loader

'अग्निपथ' योजना से पीछे हटने का सवाल ही नहीं है: अजीत डोभाल

अग्निपथ भर्ती योजना के विरोध के बीच राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने मंगलवार को कहा है कि इसे वापस नहीं लिया जाएगा। उन्होंने एक न्यूज़ एजेंसी से बातचीत में कहा कि 'रोलबैक का कोई सवाल ही नहीं है।' डोभाल ने कहा कि इस योजना को एक नज़रिए से देखा जाना चाहिए न कि एक अलग-थलग योजना के रूप में।

एएनआई से बातचीत में डोभाल ने कहा कि यह योजना देश को सुरक्षित बनाने के लिए नरेंद्र मोदी सरकार की प्रमुख प्राथमिकताओं में से एक है। उन्होंने कहा, 'इसमें उपकरण, प्रणाली और प्रौद्योगिकी में बदलाव और भविष्य की नीतियों से जुड़े कई क़दम शामिल हैं।'

ताज़ा ख़बरें

जब केंद्र सरकार द्वारा पहली बार अग्निपथ योजना की घोषणा की गई तो 14 जून से देश के कई हिस्सों में हिंसक विरोध-प्रदर्शन शुरू हो गए। कई राज्यों में ट्रेनों को जलाने, सार्वजनिक संपत्ति को नुक़सान पहुँचाने और आंदोलनकारियों द्वारा राष्ट्रीय राजमार्गों को अवरुद्ध करने की घटनाएँ हुई थीं। उम्मीदवारों ने अपनी प्रमुख चिंताओं के रूप में नौकरी की सुरक्षा और सेवा के बाद के लाभों को उठाया है। इन भर्तियों में से केवल 25 प्रतिशत को ही उसके बाद 15 साल का नियमित कमीशन दिया जा सकता है।

इन्हीं विरोध-प्रदर्शनों को देखते हुए सरकार ने अपने फ़ैसले के बचाव के लिए कई शख्सियतों को उतारा। इन्हीं में अब सबसे ताज़ा अजीत डोभाल हैं। 

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने कहा,

इसे एक नज़रिए से देखने की ज़रूरत है। यह अपने आप में एक स्टैंडअलोन योजना नहीं है। 2014 में जब पीएम मोदी सत्ता में आए तो उनकी प्रमुख प्राथमिकताओं में से एक भारत को सुरक्षित और मज़बूत बनाना था। इसके लिए कई रास्ते, कई कदम ज़रूरत थी।


अजीत डोभाल, एनएसए

उन्होंने कहा कि मोटे तौर पर वे चार प्रमुख बदलाव हैं। इसके लिए उपकरणों की आवश्यकता है, इसके लिए प्रणालियों और संरचनाओं में बदलाव की आवश्यकता है, इसके लिए प्रौद्योगिकी में बदलाव की आवश्यकता है, इसके लिए जनशक्ति और नीतियों में बदलाव की आवश्यकता है, जो कि भविष्यवादी होना चाहिए।

देश से और ख़बरें
योजना के ख़िलाफ़ विरोध-प्रदर्शन पर एनएसए ने कहा कि आवाज़ उठाना उचित है लेकिन बर्बरता ठीक नहीं है। उन्होंने कहा, 'मुझे लगता है कि विरोध, आपकी आवाज़ उठाना उचित है और लोकतंत्र में इसकी अनुमति है। लेकिन इस बर्बरता, इस हिंसा की अनुमति नहीं है और इसे बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।' 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें