loader

पाक चाहता था सार्क में अफ़ग़ान की तरफ़ से तालिबान आए, बैठक रद्द: रिपोर्ट

दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन यानी सार्क देशों के विदेश मंत्रियों की न्यूयॉर्क में होने वाली बैठक रद्द कर दी गई है। यह बैठक इस सप्ताह न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा सत्र से इतर आयोजित करने की योजना थी। मीडिया में सूत्रों के हवाले से ख़बर है कि बैठक को रद्द किए जाने का कारण तालिबान से जुड़ा है। रिपोर्ट है कि पाकिस्तान चाहता था कि सार्क बैठक में तालिबान अफ़ग़ानिस्तान का प्रतिनिधित्व करे। लेकिन बैठक रद्द होने के कारण पाकिस्तान की उम्मीदों को तगड़ा झटका लगा है।

ताज़ा ख़बरें

मीडिया रिपोर्टों में सूत्रों के हवाले से ख़बर है कि पाकिस्तान पिछली अशरफ गनी सरकार के प्रतिनिधियों की भागीदारी के ख़िलाफ़ था। समझा जाता है कि पाकिस्तान ने प्रस्ताव दिया कि तालिबान के एक प्रतिनिधि को भी बैठक का हिस्सा होना चाहिए। बाक़ी सदस्यों ने इस प्रस्ताव को खारिज कर दिया। यह इस तथ्य के मद्देनज़र भी है कि नए तालिबान शासन को अभी तक दुनिया भर की सरकारों द्वारा मान्यता नहीं मिली है। तालिबान ने इसके लिए संयुक्त राष्ट्र से भी संपर्क नहीं किया है। तालिबान सरकार की कैबिनेट में वे लोग हैं जो दुनिया भर में आतंकवादियों की सूची में शामिल हैं। 

रिपोर्ट है कि भारत सहित कुछ अन्य सदस्यों ने इस प्रस्ताव पर आपत्ति जताई। समझा जाता है कि सार्क के अधिकांश सदस्य इस बात पर सहमत थे कि बैठक के दौरान अफ़ग़ानिस्तान की एक खाली कुर्सी रखी जा सकती है। हालाँकि, पाकिस्तान नहीं माना। और इस तरह सहमति नहीं बनने के कारण सार्क विदेश मंत्रियों की बैठक रद्द कर दी गई।

वैसे, तालिबान के लिए पाकिस्तान का प्यार चौंकाने वाला नहीं है। पाकिस्तान अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान का खुलेआम समर्थन कर रहा है। उस पर आरोप तो यह भी है कि अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान की वापसी में उसने मदद की।

बता दें कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने काबुल पर तालिबान के कब्जे के बाद उसको 'गुलामी की जंजीरें तोड़ने वाला' क़रार दिया था। इमरान ख़ान ने जिसकी तारीफ़ की वह वही कट्टरपंथी सिस्टम है जिसने शिक्षा, नौकरी और शादी के मामले में कई वर्गों, विशेष रूप से महिलाओं को नागरिक अधिकारों से वंचित कर दिया है।

देश से और ख़बरें

विपक्षी दलों के नेता इमरान ख़ान को 'तालिबान ख़ान' के तौर पर बुलाते रहे हैं। उनके विरोधी ऐसा इसलिए बुलाते हैं क्योंकि तालिबान के प्रति उनका रवैया नरम रहा है। इमरान ख़ान ने पहली बार तब विवादास्पद बयान दिया था जब तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) के शीर्ष कमांडर वली-उर-रहमान को 2013 में अमेरिकी सेना द्वारा मारे जाने के बाद उसे 'शांति-समर्थक' क़रार दिया था। बाद में उन्होंने सुझाव दिया था कि तालिबान को पाकिस्तान में कहीं 'एक कार्यालय खोलने' की अनुमति दी जानी चाहिए। 2018 में बीबीसी के एक इंटरव्यू में इमरान ख़ान ने तालिबान के 'न्याय के सिद्धांत' की तारीफ़ की थी। इमरान ख़ान ने पिछले साल जून में ओसामा बिन लादेन को शहीद क़रार दिया था। 

ख़ास ख़बरें

बहरहाल, नेपाल सार्क की इस बैठक का मेजबान था। यह बैठक हर साल संयुक्त राष्ट्र महासभा के दौरान होती है। 'द इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के अनुसार नेपाल के विदेश मंत्रालय ने मंगलवार को सार्क सचिवालय को एक पत्र भेजा है जिसमें कहा गया है कि मौजूदा समय में सभी सदस्य राज्यों में सहमति नहीं होने के कारण संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र से इतर 25 सितंबर को प्रस्तावित सार्क मंत्रिपरिषद की बैठक नहीं होगी।

सार्क दक्षिण एशिया के आठ देशों - बांग्लादेश, भूटान, भारत, मालदीव, नेपाल, पाकिस्तान, श्रीलंका और अफ़ग़ानिस्तान का क्षेत्रीय अंतर सरकारी संगठन है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें