loader
नूपुर शर्मा

सोशल मीडिया पर नूपुर शर्मा को मिली हमदर्दी, बीजेपी पर हमला

बीजेपी से हटाए गए नूपुर शर्मा और नवीन जिन्दल को सोशल मीडिया पर जबरदस्त हमदर्दी मिल रही है। तमाम लोग नूपुर शर्मा और नवीन जिन्दल के समर्थन में खुलकर लिख रहे हैं। लोगों ने सवाल उठाया है कि आखिर बीजेपी किसको खुश करना चाहती है, पहले इसका फैसला कर ले। 

पैगंबर पर टिप्पणी के खिलाफ जब सऊदी अरब और अन्य देशों ने भारत पर दबाव बनाया तो बीजेपी ने रविवार को नूपुर शर्मा को पार्टी से सस्पेंड कर दिया, उन्हें पार्टी की सभी जिम्मेदारियों से हटा दिया गया। दिल्ली बीजेपी के मीडिया प्रभारी नवीन जिन्दल को तो पार्टी से निष्कासित कर दिया गया। इसके बाद सोशल मीडिया पर शेम ऑन बीजेपी (#ShameonBJP) और काउअर्डिस (#Cowardice) ट्रेंड करने लगा। इसमें शेम ऑन बीजेपी कुछ देर तक दूसरे नंबर पर ट्रेंड करता रहा। 

ताजा ख़बरें
बीजेपी समर्थक बॉलीवुड डायरेक्टर अशोक पंडित ने रविवार को नूपुर शर्मा के समर्थन में कई ट्वीट किए। अशोक ने सवाल किया कि बीजेपी किसे खुश करना चाहती है। एक दूसरे ट्वीट में उन्होंने बीजेपी से कहा कि नूपुर शर्मा के घर के पते को क्यों सार्वजनिक किया गया। इससे उनकी जान को खतरा हो सकता है। बता दें कि बीजेपी ने नूपुर को पार्टी से सस्पेंड करने का जो पत्र जारी किया है, उसमें उनके घर का पता भी बीजेपी ने लिखा है। यह पत्र सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। नूपुर शर्मा को अपील जारी करना पड़ी कि उनका पता सार्वजनिक नहीं किया जाए। 
ट्विवटर पर नूपुर शर्मा के समर्थन में तीन-चार अभियान अलग-अलग नामों से चले। नेशन फर्स्ट ट्विटर हैंडल से लिखा गया कि सच मे आज मन खिन्न हो गया इस घटिया पार्टी @BJP4India  इसके नकारा नेताओ से @JPNadda @AmitShah @narendramodi @ArunSinghbjp @rajnathsingh  पिद्दी से #zoo_bear ने इतनी बड़ी पार्टी को नाक रगड़ा दी, रही क़तर की बात कितना इम्पोर्ट-एक्सपोर्ट होता है।
रजनीश मिश्रा ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा - बहुत ही घटिया हरकत बीजेपी की हमेशा मझधार में कार्यकर्ताओं को छोड़ती है ।अपना घटिया निर्णय वापस लो दुनिया थूक रही है बेटी बचाने का नारा देकर बेटी की बलि राजनीतिक फायदे के लिए।शर्म करो। पवन यादव नामक ट्विटर हैंडल पर लिखा गया है - कौन से इंटरनेशनल प्रेशर की बात बीजेपी कर रही है जब बंगाल में बीजेपी कार्यकर्ता और नेता मारे जा रहे थे तब तुमने क्या किया था, तब किसका प्रेशर था? विजय सिंह राजपूत का गुस्सा बाकी पार्टी नेताओं के नहीं बोलने पर है। उन्होंने लिखा है - बीजेपी में भी गुलामों और चमचों की कमी कमी नही है नूपुर शर्मा के सस्पेंशन का किसी बीजेपी नेता, प्रवक्ता या IT सेल वाले ने विरोध किया ? 98% लोगों को पता है ये गलत निर्णय है फिर भी ये सब मौन हैं। इविल साल्टी का यह ट्वीट देखिए -

देश से और खबरें
खुद  को बीजेपी प्रचारक बताने वाले विकी तिवारी ने वीडियो संदेश तक जारी करके अपना समर्थन नूपुर शर्मा और नवीन जिन्दल को दिया है। सुनिए ट्वीट में उनका बयान - 
अगर सारे तथ्यों पर गौर किया जाए तो बीजेपी को रविवार को कई मोर्चों पर नीचा देखना पड़ा। पैगंबर पर टिप्पणी के खिलाफ उसे अरब और अन्य मुस्लिम देशों का गुस्सा झेलना पड़ा। नूपुर और नवीन जिन्दल को हटाना पड़ा। फिर देश में भी खुद तमाम बीजेपी समर्थक उससे नाराज हो गए। बीजेपी के दोनों के हटाने के एक्शन का संदेश उसके कट्टरपंथी कार्यकर्ताओं के बीच यह गया है कि वो मुसलमानों को खुश करने में लगी है। लेकिन हकीकत ये है कि बीजेपी शासित केंद्र सरकार इस समय अंतरराष्ट्रीय दबाव का सामना कर रही है। इस्लामफोबिया की नीति महंगी पड़ गई है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें