loader

चुनावी डर? पेट्रोल व डीजल पर उत्पाद शुल्क में 5 व 10 रुपये की कटौती

13 राज्यों में उपचुनाव के नतीज़ों के बाद केंद्र सरकार ने पेट्रोल और डीजल सस्ते किए जाने का फ़ैसला किया है। सरकार पेट्रोल और डीजल पर पाँच और 10 रुपये का उत्पाद शुल्क कम करेगी। यह फ़ैसला दिवाली के दिन लागू होगा। पाँच राज्यों में आगामी विधानसभा चुनाव से पहले लिया गया सरकार का यह निर्णय लोगों को राहत पहुँचाने वाली है। सवाल है कि सरकार का यह फ़ैसला चुनावी हलचल के बीच क्यों आई है?

माना जा रहा है कि उत्पाद शुल्क में कमी किए जाने से पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कमी आएगी। इसके साथ ही केंद्र ने राज्यों से उपभोक्ताओं को राहत देने के लिए दोनों ईंधनों पर वैट कम करने का आग्रह किया है।

ताज़ा ख़बरें

डीजल पर उत्पाद शुल्क में कमी पेट्रोल की तुलना में दोगुनी होगी और आगामी रबी सीजन के दौरान किसानों को बढ़ावा मिलेगा। पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क को पिछले साल 19.98 रुपये प्रति लीटर से बढ़ाकर 32.9 रुपये प्रति लीटर कर दिया गया था। 

भारत उन देशों में शामिल है जहाँ ईंधनों पर सबसे ज़्यादा टैक्स लिया जा रहा है। आर्थिक मामलों के जानकार प्रोफ़ेसर संतोष महरोत्रा ने सत्य हिंदी के एक कार्यक्रम में कहा कि जर्मनी, इटली, जापान जैसे देशों में पेट्रोलियम पदार्थों पर 65 फ़ीसदी से ज़्यादा टैक्स नहीं लगाया जाता है, लेकिन भारत में यह 260 फ़ीसदी लगाया जा रहा है और इसी वजह से पेट्रोल-डीजल इतना महंगा है।  

सरकार ने उत्पाद शुल्क में कटौती का यह फ़ैसला तब लिया है जब एक दिन पहले ही 13 राज्यों में हुए उपचुनाव के नतीजे आए हैं। ये नतीजे बीजेपी के लिए बड़ा झटका हैं। ऐसा इसलिए कि असम को छोड़कर किसी भी राज्य में बीजेपी के लिए निराशाजनक स्थिति रही है। पश्चिम बंगाल में 4 में से 3 सीटों पर जमानत जब्त हो गई। चौथे सीट पर भी बड़े अंतर से हार हुई। हिमाचल में कांग्रेस ने शानदार प्रदर्शन किया। राजस्थान में भी बीजेपी की हालत बेहद ख़राब रही। बिहार का नतीजा भी उसके पक्ष में नहीं रहा। कर्नाटक में बीजेपी-कांग्रेस को 1-1 सीट मिली। मध्य प्रदेश में बीजेपी की अपेक्षाकृत अच्छी स्थिति रही, लेकिन उसके गढ़ में भी जीत का मार्जिन काफ़ी कम हो गया है। दूसरे राज्यों में भी बीजेपी की हालत ठीक नहीं रही। 

इन सभी जगहों पर अन्य कारणों के साथ महंगाई को सबसे बड़ा मुद्दा माना गया। इसमें भी पेट्रोल और डीजल के महंगे होने का मुद्दा तो सबसे अहम रहा। बीजेपी नेताओं ने ही दबी जुबान में यह माना भी है।

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने तो कह दिया कि पार्टी को जनता ने नहीं, बल्कि महंगाई ने हराया है। 

अब चूँकि पाँच महीने में ही पाँच राज्यों में चुनाव होने हैं तो सरकार के लिए यह एक निर्णायक वक़्त है। इन पाँच राज्यों में उत्तर प्रदेश भी शामिल है जहाँ का चुनाव केंद्र की राजनीति को बड़े पैमाने पर प्रभावित करता है। 
देश से और ख़बरें

वैसे, पेट्रोल और डीजल की बढ़ती क़ीमतों ने भी बीजेपी की राजनीति को प्रभावित करने लगा क्योंकि विपक्ष ने इसे मुद्दा बनाना शुरू कर दिया। एक दिन पहले ही कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा था कि जब अंतरराष्ट्रीय बाज़ार से 105.71 डॉलर प्रति बैरल में कच्चा तेल खरीदकर मई 2014 में पेट्रोल 71.41 रुपये और डीजल 55.49 रुपये में दिया जा रहा था तो अब यह इतना महंगा क्यों है? उन्होंने 2014 से तुलना करते हुए कहा था कि अभी तो अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चा तेल 85 डॉलर प्रति बैरल है तो फिर पेट्रोल क़रीब 110 और डीजल 98 रुपये प्रति लीटर क्यों?

जाहिर तौर पर उन्होंने सरकार द्वारा काफ़ी ज़्यादा वसूले जाने वाले उत्पाद शुल्क के रूप में टैक्स पर सवाल उठाए थे। 
petrol and diesel excise duty to be cut by tomorrow  - Satya Hindi

गैस के दाम

तीन दिन पहले ही कमर्शियल गैस सिलेंडर का दाम 266 रुपये बढ़ाया गया है। इसके साथ ही दिल्ली में अब एक सिलेंडर की क़ीमत 2000 रुपये हो गई है। इससे पहले जून 2013 में यह सिलेंडर 1327 रुपये का था। कमर्शियल गैस सिलेंडर में 19 किलो गैस होती है। रसोई गैस सिलेंडर का दाम क़रीब 900 रुपये है। मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद इसके दाम दोगुने से भी ज़्यादा हो गए हैं। मार्च 2014 में जिस 14.2 किलोग्राम के रसोई गैस सिलेंडर के दाम दिल्ली में 410 रुपये थे उसकी क़ीमत अब 899.50 रुपये हो गई है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें