loader
फ़ाइल फ़ोटो

मणिपुर: धमकियों के ख़िलाफ़ पत्रकारों ने किया प्रदर्शन

मणिपुर लंबे समय से संघर्ष का क्षेत्र रहा है। इस राज्य में पत्रकारों को सरकार और उग्रवादी संगठनों के दबाव का सामना करना पड़ता रहा है। छोटे उग्रवादी संगठन मीडिया के माध्यम से वैधता हासिल करने के लिए दबाव की रणनीति अपनाते हैं। वे अखबारों का इस्तेमाल नोटिस बोर्ड के रूप में करना चाहते हैं। वे अपनी धमकी को प्रचारित करने के लिए मीडिया का सहारा लेना चाहते हैं। 
दिनकर कुमार

उत्तर-पूर्व के राज्यों में पत्रकारों को जान जोखिम में डालकर काम करना पड़ता है। खास तौर पर उग्रवादी संगठनों के हिंसक रवैये को लेकर कई बार अखबार का प्रकाशन स्थगित करने की भी नौबत आ जाती है। एक तरफ उग्रवादी हमले की आशंका रहती है तो दूसरी तरफ सरकारी दमन का खतरा मंडराता रहता है। 

मणिपुर में मीडिया बिरादरी के सदस्यों ने बुधवार को एक उग्रवादी संगठन के दबाव और "धमकी" के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन किया।

इम्फाल में ऑल मणिपुर वर्किंग जर्नलिस्ट्स यूनियन और एडिटर्स गिल्ड मणिपुर द्वारा विरोध प्रदर्शन आयोजित किया गया। पत्रकारों के संगठनों ने पहले अनिश्चितकाल के लिए समाचार पत्रों के प्रकाशन को रोकने का फैसला किया था लेकिन फिर वे इसे गुरुवार से जारी रखने के लिए सहमत हुए।

ताज़ा ख़बरें

पत्रकारों और संपादकों ने विरोध प्रदर्शन से पहले एक आपात बैठक की, जिसमें उन्होंने इस उग्रवादी संगठन के बारे में समाचार प्रकाशित नहीं करने का फैसला किया। हालांकि, संगठन की पहचान स्पष्ट नहीं की गई है।

ऑल मणिपुर वर्किंग जर्नलिस्ट्स यूनियन के एक पदाधिकारी ने बताया कि मीडिया हाउस समाचार के प्रकाशन के संबंध में एक उग्रवादी समूह के दबाव में आ गए थे। उन्होंने कहा कि संगठन के भीतर ही संकट पैदा हो गया और हम त्रिशंकु की तरह फंस गए हैं।

घटनाक्रम की जानकारी रखने वाले एक अन्य पदाधिकारी ने मीडिया को बताया कि यह पहली बार नहीं है जब राज्य में पत्रकार दबाव का सामना कर रहे हैं। उन्होंने कहा, "कुछ समाचारों को छापने या न छापने के लिए दबाव का सिलसिला चलता रहा है।" 

वर्ष 2000 में ऐसे ही हालात बने थे जब विरोध जताने के लिए पत्रकारों ने मणिपुर में 10 दिनों तक अखबारों का प्रकाशन स्थगित रखा था।

दबाव में हैं पत्रकार 

मणिपुर लंबे समय से संघर्ष का क्षेत्र रहा है। इस राज्य में पत्रकारों को सरकार और उग्रवादी संगठनों के दबाव का सामना करना पड़ता रहा है। हालांकि पत्रकारों का समुदाय जिम्मेदारी से अपने कर्तव्य का निर्वहन कर रहा है और देश के कानून और आम लोगों के प्रति अपनी प्रतिबद्धता के साथ प्रेस की स्वतंत्रता की भावना को जोखिम उठाकर भी संतुलित करता रहा है।

छोटे उग्रवादी संगठन मीडिया के माध्यम से वैधता हासिल करने के लिए दबाव की रणनीति अपनाते हैं। वे अखबारों का इस्तेमाल नोटिस बोर्ड के रूप में करना चाहते हैं। वे अपनी धमकी को प्रचारित करने के लिए मीडिया का सहारा लेना चाहते हैं। 

लंबे समय से चले आ रहे संघर्ष और सरकार की दमनकारी नीतियों ने कई छिटपुट संगठनों के लिए सिर उठाने की जमीन तैयार की है। जबरन वसूली, फिरौती के लिए अपहरण, कंगारू अदालत, बम विस्फोट और आतंकी रणनीति के सहारे ये संगठन काम करते रहे हैं।

उग्रवादी गुटों के बीच फंसता मीडिया

इसी तरह के हालात में अक्टूबर 2010 में अखबारों ने तीन दिनों के लिए प्रकाशन बंद कर दिया था। जब कोई उग्रवादी गुट किसी संगठन से अलग होता है तो समाचार पत्रों और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के माध्यम से एक समूह के रूप में वैधता हासिल करना चाहता है, जबकि मूल गुट नए समूह के प्रकाशन को रोकना चाहता है, जिसके परिणामस्वरूप दोनों समूहों और मीडिया के बीच सीधा टकराव होता है।

जून, 2008 में मणिपुर के मुख्य सचिव ने पुलिस प्रमुख के साथ प्रतिबंधित संगठनों के हैंडआउट के प्रकाशन को सेंसर करने की बात कही और ऐसा नहीं करने पर अखबारों के पंजीकरण को रद्द करने के लिए भारत के समाचार पत्रों के रजिस्ट्रार से संपर्क करने की चेतावनी दी थी।

देश से और ख़बरें

सरकार ने यह कदम तब उठाया था जब प्रेस समुदाय प्रतिबंधित कंगालीपाक कम्युनिस्ट पार्टी के एक समूह के खतरे से जूझ रहा था, क्योंकि उसने उसके एक प्रेस नोट को प्रकाशित करने से इनकार कर दिया था। 2007 में जब प्रेस ने खुद को इसी तरह के संकट में पाया था, तब सरकार ने भूमिगत संगठनों के प्रेस-नोटों के 'उदार' प्रकाशन को प्रतिबंधित करने वाले एक ज्ञापन का प्रस्ताव किया, जिसमें तर्क दिया गया कि भूमिगत संगठनों के दबाव को कम करने में मदद मिल सकती है। ऑल मणिपुर वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन ने तब ऐसा करने से मना कर दिया था।

जून, 2008 में ऑल मणिपुर वर्किंग जर्नलिस्ट्स यूनियन के प्रतिनिधिमंडल ने सरकार के इस आरोप को बेबुनियाद बताते हुए चुनौती दी कि स्थानीय प्रशासन प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के दिशा-निर्देशों का पालन नहीं कर रहा है। तब सरकार ने धमकी दी थी कि समाचार पत्रों पर कड़ी निगरानी रखी जाएगी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
दिनकर कुमार
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें