loader

पीएम मोदी बोले- किसानों के दरवाजे तक पहुंची सरकार 

किसान आंदोलन के कारण मुश्किल में फंसी मोदी सरकार एक बार फिर किसानों को कृषि क़ानून के फायदे बता रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसानों को संबोधित किया और कई राज्यों के किसानों से बात की है।   

किसानों को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘किसानों को फसल बेचने के लिए बाज़ार मिलना चाहिए। सरकार ने मंडियों को ऑनलाइन किया है। आज देश में 10 हज़ार से ज़्यादा किसान उत्पादक संघ को मदद दी जा रही है। देश भर में कोल्ड स्टोरेज बनाने के लिए सरकार करोड़ों रुपये ख़र्च कर रही है।’ 

किसान क्रेडिट कार्ड दिया 

मोदी ने कहा, ‘बीते कुछ महीनों में ढाई करोड़ किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड दिया गया है। हमारी सरकार ने अनेक नए कृषि संस्थान खोले हैं। आज जो लोग किसानों के लिए आंसू बहा रहे हैं, जब ये लोग सरकार में थे इन्होंने किसानों के लिए क्या किया, ये किसान अच्छी तरह जानते हैं।’

उन्होंने कहा कि सरकार किसानों के दरवाजे तक पहुंची है। छोटे किसानों को सरकार बिजली और गैस के मुफ़्त कनेक्शन के साथ ही आयुष योजना के तहत पांच लाख रुपये का मुफ़्त इलाज भी दे रही है। 

सरकार ने पीएम किसान योजना के तहत 18 हज़ार करोड़ रुपये किसानों के खातों में ट्रांसफ़र किए गए हैं। ये रकम 9 करोड़ से ज़्यादा किसानों के खातों में गई है।
मोदी ने कहा कि इन क़ानूनों को लागू हुए कई महीने हो चुके हैं क्या लेकिन किसी ने भी किसी मंडी के बंद होने की ख़बर सुनी है। उन्होंने कहा कि सरकार ने कई फसलों का एमएसपी बढ़ाया है और नए क़ानून बनने के बाद रिकॉर्ड स्तर पर ख़रीद की है। 

ताज़ा ख़बरें

पीएम मोदी का भाषण किसानों तक ढंग से पहुंच सके इसके लिए जहां पर किसान इकट्ठा हुए हैं, वहां बड़ी-बड़ी टीवी स्क्रीन लगाई गई हैं। पार्टी के मुताबिक़, ऐसी 19 हज़ार जगहें हैं, जहां पर ऐसे इंतजाम किए गए हैं। पार्टी ने जिले से लेकर ब्लॉक स्तर तक इंतजाम किए हैं। 

बीजेपी महासचिव अरूण सिंह ने कार्यकर्ताओं से कहा था कि वे एपीएमसी की मंडियों या सरकारी मंडियों के बाहर इकट्ठा हों। उनके साथ पार्टी के निर्वाचित जनप्रतिनिधियों को भी मौजूद रहने के लिए कहा गया था। 

बीजेपी और मोदी सरकार अब तक किसान आंदोलन का कोई हल नहीं निकाल पाए हैं। दोनों ने कृषि क़ानूनों को किसानों के हित में बताने और इस आंदोलन को एक राज्य का आंदोलन बताने में पूरी ताक़त झोंकी हुई है। 

किसान आंदोलन पर देखिए वीडियो- 

तमाम छोटे से बड़े नेता और ख़ुद प्रधानमंत्री तक किसानों के आगे गुहार-मनुहार लगा चुके हैं, सरकार किसानों से धरना ख़त्म करने की अपील कर चुकी है लेकिन किसान सैकड़ों बार साफ कर चुके हैं कि वे इन तीनों क़ानूनों के रद्द होने के बाद ही आंदोलन ख़त्म करेंगे। 
बीजेपी और मोदी सरकार अपना पूरा जोर लगा लेना चाहते हैं। क्योंकि अगर मोदी सरकार को झुकना पड़ा तो आने वाले कुछ महीनों में कई राज्यों में चुनाव हैं, वहां ग़लत मैसेज जाएगा। ग़लती से इन राज्यों में खासकर बंगाल में हार मिली तो फिर उससे आगे की चुनावी राह और मुश्किल हो जाएगी।

फिर बातचीत के लिए बुलाया 

किसानों को मनाने की सारी कोशिशें कर थक-हार चुकी केंद्र सरकार ने एक बार फिर हिम्मत बांधी है और किसानों को बातचीत के लिए बुलाया है। मोदी सरकार की ओर से गुरूवार को किसान संगठनों को पत्र भेजा गया है। पत्र में कहा गया है कि वे कृषि क़ानूनों को लेकर अगले दौर की बातचीत के लिए तारीख़ और वक़्त तय करें। इससे पहले कई दौर की बातचीत बेनतीजा हो चुकी है।

देश से और ख़बरें
किसानों को डर है कि नए कृषि क़ानूनों से उनकी ज़मीन कॉरपोरेट्स के पास चली जाएगी। कड़ाके की इस ठंड में जमे किसानों के हौसले बुलंद हैं, ऐसे में वे पीछे हटेंगे ऐसा बिलकुल नहीं दिखता, देखना होगा कि सरकार कब तक इस आंदोलन से लड़ पाती है।
टिकरी-सिंघु से लेकर ग़ाजीपुर बॉर्डर तक बड़ी संख्या में इकट्ठा हो चुके किसानों का आंदोलन बढ़ता जा रहा है। देश के दूसरे राज्यों से भी बड़ी संख्या में किसानों ने दिल्ली कूच किया है। रेवाड़ी बॉर्डर पर भी किसानों का धरना जारी है।

विपक्ष ने बढ़ाया दबाव 

कृषि क़ानूनों के मसले पर तमाम विपक्षी दलों ने भी केंद्र सरकार पर ख़ासा दबाव बढ़ा दिया है। किसानों की भूख हड़ताल से लेकर भारत बंद तक के कार्यक्रम को विपक्षी दलों का समर्थन मिला है। हालांकि किसानों ने अपने आंदोलन को पूरी तरह ग़ैर राजनीतिक रखा है लेकिन मोदी सरकार से लड़ने में ख़ुद को अक्षम पा रहे विपक्ष को किसान आंदोलन से ऊर्जा मिली है और वह खुलकर किसानों के समर्थन में आगे आया है। 

सोशल मीडिया पर भी विपक्षी दलों के कारकून खुलकर किसान आंदोलन का समर्थन कर रहे हैं, ऐसे में बीजेपी के कार्यकर्ताओं को उनसे निपटने में पसीने छूट रहे हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें