loader

संसद सत्र: पेगासस पर फिर हुआ हंगामा, दोनों सदन स्थगित

पेगासस जासूसी के मसले पर गुरूवार को भी संसद के दोनों सदनों में जमकर हंगामा हुआ और इस वजह से पहले कई बार और बाद में इन्हें दिन भर के लिए स्थगित कर दिया गया। दोनों ही सदनों में विपक्षी सांसदों ने नारेबाज़ी की और पेगासस के मामले पर चर्चा कराने की मांग की। विपक्ष के हमलावर रूख़ के कारण सरकार बुरी तरह घिर गई है। बता दें कि बीते कई दिनों से संसद के दोनों सदनों में हंगामा हो रहा है। 

राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि वे केवल पेगासस के मसले पर चर्चा चाहते हैं। अगर सरकार हमें इस पर चर्चा करने देती है तो सदन ठीक ढंग से चलेगा। 

ताज़ा ख़बरें

ओम बिड़ला ने चेताया 

इससे पहले लोकसभा में कार्यवाही शुरू होते ही स्पीकर ओम बिड़ला ने सांसदों को चेताया। उन्होंने कहा कि सभी सांसदों को सदन की गरिमा के अनुसार काम करना चाहिए। इस बीच हंगामा हुआ और इसके बाद लोकसभा को 11.30 बजे स्थगित कर दिया गया। कार्यवाही शुरू होते ही फिर से हंगामा हुआ, पहले इसे 12.30 बजे और फिर 2 बजे और उसके बाद कल तक के लिए स्थगित कर दिया गया। 

राज्यसभा में भी कार्यवाही शुरू होते ही विपक्षी दलों के सांसदों ने एक बार फिर पेगासस जासूसी और किसान आंदोलन के मुद्दे को जोर-शोर से उठाया। इस वजह से राज्यसभा को 12 बजे तक स्थगित करना पड़ा। कार्यवाही शुरू होने के बाद फिर से हंगामा हुआ और इसे 2 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया। फिर से जब कार्यवाही शुरू हुई तो हंगामा होने लगा और इसे दिन भर के लिए स्थगित कर दिया गया। 

बुधवार को भी पेगासस जासूसी और किसान आंदोलन के मुद्दे को राज्यसभा और लोकसभा की कार्यवाही को पहले कई बार और अंत में दिन भर तक के लिए स्थगित कर दिया गया था। 

Parliament monsoon session 2021 farmers issues pegasus rucuks - Satya Hindi

हंगामा और शोरगुल

मानसून सत्र में हर दिन संसद के दोनों सदनों में जमकर हंगामा व शोरगुल हो रहा है। पेगासस जासूसी मामले और किसानों के मुद्दों को लेकर कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी दल केंद्र सरकार पर हमलावर हैं। 19 जुलाई से शुरू हुए संसद के मानसून सत्र का अधिकतर वक़्त हंगामे की भेंट चढ़ गया है और इस वजह से संसद के कामकाज पर असर पड़ा है। 

पेगासस पर घिरी सरकार 

विपक्षी सांसदों ने बुधवार को एक साथ आकर और प्रेस कॉन्फ्रेन्स कर अपने इरादे जाहिर कर दिए हैं। प्रेस कॉन्फ्रेन्स में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा था कि केंद्र सरकार बताए कि उसने पेगासस का सॉफ्टवेयर खरीदा या नहीं और उसने अपने लोगों पर इसका इस्तेमाल किया या नहीं। उन्होंने कहा था कि हम सिर्फ़ इतना ही जानना चाहते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि सांसदों की आवाज़ को दबाया जा रहा है। 

देश से और ख़बरें

एसपी के सांसद रामगोपाल यादव ने कहा था कि पेगासस जासूसी मामले पर हम सब की एक राय है। शिव सेना सांसद संजय राउत ने कहा था कि यह राष्ट्रीय सुरक्षा का मामला है और सरकार को ख़ुद जिम्मेदारी लेकर आगे आना चाहिए। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा के मामले और किसानों के मुद्दे पर पूरा विपक्ष एकजुट है और रहेगा। 

‘किसान संसद’ में भरा दम 

केंद्र सरकार के कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ आंदोलन कर रहे किसानों की संसद जारी है। इस संसद का आयोजन संसद से कुछ ही दूरी पर स्थित जंतर-मंतर पर किया जा रहा है। किसानों की यह संसद 13 अगस्त तक चलेगी। बारिश के बीच भी किसान आंदोलन और संसद में डटे हुए हैं। 

किसान संसद में शामिल सदस्य अपने सवाल स्पीकर बनाए गए शख़्स से पूछते हैं और संसद में शामिल लोग ही सवालों के जवाब देते हैं। किसानों का कहना है कि लोकसभा और राज्यसभा की तर्ज पर ही इस किसान संसद को चलाया जा रहा है। 

विपक्षी दलों का मिला समर्थन

किसानों को विपक्षी राजनीतिक दलों की ओर से भी जोरदार समर्थन मिल रहा है। किसानों के आंदोलन को कांग्रेस, एनसीपी, टीएमसी, शिव सेना, डीएमके, जेएमएम, एसपी, आरजेडी, सीपीआई सहित तमाम विपक्षी दल समर्थन दे रहे हैं। 

कांग्रेस के नेता राहुल गांधी सोमवार को ट्रैक्टर चलाकर संसद पहुंचे थे। राहुल गांधी के इस क़दम से कांग्रेस ने यह संदेश देने की कोशिश है कि वह किसानों की आवाज़ को पुरजोर तरीक़े से उठाती रहेगी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें