loader

SC के पूर्व जज- 'टूलकिट में कुछ भी भड़काऊ नहीं!'

दिल्ली पुलिस ने ग्रेटा तनबर्ग के जिस टूलकिट को लेकर तीन सामाजिक व पर्यावरण कार्यकर्ताओं को गिरफ़्तार किया है, उसे सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज दीपक गुप्ता ने क्लीन चिट दे दी है। उन्होंने कहा है कि इस टूलकिट में कुछ भी आपत्तिजनक, हिंसक या भड़काऊ नहीं है। इसकी सामग्री को राजद्रोह से नहीं जोड़ा जा सकता है। 

जस्टिस गुप्ता ने एनडीटीवी से कहा, "देश के हर नागरिक को शांतपूर्ण तरीके से सरकार का विरोध करने का अधिकार है। उन्होंने यह भी कहा कि दिशा रवि और उनसे जुडे़ दूसरे लोगों को गिरफ़्तार करना अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर हमला है।"

ख़ास ख़बरें
जस्टिस गुप्ता ने कहा कि टूलकिट के आधार पर दिशा रवि व दूसरे लोगों के ख़िलाफ़ राजद्रोह का मामला नहीं बनता है। उन्होंने राजद्रोह के प्रावधानों का यह कह कर विरोध किया कि औपनिवेशक शासकों ने भारत पर ब्रिटिश हुक़ूमत बरक़रार रखने के लिए राजद्रोह क़ानून बनाया था।

कौन है निकिता जेकब?

ग्रेटा तनबर्ग के टूलकिट को शेयर करने वाली निकिता जेकब की जो तसवीर सरकार, पुलिस, सत्तारूढ़ दल और उससे जुड़े लोग पेश करते हैं, सच्चाई उससे अलग है। 

30 साल की इस वकील के पास सात साल के कामकाज का अनुभव है। वह सिविल मामले ही लेती हैं और एक साधारण वकील ही समझी जाती हैं। 

निकिता ने पुणे के आइएलएस लॉ कॉलेज से लॉ की पढ़ाई की। उन्होंने वरिष्ठ वकील गिरिश गोडबोले के साथ तीन साल काम किया है। गोडबोले ने इंडिया टुडे से कहा, “निकिता ने मेरे जूनियर के रूप में तीन साल काम किया, वह कामकाज में अच्छी थीं। पर हमने यह कभी कल्पना तक नहीं की थी कि किसी दिन आपराधिक मामले में उसका नाम आएगा।” 

निकिता के बारे में यह भी कहा जा रहा है कि वह आम आदमी पार्टी से जु़ड़ी हुई हैं। लेकिन आम आदमी पार्टी ने इससे इनकार किया है। पार्टी की राष्ट्रीय प्रवक्ता प्रीति शर्मा मेनन ने कहा,

“हमने मुंबई में यह नाम नहीं सुना था। हमारी पार्टी में इस नाम का कोई नहीं है, हमारी लीगल टीम में भी नहीं है।”


प्रीति शर्मा मेनन, राष्ट्रीय प्रवक्ता, आम आदमी पार्टी

एअरोनॉटिकल इंजीनियर की नौकरी क्यों छोड़ी?

महाराष्ट्र के बीड में जन्मे शांतनु मुलुक मूल रूप से एअरोनॉटिकल इंजीनियर हैं। लेकिन उन्होंने  इंजीनियर की वह नौकरी छोड़ दी और एक ग़ैरसरकारी संगठन से जुड़ गए। पुलिस का कहना है कि उन्होंने गूगल डॉक्यूमेंट पर टूलकिट बनाने में निकिता जेकब और दिशा रवि की मदद की थी।

शांतनु मुलुक के वकील ने कहा है कि पुणे पुलिस ने बीड स्थित उनके घर पर छापा मारा है और उनके माता-पिता को बेवजह परेशान किया जा रहा है। 

मुलुक किसानों के मुद्दे पर पहले भी काम करते रहे हैं और उन्हें लेकर चिंतित रहे हैं। शांतनु के पिता ने कहा है कि मुलुक पर्यावरण सरंक्षण पर काम करते रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा है कि उनके परिवार को जानबूझ कर और बेवजह परेशान किया जा रहा है। 

दिल्ली पुलिस के ज्वायंट कमिश्नर प्रेम नाथ ने कहा है कि शांतनु मुलुक के साथ हुई ज़ूम बैठक में बात की गई थी कि ‘ग्लोबल डे ऑफ़ एक्शन’ 26 जनवरी को ‘ग्लोबल फ़ॉर्मर स्ट्राइक’ के लिए टूलकिट बनाने के लिए क्या और कैसे किया जाए। 

पुलिस का कहना है कि शांतनु मुलुक 26 जनवरी के पहले टिकरी बॉर्डर पर किसानों के सम्मेलन में भी मौैजूद थे। 

टूलकिट मामले में दिशा रवि की गिरफ़्तारी पर क्या कहना है वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष का?
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें