loader

बीजेपी प्रवक्ता नूपुर शर्मा के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं?

बीजेपी प्रवक्ता नूपुर शर्मा के खिलाफ मुसलिम समुदाय इन दिनों गुस्से में है। नूपुर शर्मा ने एक टीवी चैनल पर डिबेट के दौरान पैगंबर मोहम्मद पर टिप्पणी की जिसे लेकर मुसलिम समुदाय ने उन्हें गिरफ्तार किए जाने की मांग की है। 

कानपुर में इसी मसले पर शुक्रवार को मुसलिम समुदाय के लोगों ने बाजार बंद का आह्वान किया था जिसके चलते झड़प और सांप्रदायिक हिंसा की घटना हुई है।

यहां यह सवाल खड़ा होता है कि नूपुर शर्मा की अब तक गिरफ्तारी क्यों नहीं हुई है क्योंकि बीते कुछ वक्त में सांप्रदायिक सौहार्द्र को बिगाड़ने वाली टिप्पणियों का हवाला देकर कई लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है। 

हालांकि नूपुर शर्मा ने अपनी सफाई में कहा है कि उनकी कही गई बात को एडिट कर वायरल किया गया है। नूपुर शर्मा के खिलाफ महाराष्ट्र में दो एफआईआर दर्ज हो चुकी हैं। 

ताज़ा ख़बरें

ज्ञानवापी मस्जिद विवाद के दौरान शिवलिंग को लेकर टिप्पणी पर दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रोफेसर रतन लाल को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। हालांकि दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा कि रतनलाल की टिप्पणी भड़काऊ नहीं थी।

प्रोफेसर रतन लाल के मामले में भावनाएं आहत होने का तर्क दिया गया ऐसे में यही तर्क नूपुर शर्मा के द्वारा दिए गए बयान पर भी लागू होना चाहिए।

जिग्नेश मेवाणी की गिरफ्तारी

कुछ दिन पहले गुजरात के निर्दलीय विधायक और दलित नेता जिग्नेश मेवाणी की टिप्पणी पर असम पुलिस ने उन्हें गुजरात आकर गिरफ्तार कर लिया। मेवाणी के खिलाफ असम में शिकायत दर्ज कराई गई थी। इस शिकायत में कहा गया था कि मेवाणी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में लिखा था कि वह नाथूराम गोडसे की पूजा करते हैं और उन्हें ईश्वर मानते हैं।

इस साल अप्रैल में उत्तर प्रदेश के सीतापुर में एक मस्जिद के सामने भगवा पहने कपड़े पहने बजरंग मुनि नाम के शख्स ने मुसलिम महिलाओं को बलात्कार की धमकी दी थी। जिस वक्त इस आदमी ने बलात्कार की धमकी दी, उसके आसपास पुलिस भी मौजूद थी लेकिन पुलिस ने तब कोई कार्रवाई नहीं की थी। 

Nupur Sharma controversial remarks on Prophet Muhammad - Satya Hindi

दबाव पड़ने पर उसे कई दिन बाद गिरफ्तार किया गया लेकिन वह जमानत पर बाहर आ गया।

यति नरसिंहानंद सरस्वती

गाजियाबाद में स्थित डासना मंदिर के महंत यति नरसिंहानंद सरस्वती ने बीते 2 सालों में मुसलमानों के खिलाफ जमकर अनाप-शनाप उगला है। यति नरसिंहानंद की बड़ी मुश्किल से गिरफ्तारी हुई लेकिन जमानत पर बाहर आने के बाद यति नरसिंहानंद ने वही काम फिर से शुरू कर दिया। 

दिल्ली में सीएए के खिलाफ शाहीन बाग में आंदोलन कर रहे मुसलिम समुदाय के लोगों के खिलाफ बीजेपी सांसद प्रवेश वर्मा ने तमाम आपत्तिजनक टिप्पणियां की थी। 

देश से और खबरें

बीजेपी के नेता कपिल मिश्रा ने भी सीएए आंदोलन के दौरान भड़काऊ बयान दिए थे और केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर की एक जनसभा में देश के गद्दारों को का नारा लगा था। 

लेकिन आज तक इनके खिलाफ कहीं कोई कार्रवाई नहीं हुई है। 

कानून की नजर में कुछ लोगों की टिप्पणियां अगर सांप्रदायिक सौहार्द्र को बिगाड़ने वाली हैं और उसके लिए उनकी गिरफ्तारी हो सकती है तो नुपुर शर्मा की टिप्पणी पर क्या उन्हें गिरफ्तार नहीं किया जाना चाहिए।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें