासागर की प्रतिमा भी तोड़ी है। शाह ने कहा कि रोड शो से पहले ही वहाँ लगे बीजेपी के पोस्टर फाड़ दिए गए। रोड शो में 3 बार हमले किए गए और तोड़फोड़, आगजनी की गई। इसके अलावा बोतल में केरोसिन डालकर हमला किया गया।

सौभाग्य से ही बच पाया

शाह ने कहा, ‘मैं इतना कहना चाहता हूँ कि अगर सीआरपीएफ़ न होती तो मेरा वहाँ से बच निकलना बहुत मुश्किल था, सौभाग्य से ही मैं वहाँ से बचकर आया हूँ।’ शाह ने कहा कि हमारे बहुत सारे कार्यकर्ता मारे गए हैं, मुझ पर हमला होना भी स्वाभाविक था। उन्होंने कहा कि इससे यह तय हो गया है कि तृणमूल कांग्रेस किसी भी हद तक जा सकती है।
बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि ईश्वर चंद्र विद्यासागर की प्रतिमा कमरों के अंदर है। कॉलेज बंद हो चुका था, सब लॉक हो चुका था, फिर किसने कमरे खोले। ताला भी नहीं टूटा है, फिर चाबी किसके पास थी। शाह ने कहा कि  चुनाव आयोग बंगाल में मूक दर्शक बना हुआ है। चुनाव आयोग को इसमें तुरंत हस्तक्षेप करना चाहिए। उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग की निष्पक्षता पर सवाल उठ रहे हैं। बीजेपी ने दिल्ली के जंतर-मंतर में मूक-विरोध प्रदर्शन किया है। 
Kolkata BJP-TMC clash Mamata Banerjee Vidyasagar - Satya Hindi

तृणमूल ने किया प्रदर्शन

राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने रात में ही विद्यासागर कॉलेज का दौरा कर हालात का जायजा लिया था। बनर्जी ने कहा कि बीजेपी हताश हो गई है। वह हमारे महापुरुषों का अनादर कर रहे हैं।  बनर्जी ने आरोप लगाया है कि अमित शाह के साथ लगभग पंद्रह हज़ार लोगों की जो भीड़ थी, उनमें बड़ी संख्या में बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश के अलावा राजस्थान से बटोर कर लाये गये लोग शामिल थे।
उधर, तृणमूल अध्यक्ष ममता बनर्जी ने बेलाघाट से पैदल मार्च निकालने का ऐलान किया है। तृणमूल कार्यकर्ताओं ने बुधवार को कोलकाता में विरोध मार्च निकाला। ख़बर है कि विद्यासागर कॉलेज के छात्रों ने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज करा दी है। घटना के विरोध में टीएमसी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल और फ़ेसबुक पेज पर ईश्वरचंद्र विद्यासागर की तस्वीर लगाई है। टीएमसी के सभी प्रमुख नेताओं ने ट्विटर और फ़ेसबुक पर विद्यासागर की तसवीर को लगाया है।
सीपीआई(एम) ने भी विद्यासागर की मूर्ति तोड़े जाने के ख़िलाफ़ कोलकाता में बड़े पैमाने पर प्रदर्शन किया है। पार्टी के महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा है कि इस मामले की जाँच होनी चाहिए।
बता दें कि बंगाल में इस बार भारतीय जनता पार्टी और तृणमूल में जोरदार लड़ाई है। लोकसभा चुनाव के छह चरणों में लगातार हिंसा हुई है। चुनाव से पहले कई बार बीजेपी ने आरोप लगाया कि ममता बनर्जी ने उन्हें जनसभा और पदयात्रा करने से रोकने की कोशिश की है। बीजेपी की रणनीति है कि लोकसभा चुनाव में अगर उसे कुछ राज्यों में सीटों का नुक़सान होता है तो वह उसकी भरपाई बंगाल से कर ले। दूसरी ओर तृणमूल कांग्रेस का लक्ष्य है कि वह पश्चिम बंगाल से जीती गई मौजूदा 34 लोकसभा सीटों को न केवल बरक़रार रखे बल्कि बीजेपी को राज्य में न घुसने दे।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें