loader

क्यों सूख रहे हैं पेट्रोल पंप?, सरकार ने कहा- नहीं है तेल का संकट

देश के कुछ राज्यों से बुधवार को ऐसी खबर आई कि इन राज्यों में कई जगहों पर पेट्रोल और डीजल की पूरी सप्लाई पेट्रोल पंपों को नहीं मिल पा रही है। इस वजह से कई जगहों पर पंप सूख गए। 

मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ व कुछ अन्य राज्यों में लोग पेट्रोल डीजल न मिलने से परेशान हुए। लेकिन इस खबर के सामने आते ही सरकार ने कहा है कि देश में पेट्रोल और डीजल की सप्लाई को लेकर कोई संकट नहीं है।

पेट्रोल पंपों में पेट्रोल-डीजल न होने की शिकायत उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश से भी आई है।  राजस्थान के सीकर में 57 पंप जिनमें सरकारी पेट्रोल पंप भी शामिल हैं, पूरी तरह सूख गए। उत्तराखंड के हरिद्वार में पेट्रोल पंप पर पेट्रोल न होने की वजह से लोगों की लंबी लाइन लगी रही और जयपुर में भी पेट्रोल-डीजल की कमी की वजह से ऐसे ही हालात दिखाई दिए। 

ताज़ा ख़बरें

भोपाल में पेट्रोल डीजल एसोसिएशन के लोगों ने एनडीटीवी से कहा कि कंपनी से बराबर सप्लाई नहीं मिल पा रही है और मध्य प्रदेश में बहुत सारे पंप सूखने की कगार पर हैं। 

उन्होंने कहा कि पेट्रोल कंपनियों को डीजल पर 28 रुपए प्रति लीटर और पेट्रोल पर 16 रुपए प्रति लीटर का नुकसान हो रहा है। भोपाल के अलावा भिंड, मंदसौर में भी दर्जनों पेट्रोल पंप पर पेट्रोल की सप्लाई न होने की वजह से इन्हें बंद करना पड़ा। 

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर, कोंडागांव सहित कई जगहों पर पेट्रोल पंप सूख रहे हैं। पेट्रोल पंप संचालकों का कहना है कि वे कंपनी को एडवांस दे चुके हैं लेकिन बावजूद इसके उन्हें पेट्रोल-डीजल की सप्लाई नहीं मिल पा रही है। 

पेट्रोल पंप मालिकों का कहना है कि छत्तीसगढ़ में हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड यानी एचपीसीएल के 60 से 70 फीसद पेट्रोल पंप सूख गए हैं और ऐसी ही समस्या भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड यानी बीपीसीएल के पेट्रोल पंप में भी देखने को मिल रही है।

अहमदाबाद से भी शिकायत 

पेट्रोल पंप में पेट्रोल की कमी होने की शिकायत अहमदाबाद से भी आई है। अहमदाबाद में एचपीसीएल और बीपीसीएल के पेट्रोल पंप डीलर्स का कहना है कि उन्हें हर दिन मिलने वाली सप्लाई का सिर्फ 50 फीसद ही मिल रहा है। उन्होंने एचपीसीएल और बीपीसीएल से अपील की है कि उन्हें पहले की तरह पेट्रोल और डीजल की सप्लाई दी जाए।

इस मामले में इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन के डायरेक्टर (मार्केटिंग) वी. सतीश कुमार का कहना है कि पेट्रोल पंपों पर पेट्रोल की सप्लाई पूरी तरह सामान्य है और लोगों को परेशान होने की जरूरत नहीं है।

क्या है वजह?

क्या पेट्रोल और डीजल पर प्रति लीटर हो रहे घाटे को पाटने के लिए तेल कंपनियां पेट्रोल पंपों को कम सप्लाई दे रही हैं या वास्तव में किसी तरह का तेल संकट सामने आने वाला है। 

देश से और खबरें

इसके पीछे वजह यह भी बताई जा रही है कि अंतरराष्ट्रीय मार्केट में पेट्रोलियम उत्पादों के दाम बढ़ गए हैं और इनके महंगा होने की वजह से पेट्रोल पंपों को पेट्रोल और डीजल की सप्लाई तय वक्त पर नहीं मिल पा रही है।

हाल ही में केंद्र सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर एक्साइज ड्यूटी घटा दी थी और ऐसा करके पेट्रोल और डीजल की बढ़ रही कीमतों से परेशान लोगों को राहत देने की कोशिश की थी। लेकिन अब पेट्रोल और डीजल ना मिलने की वजह से लोगों की परेशानी ज्यादा बढ़ती दिख रही है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें