loader

ऑक्सफ़ोर्ड वैक्सीन 70% प्रभावी; फ़रवरी तक भारत में दो टीके होंगे?

तेज़ी से बढ़ते कोरोना संक्रमण की चिंताओं के बीच एक अच्छी ख़बर है। फ़रवरी महीने तक कोरोना के दो टीके भारत में आ सकते हैं। एक तो ऑक्सफ़ोर्ड वैक्सीन के आने की पूरी उम्मीद है। और दूसरा, देश में विकसित कोवैक्सीन को भी आपात मंजूरी मिलने की आस है। ताज़ा रिपोर्ट में कहा गया है कि ऑक्सफ़ोर्ड की वैक्सीन औसत रूप से 70 प्रतिशत प्रभावी रही है। कुछ ट्रायलों में यह 90 फ़ीसदी प्रभावी रही थी। ऑक्सफ़ोर्ड वैक्सीन बनाने के लिए क़रार करने वाली भारतीय कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट पहले ही कह चुकी है कि कोरोना वैक्सीन फ़रवरी से स्वास्थ्य कर्मियों के लिए उपलब्ध होगी। आम लोगों के लिए यह वैक्सीन अप्रैल में उपलब्ध होगी। हालाँकि, अभी आख़िरी ट्रायल के परिणाम और नियामक मंजूरी मिलना बाक़ी है। 

ख़ास ख़बरें

ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी के साथ वैक्सीन बनाने वाली कंपनी एस्ट्रेज़ेनेका ने ट्रायल के परिणामों को प्रकाशित किया है। कंपनी ने कहा है कि औसत रूप से ऑक्सफ़ोर्ड की यह वैक्सीन 70 फ़ीसदी प्रभावी है। इंग्लैंड और ब्राज़ील में दूसरे और तीसरे चरण के ट्रायल के ताज़ा आँकड़े आए हैं। पहले एक रिपोर्ट में इसके 90 फ़ीसदी प्रभावी होने की बात कही गई थी। लेकिन अब दूसरे और तीसरे चरणों के ट्रायल के बाद प्रकाशित रिपोर्ट में कहा गया है कि कुछ ट्रायल में 62 यह फ़ीसदी प्रभावी साबित हुई है। इन सभी का ही औसत निकालकर 70 फ़ीसदी इसके प्रभावी होने की बात कही गई है। 

इस रिपोर्ट के बाद सीरम इंस्टीट्यूट के सीईओ अदार पूनावाला ने ट्वीट किया, 'मुझे यह सुनकर ख़ुशी हो रही है कि, कोविशील्ड, एक कम लागत वाली, तार्किक रूप से प्रबंधनीय और जल्द ही व्यापक रूप से उपलब्ध होने वाली कोरोना वैक्सीन एक प्रकार की खुराक में 90% तक और दूसरी खुराक में 62% तक सुरक्षा प्रदान करेगी। इस पर आगे का विवरण, आज शाम प्रदान किया जाएगा।'

बता दें कि ऑक्सफ़ोर्ड के अलावा दो और कंपनियों की वैक्सीन के बारे में प्रभावी होने के दावे किए गए हैं। ये कंपनियाँ हैं मॉडर्ना और फाईजर। माडर्ना के आख़िरी चरण के ट्रायल के बाद शुरुआती रिपोर्ट में कहा गया है कि यह 94.5 फ़ीसदी प्रभावी है वहीं फाईजर ने कहा है कि इसकी वैक्सीन 95 फ़ीसदी प्रभावी है। 

ऑक्सफ़ोर्ड वैक्सीन से क़रार करने वाली भारतीय कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ने पहले ही कह दिया है कि क़रीब 1000 रुपये में वैक्सीन की दो डोज दी जाएगी। दो डोज ही कोरोना को रोकने के लिए ज़रूरी होगी। रिपोर्टों में कहा गया है कि सरकार ने टीके की क़ीमतें बढ़िया तय की हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि सरकार ने क़रीब आधे दाम पर 500-600 रुपये में दो डोज की वैक्सीन का सौदा तय किया है। 

सीरम इंस्टीट्यूट ने कहा है कि ऑक्सफ़ोर्ड की वैक्सीन को इंग्लैंड में नियामक की मंजूरी मिलने के बाद भारत में आवेदन किया जाएगा। इसने कहा है कि आपात परिस्थिति को देखते हुए दिसंबर तक इसके आवेदन किये जाने की उम्मीद है। सीरम इंस्टीट्यूट के सीईओ अदार पूनावाला ने कहा कि सरकार को वैक्सीन की एक डोज 3-4 डॉलर की पड़ेगी। यानी क़रीब 300 रुपये। लेकिन आम लोगों के लिए यह 4-5 डॉलर का ख़र्च आएगा। यानी क़रीब 500 रुपये। वैक्सीन की दो डोज के लिए इसके दोगुने रुपये लगेंगे। 

oxford vaccine 70 percent effective and covaxin may be available by february in india - Satya Hindi

चार दिन पहले ही अदार पूनावाला ने कहा था, 'हर भारतीय को टीका लगाने में शायद दो या तीन साल लगेंगे, न केवल आपूर्ति की कमी के कारण, बल्कि इसलिए भी कि आपको बजट, वैक्सीन, लॉजिस्टिक्स, बुनियादी ढाँचे की ज़रूरत है और फिर, लोगों को वैक्सीन लेने के लिए भी तैयार होना चाहिए।' 

ऑक्सफ़ोर्ड वैक्सीन के तीसरे चरण का ट्रायल पूरा हो चुका है। इसके पहले और दूसरे चरण के परिणाम काफ़ी अच्छे रहे हैं। भारत में ही तैयार कोरोना वैक्सीन- कोवैक्सीन भी फ़रवरी महीने में उपलब्ध हो सकती है।
इसके पहले और दूसरे चरण के ट्रायल की रिपोर्ट प्रकाशित होने वाली है और तीसरे चरण का ट्रायल चल रहा है। कहा जा रहा है कि पहले और दूसरे चरण के ट्रायल की रिपोर्ट प्रकाशित होने के बाद इसको भी आपात स्थिति में मंजूरी के लिए आवेदन किया जा सकता है। टीओआई की एक रिपोर्ट के मुताबिक़, एक अधिकारी ने कहा है कि सबकुछ ठीक रहा तो फ़रवरी में कोवैक्सीन भी उपलब्ध हो सकती है। यानी फ़रवरी तक भारत में दो टीके उपलब्ध होने की उम्मीद है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें