loader

मेहुल चोकसी से क्या एक बड़ा भारतीय नेता बात करना चाहता था?

भगोड़ा कारोबारी मेहुल चोकसी ने अब दावा किया है कि उससे एक बड़ा भारतीय नेता बात करना चाहता था। उसने यह दावा एंटीगुआ और बारबाडोस पुलिस को दी गई शिकायत में किया है। दरअसल चोकसी ने अपने अगवा किए जाने के मामले में रिपोर्ट दर्ज कराई है और उसमें बारबरा जराबिका, दो भारतीय- नरेंद्र सिंह व गुरमीत सिंह और अन्य अज्ञात लोगों के नाम हैं। शिकायत में कहा गया है कि जब अगवा करने वाले उसे डोमिनिका में ले गए तो वहाँ बताया गया कि बड़े ओहदे का राजनेता उससे बात करेगा। 

मेहुल चोकसी द्वारा अपने अगवा किए जाने की शिकायत 3 जून को पुलिस से की गई थी। उसकी रिपोर्टें मीडिया में अब सामने आई हैं। चोकसी 23 मई को लापता हो गया था।

ताज़ा ख़बरें

चोकसी जनवरी 2018 यानी तीन साल से एंटीगुआ में था और सब कुछ सामान्य चल रहा था कि 23 मई को चौंकाने वाली ख़बर आई। ख़बर थी चोकसी के लापता होने की। चौंकाने की ख़बर इसलिए थी कि वह 13 हज़ार करोड़ के पीएनबी ऋण घोटाले में आरोपी है। परिवार ने ग़ायब होने की शिकायत दर्ज कराई थी। लेकिन दो दिन बाद ही 25 मई को इसमें तब अचानक नया मोड़ आ गया जब डोमिनिका में अवैध रूप से घुसने के लिए चोकसी को गिरफ़्तार कर लिया गया। अगले ही दिन डोमिनिका की अदालत में चोकसी के वकीलों की टीम तैयार थी। इसने आरोप लगाया चोकसी लापता नहीं हुए थे बल्कि उन्हें अगवा किया गया, मारपीट की गई और उन्हें डोमिनिका ले आया गया।

चोकसी ने अगवा किए जाने की जो शिकायत दर्ज कराई है उसमें एक लड़की का नाम है। यहीं से इस पूरे मामले की शुरुआत होती है। उस लड़की के बारे में एंटीगुआ के प्रधानमंत्री गेस्टन ब्राउन ने एक इंटरव्यू में कहा था कि चोकसी एंटीगुआ से अपनी गर्लफ्रेंड के साथ समय बिताने के लिए डोमिनिका में गया था और उसने यही बड़ी ग़लती कर दी।

एंटीगुआ के प्रधानमंत्री गेस्टन ब्राउन ने चोकसी के जिस 'गर्लफ्रेंड' का ज़िक्र किया है उसको चोकसी के परिवार वाले ने हनीट्रैप वाली लड़की होने का आरोप लगाया है।

पुलिस को दी गई शिकायत में भी चोकसी इस बात का ज़िक्र करता है। 'टीओआई' की रिपोर्ट के अनुसार चोकसी ने आरोप लगाया है कि बारबरा जबारिका अगवा करने वालों से मिली हुई लगती है। उसने 23 मई की घटनाओं के बारे में कहा कि उसे जबारिका द्वारा उसके घर पर शाम 5 बजे आमंत्रित किया गया था। आरोप है कि जब वह वहाँ घर के बाहर इंतज़ार कर रहा था तो कुछ लोगों ने उसको कब्जे में ले लिया। शिकायत में कहा गया है कि 'एंटीगुआ पुलिस से होने का दावा करते हुए 8-10 लोगों ने मुझे बुरी तरह पीटा। मैं मुश्किल से होश में था। उन्होंने मेरा फ़ोन, घड़ी और वालेट ले लिया।' उसने यह कहते हुए जबारिका पर संदेह जताया है कि जब उसे पीटा जा रहा था तो उसने सहायता करने की कोशिश भी नहीं की। 

देश से और ख़बरें

चोकसी ने दावा किया कि उसे एक नाव में ले जाया गया जिसमें दो भारतीय थे और तीन कैरीबियाई। हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस की शिकायत में कहा गया है, '...मुझे बताया गया कि मुझे एक उच्च पदस्थ भारतीय राजनेता को साक्षात्कार देने के लिए इस ख़ास स्थान पर लाया गया है। उन्होंने मुझसे यह भी कहा कि डोमिनिका में मेरी नागरिकता 'फिक्स' हो जाएगी और मुझे जल्द ही भारत वापस भेज दिया जाएगा।' 

चोकसी द्वारा किए गए दावों की सच्चाई क्या है, यह साफ़ नहीं है। इसके पीछे क्या सच में किसी बड़े राजनेता का हाथ है या फिर चोकसी ने अपने बचने के लिए कोई नयी कहानी गढ़ी है, हो सकता है कि यह बाद में पता चले। लेकिन इतना तो तय है कि जिस तरह से एंटीगुआ और डोमिनिका में अलग-अलग मामले कोर्ट में चल रहे हैं व जाँच चल रही है उससे यह मामला और उलझता ही जाएगा और चोकसी को वापस भारत लाने में भी उतनी ही ज़्यादा देरी होगी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें