loader

लखीमपुर : अमर्त्य सेन पर सीतारमण का हमला, कहा, बीजेपी के कारण विरोध

लखीमपुर खीरी कांड पर पहली बार केंद्र सरकार की प्रतिक्रिया आई है, हालांकि प्रधानमंत्री अभी भी चुप्पी साधे हुए हैं।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अमेरिका के बॉस्टन में कहा कि "लखीमपुर खीरी में जो कुछ हुआ, वह पूरी तरह निंदनीय है।" लेकिन उन्होंने इसके साथ ही यह भी कहा कि "देश के दूसरे हिस्सों में भी इस तरह की वारदातें होती हैं और उन्हें भी उठाया जाना चाहिए।"

 उन्होंने कहा कि "जब इस तरह की वारदातें होती हैं, उन्हें उसी समय उठाया जाना चाहिए, ऐसा नहीं कि उसे तब उठाएं जब सुविधा हो।"  

निर्मला सीतारमण हॉवर्ड केनेडी इंस्टीच्यूट में एक कार्यक्रम में भाग लेने गई हुई थी।

उनसे कहा गया कि प्रधानमंत्री ने अब तक इस पर कुछ नहीं कहा है, दूसरे वरिष्ठ मंत्री चुप हैं और सरकार इस पर रक्षा की मुद्रा में हैं।

वित्त मंत्री ने इसका जवाब देते हुए कहा, "नहीं, बिल्कुल नहीं। यह अच्छी बात है कि आपने एक बिल्कुल निंदनीय घटना को यहां उठाया है, हम सारे लोग यह कह रहे हैं। इस तरह की वारदात देश के दूसरे हिस्सों में भी हो रही हैं।"

ख़ास ख़बरें

अमर्त्य सेन पर कटाक्ष

उन्होंने इसके साथ ही नोबेल पुरस्कार से सम्मानित भारतीय अर्थशास्त्री डॉक्टर अमर्त्य सेन का नाम भी लिया और उन पर कटाक्ष किया व हमला बोला।

वित्त मंत्री ने कहा,

डॉक्टर अमर्त्य सेन और दूसरे लोग जो भारत को अच्छी तरह जानते हैं, वे इस तरह की घटनाओं को तब उठाएं जब ये घटनाएं होती हैं, ऐसा न हो कि वे तब उठाएं जब यह उनके अनूकूल हों क्योंकि वहां बीजेपी शासन में है।


निर्मला सीतारमण, वित्त मंत्री

'रक्षा की मुद्रा में नहीं'

निर्मला सीतारमण ने इसके आगे कहा, "मेरे एक कैबिनेट सहकर्मी और उनका बेटा संकट में हैं और लोगों ने यह मान लिया है कि उन्होंने यह किया और किसी और ने नहीं किया है। न्यायिक पद्धति के तहत इसकी पूरी जाँच होनी चाहिए।"

वित्त मंत्री ने इसके आगे कहा, "मैं अपनी सरकार या प्रधानमंत्री को लेकर रक्षा की मुद्रा में नहीं हूं, मैं भारत को लेकर रक्षा की मुद्रा में हूं। मैं भारत की बात करूंगी।"

nirmala sitharman slams amartya sen on lakhimpur kheri violence - Satya Hindi
लखीमपुर खीरी कांड के ख़िलाफ़ महाराष्ट्र बंद

कृषि क़ानून

मोदी सरकार की इस वरिष्ठ मंत्री ने कृषि क़ानूनों की भी चर्चा की और उन्हें उचित ठहराया। उन्होंने कहा कि जब ये विधेयक लोकसभा में रखे गए थे तो उन पर विस्तार से चर्चा हुई थी और कृषि मंत्री ने तमाम बातों का जवाब दिया था। लेकिन जब ये राज्यसभा में पेश किए गए तो बहुत ही विरोध और शोर- शराबा हुआ था।

केंद्रीय मंत्री ने इन कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ होने वाले विरोध प्रदर्शनों को भी कम कर आँकने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि सिर्फ पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में ही किसानों ने इस कृषि क़ानूनों का विरोध किया।

कृषि क़ानूनों का अमेरिका में हुआ था विरोध

निर्मला सीतारमण ने यह भी कहा कि सरकार इन कृषि क़ानूनों पर किसानों से बात करने को तैयार है।

उन्होंने कहा कि न्यूनतम समर्थन मूल्य का एलान समय पर किया गया और उनका भुगतान भी कर दिया गया। किसानों को यह छूट है कि वे अपनी ज़मीन पर चाहें जो उपजाएं।

कृषि मंत्री ये बातें अमेरिका में कह रही थीं जहां तक इन क़ानूनों की गूंज पहुँची थी और उनका विरोध भी हुआ था। अमेरिकी कांग्रेस के कुछ सदस्यों ने इस पर चिंता जताई थी, उसके विदेश विभाग ने दिल्ली के नज़दीक किसानों पर हुई पुलिस कार्रवाइयों पर चिंता जताई थी। अमेरिकी पॉप गायिका रियाना ने ट्वीट कर इन क़ानूनों का विरोध किया था और किसानों का समर्थन किया था।

उसी अमेरिका में भारतीय वित्त मंत्री ने सिर्फ उन क़ानूनों को उचित ठहराया, बल्कि नोबेल पुरस्कार से सम्मानित एक अर्थशास्त्री पर हमला किया जबकि सेन ने लखीमपुर खीरी कांड पर अब तक कुछ कहा भी नहीं है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें