loader

क्या दक्षिणपंथी ताक़तों के दबाव में ख़तरे में है स्टैंड अप कॉमेडी?

क्या स्टैंड अप कॉमेडी विधा भारत में ख़तरे में है? क्या एक ख़ास किस्म का दक्षिणपंथ सृजन की आज़ादी और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर अंकुश इसलिए लगाना चाहता है कि वह इसके ज़रिए एक नैरेटिव खड़ा करना चाहता है, जिसमें एक ख़ास समुदाय को खलनायक बना कर उसे निशाने पर लिया जा सके?

स्टैंड अप कॉमेडी की दुनिया के मशहूर कलाकार मुनव्वर फ़ारूक़ी के रिटायरमेंट के एलान के बाद इन सवालों का उठना लाज़िमी है। फ़ारूकी इस समय सिर्फ 29 साल के हैं, बेहद लोकप्रिय हैं और उनके शो में नई-नई चीजें सुनने को मिलती रहती हैं। 

12 शो रद्द

इस युवा हास्य कलाकार ने दो महीने के अंदर 12 शो रद्द किए जाने के बाद रविवार को अपने रिटायरमेंट का एलान कर दिया। इसके पहले वे एक महीने तक जेल में रह चुके हैं, जिसके बारे में उनका कहना है कि जो बातें उन्होंने कही ही नहीं, उनके लिए उन्हें जेल में डाल दिया गया। हाई कोर्ट तक ने उन्हें ज़मानत देने से इनकार कर दिया था और सुप्रीम कोर्ट में अपील करने के बाद ही उन्हें राहत मिल सकी थी। 

ख़ास ख़बरें

क्या कहा फ़ारूक़ी ने?

रविवार को जब बेंगलुरु में उनका शो रद्द करने के लिए आयोजकों से कहा गया, तो मुनव्वर फ़ारूक़ी ने इंस्टाग्राम पर लिखा,  "नफ़रत जीत गई, आर्टिस्ट हार गया। गुड बाय।" 

उन्होंने उसके बाद ट्वीट किया, "मैं समझता हूँ कि यह अंत है। मेरा नाम मुनव्वर फ़ारूक़ी है और यह मेरा समय था। आप लोग अद्भुत श्रोता रहे हैं। गुड बाय। मैं ख़त्म कर रहा हूँ।"

munawar faruqui retires as stand up comedy in danger in india - Satya Hindi

क्या है मामला?

बता दें कि इसके पहले बेंगलुरु पुलिस ने फ़ारूक़ी का शो रद्द करने का आदेश दिया है। अशोक नगर में गुड शेफर्ड ऑडिटोरियम में यह शो होना था। लेकिन, पुलिस ने क़ानून- व्यवस्था का हवाला देते हुए आयोजकों से शो रद्द करने को कहा था।

बेंगलुरु के अशोक नगर थाने के प्रमुख ने आयोजकों को लिखी चिट्ठी में कहा था, "यह पता चला है कि मुनव्वर फ़ारूक़ी एक विवादास्पद व्यक्ति हैं। अन्य धर्मों के देवताओं पर उनके बयान की वजह से कई राज्यों ने उनके कॉमेडी शो पर प्रतिबंध लगा दिया है। पता चला है कि उनके ख़िलाफ़ मध्य प्रदेश में एक मामला दर्ज किया गया है। इसी तरह के मामले उनके ख़िलाफ़ अन्य राज्यों में भी दर्ज हैं।"

munawar faruqui retires as stand up comedy in danger in india - Satya Hindi

दक्षिणपंथी संगठनों का दबाव?

क्या पुलिस ने दक्षिणपंथी संगठनों के दबाव में आकर यह शो रद्द करने को कहा था? 

इसे इससे समझा जा सकता है कि हिंदू जागरण समिति के मोहन गौड़ा ने इसके पहले ही कहा था कि वे शो नहीं होने देंगे। गौड़ा ने कहा था, "हमने पुलिस आयुक्त के पास शिकायत दर्ज कराई है और शो को रद्द करने की माँग की है। मुनव्वर फ़ारूक़ी ने इंदौर और अन्य जगहों पर अपने शो में हिंदुओं के ख़िलाफ़ अपमानजनक टिप्पणी की है और उनकी भावनाओं को आहत किया है।" 

गौड़ा ने यह धमकी भी दी कि शो रद्द नहीं होने पर विरोध-प्रदर्शन किया जाएगा। 

मुनव्वर फ़ारूक़ी के पहले दूसरे स्टैंड अप कॉमेडियन को निशान पर लिया जा चुका है। वीर दास को अमेरिका में एक शो में 'आई कम फ्रॉम टू इंडियाज' पेश करने की वजह से भारत में निशाने पर लिया गया था। उनके ख़िलाफ़ एफ़आईआर तक दर्ज कर दी गई। वे फिलहाल अमेरिका में ही हैं और भारत में पुलिस उनके लौटने का इंतजार कर रही है। 

munawar faruqui retires as stand up comedy in danger in india - Satya Hindi
वीर दास, स्टैंड अप कॉमेडियन

थरूर ने की निंदा

फ़ारूक़ी के साथ जो कुछ हुआ, इस पर तीखी प्रतिक्रिया हो रही है और लोग सवाल उठा रहे हैं। कांग्रेस सांसद व लेखक शशि थरूर ने कहा,

यह निंदनीय है। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को कई तरह से दबाया जा रहा है, लेकिन एक स्टैंड अप कॉमेडियन के शो की जगह पर धमकी देना तुच्छता व शर्मनाक है।


शशि थरूर, सांसद, कांग्रेस

क्या कहा दिशा रवि ने?

टूल किट को लेकर चर्चा में आई पर्यावरण कार्यकर्ता दिशा रवि ने कहा, "मुनव्वर फ़ारूक़ी के साथ जो कुछ हो रहा है, वह निशाने पर लेकर हमला करना है। बुनियादी नागरिक अधिकारों का सम्मान नहीं किया जा रहा है।" 

munawar faruqui retires as stand up comedy in danger in india - Satya Hindi
स्वरा भास्कर, अभिनेत्री

स्वरा भास्कर ने क्या कहा?

अभिनेत्री स्वरा भास्कर ने ट्वीट किया, "नफ़रत करने वाले तार्किक, शिक्षित, प्रतिभा संपन्न, आकर्षक व मजाकिया लोगों से नफ़रत ही करते रहेंगे। मुनव्वर, उमर खालिद व दूसरे पढ़े लिखे मुसलमान हिन्दुत्व के लिए ख़तरा हैं।" 

एक दूसरे ट्वीट में उन्होंने कहा कि यह किसी भी समाज के लिए शर्मनाक है कि किसी को डराने धमकाने को सामान्य बनाया जा रहा है। 

हास्य की कीमत!

मशहूर स्टैंड अप कॉमेडियन कुणाल कामरा ने एक बयान में कहा, 

हास्य कलाकारों को हास्य की ऊँची से ऊँची कीमत चुकानी पड़ रही है। मैंने यह भी सुना है कि कुछ कॉमेडियन शो से पहले उसे किसी वकील को सुनाते हैं और वीडियो को ऑनलाइन करने के पहले उसे क़ानून के जानकारों को दिखाते हैं।


कुणाल कामरा, स्टैंड अप कॉमेडियन

पर्यवेक्षकों का कहना है कि कुणाल कामरा ने बेहद अहम मुद्दा उठाया है। यदि हास्य कलकार इस तरह डरे हुए रहेंगे तो उनमें सृजनशीलता नहीं बचेगी, हास्य बोध ख़त्म हो जाएगा, उनके हास्य की धार भोथरी हो जाएगी और यह सब हुआ तो हास्य भी नहीं बचेगा।

सवाल यह है कि क्या हम ऐसे भारत की ओर नहीं बढ़ रहे हैं जहां हास्य पैदा करना या लोगों को गुदगुदाना ही अपराध क़रार दिया जाता हो।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें