loader

मोदी : बांग्लादेश की आज़ादी के लिए सत्याग्रह किया था, जेल गया था

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बांग्लादेश की राजधानी ढाका में एक कार्यक्रम में कहा कि उन्होंने भी बांग्लादेश की मुक्ति के लिए सत्याग्रह किया था। उन्होंने कहा कि यह उनके शुरुआती आन्दोलनों में से एक था, उस समय वे किशोर उम्र से थोड़े ही ज़्यादा थे। 

उन्होंने कहा, "बांग्लादेश का स्वतंत्रता संग्राम मेरी यात्रा का भी एक महत्वपूर्ण क्षण था, मैंने और मेरा साथियों ने भारत में सत्याग्रह किया था। मैं उस समय 20 वर्ष से कुछ ही अधिक का था। बांग्लादेश की आज़ादी के लिए हुए सत्याग्रह में मुझे जेल जाने का मौक़ा भी मिला था।" 

भारतीय प्रधानमंत्री ने पाकिस्तान का नाम लिए बग़ैर आतंकवाद का ज़िक्र किया और कहा कि वे एशिया में आतंकवाद के लिए कोई स्थान नहीं है। 
उन्होंने इस मौके पर उन भारतीय सैनिकों को याद किया जिन्होंने 1971 के बांग्लादेश युद्ध में भाग लिया था। मोदी ने कहा, "इस महान देश के जिन सैनिकों ने अपना बलिदान दिया, मैं उन्हें नहीं भूल सकता, न ही उन भारतीय सैनिको को भूला जा सकता है जिन्होंने बांग्लादेश का साथ दिया था। हम उनके साहस और बहादुरी को नहीं भूल सकते।" 

मुजीब को गांधी शांति पुरस्कार

भारतीय प्रधानमंत्री ने शेख मुजीबुर रहमान को मरणोपरांत गांधी शांति पुरस्कार से सम्मानित किया। उन्होंने बांग्लादेशी प्रधानमंत्री और शेख मुजीब की बेटी शेख हसीना को यह पुरस्कार सौंपा। उन्होंने कहा,

मुझे यह सम्मान देते हुए बेहद खुशी हो रही है। मैं राष्ट्रपति अब्दुल हामिद, प्रधानमन्त्री शेख हसीना और बांग्लादेश के नागरिकों का मैं आभार प्रकट करता हूँ, जिन्होंने इस कार्यक्रम में भारत को निमंत्रण दिया।


नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

पाँच क़रार होंगे

भारत और बांग्लादेश के बीच पाँच द्विपक्षीय समझौतों पर दस्तख़त होने के आसार हैं। ये समझौते ढाँचागत सुविधाओं के निर्माण से जुड़े होंगे और इससे बांग्लादेश को बड़े पैमाने पर निवेश मिल सकता है। 

बांग्लादेशी अख़बार 'द बांग्लादेश टुडे' ने विदेश मंत्री ए. के. अब्दुल मोमिन के हवाले से यह कहा है। उन्होंने कहा कि कुछ समझौतों का अंतिम स्वरूप अभी भी तय नहीं हुआ है, पर यह तय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दो दिनों की यात्रा के दौरान पाँच क़रारों पर दस्तख़त हो जाएंगे। 

ख़ास ख़बरें

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने ढाका हवाई अड्डे पर खुद आकर नरेंद्र मोदी की आगवानी की। मोदी ने ढाका के पास स्थित सवर में राष्ट्रीय शहीद स्मारक पर जाकर 1971 के युद्ध में शहीद हुए लोगों को श्रद्धांजलि दी। प्रधानमंत्री ने कहा, "बांग्लादेश के मुक्ति युद्ध में जिन लोगों ने शिरकत की, उनका साहस दूसरों को भी प्रेरणा देता है।"

प्रधानमंत्री ने इसके बाद बांग्लादेश के स्वतंत्रता संग्राम में भाग लेने वाले कुछ लोगों से मुलाकात की। उन्होंने विपक्ष के नेताओं से भी मुलाकात की।

बांग्लादेश पाकिस्तान से आज़ादी के 50 साल पूरे होने का जश्म मना रहा है। इसके साथ ही बांग्लादेश के संस्थापक माने जाने वाले शेख मुजीबुर रहमान की जन्मशती भी है। भारतीय प्रधानमंत्री को इस मौके पर शामिल होने का न्योता दिया गया था। वे इन दोनों कार्यक्रमों में भाग लेने गए हैं। 
नरेंद्र मोदी ने ढाका में भारतीय समुदाय के लोगों से भी मुलाकात की। वे इसके साथ ही वोहरा समुदाय के लोगों से भी मिले। प्रधानमंत्री ने बांग्लादेश के क्रिकेट स्टर शाकिब उल हसन से भी मुलाकात की। 
modi: i went to jail for bangladesh freedom  - Satya Hindi
बांग्लादेश के विदेश मंत्री मोमिन ने कहा कि कुछ लोगों के भारतीय प्रधानमंत्री का विरोध करने से दोनों देशों के रिश्तों पर कोई असर नहीं पड़ेगा। उन्होंने कहा कि बांग्लादेश लोकतांत्रिक देश है और लोगों को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता है। लेकिन कुछ लोगों के विरोध से कुछ फर्क नहीं पड़ेगा। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें