loader

इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ग़ैर जिम्मेदार है: सीजेआई रमना

सीजेआई एनवी रमना ने मीडिया के कामकाज को लेकर तीखी टिप्पणी की है। सीजेआई ने शनिवार को एक कार्यक्रम में कहा कि मीडिया कंगारू कोर्ट चला रहा है। उन्होंने इलेक्ट्रॉनिक और सोशल मीडिया की आलोचना की और कहा कि वे लोकतंत्र को नुकसान पहुंचा रहे हैं।

बताना होगा कि कुछ दिन पहले सुप्रीम कोर्ट की एक बेंच ने पैगंबर मोहम्मद पर विवादित टिप्पणी करने वाली बीजेपी नेता नूपुर शर्मा को जमकर लताड़ लगाई थी। उसके बाद सोशल मीडिया पर सुप्रीम कोर्ट के खिलाफ कई दिन तक अभियान चलाया गया था और बेहद खराब टिप्पणियां की गई थीं।

जस्टिस रमना ने इस संदर्भ में कहा, “सोशल मीडिया पर जजों के खिलाफ लगातार अभियान चलाया जा रहा है। न्यायाधीश तुरंत प्रतिक्रिया नहीं देते लेकिन इसे किसी तरह की कमजोरी या लाचारी समझने की गलती न करें।”

रांची में आयोजित एक कार्यक्रम में सीजेआई ने कहा कि मीडिया के नए टूल्स में प्रसार करने की बड़ी क्षमता है लेकिन ऐसा लगता है कि वह सही और गलत, अच्छे और बुरे, असली और नकली के बीच में अंतर नहीं कर पाते। 

ताज़ा ख़बरें

सीजेआई ने कहा कि किसी भी मामले का फैसला करने में मीडिया ट्रायल एक गाइडिंग फैक्टर नहीं हो सकता। हम देखते हैं कि मीडिया कंगारू कोर्ट चला रहा है और कभी-कभी अनुभवी न्यायाधीशों के लिए भी कुछ मामलों में फैसला करना बेहद मुश्किल हो जाता है।

निश्चित रूप से सीजेआई की यह टिप्पणियां बेहद गंभीर हैं और मीडिया के कामकाज पर एक बड़ा सवाल भी है।

  1. सीजेआई ने आगे कहा कि न्याय देने से जुड़े मुद्दों पर गलत जानकारी और एजेंडा चलाने वाली बहसें लोकतंत्र की सेहत के लिए हानिकारक साबित हो रही हैं।
  2. प्रधान न्यायाधीश ने कहा कि मीडिया द्वारा फैलाए जा रहे पक्षपातपूर्ण विचार लोकतंत्र को कमजोर कर रहे हैं और हमारी व्यवस्था को नुकसान पहुंचा रहे हैं। 
  3. रमना ने कहा कि इस प्रक्रिया से इंसाफ देने पर खराब असर पड़ रहा है। उन्होंने मीडिया को लेकर बेहद तल्ख टिप्पणी करते हुए कहा कि वह अपनी जिम्मेदारी का अतिक्रमण और उल्लंघन कर हमारे लोकतंत्र को दो कदम पीछे ले जा रहा है।
  4. सीजेआई ने कहा कि प्रिंट मीडिया में अभी भी कुछ हद तक जवाबदेही है जबकि इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ग़ैर जिम्मेदार है। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया अभी भी बदतर है।
  5. सीजेआई ने कहा कि मीडिया के लिए यह सबसे अच्छा है कि वह खुद को सेल्फ रेग्युलेट करे और अपने शब्दों को तौले। 
  6. रमना ने अपील की कि इलेक्ट्रॉनिक और सोशल मीडिया जिम्मेदारी के साथ व्यवहार करें। उन्होंने कहा कि इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को अपनी आवाज़ का इस्तेमाल लोगों को शिक्षित करने और देश को ऊर्जावान बनाने के लिए करना चाहिए।

देखना होगा कि सीजेआई के द्वारा की गई टिप्पणियों का क्या मीडिया चैनलों पर कुछ असर होगा और वे अपने कामकाज के तरीके में कुछ बदलाव करेंगे। 

देश से और खबरें
याद दिलाना होगा कि नूपुर शर्मा के खिलाफ तीखी टिप्पणियां करने वाली बेंच में शामिल जस्टिस जेबी पारदीवाला ने कहा था कि जजों पर व्यक्तिगत हमले एक ख़तरनाक स्थिति है। उन्होंने भी सोशल मीडिया के रेग्युलेशन की बात कही थी। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें