loader

पेट्रोल-डीजलः निर्मला की सलाह पर तमिलनाडु ने कहा-पाखंड मत करो

पेट्रोल, डीजल पर वैट घटाने की सलाह पर केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को तमिलनाडु के वित्त मंत्री पलानीवेल त्यागराजन ने काफी खरीखोटी सुनाई है। उन्होंने कहा कि केंद्रीय वित्त मंत्री राज्यों को उकसाए नहीं। हमें उन लोगों से किसी सलाह की जरूरत नहीं है जो खुद इतना खराब प्रदर्शन (गवर्वेंस) कर रहे हैं। एनडीटीवी को दिए गए एक इंटरव्यू में तमिलनाडु के इस मंत्री ने एक्साइज ड्यूटी पर निर्मला सीतारमण के पूरे भाषण को एक पाखंड बताया है।  
तमिलनाडु के वित्त मंत्री पलानीवेल त्यागराजन ने कहा कि तमिलनाडु ने भारत में किसी भी सरकार के मुकाबले अच्छा प्रदर्शन किया है। हमारे सरकारी आंकड़े देखे जा सकते हैं। तमिलनाडु राजस्व घाटे को ₹ 60,000 से घटाकर ₹ 40,000 करोड़ के करीब ले लाया। हमारा राजकोषीय घाटा केंद्र सरकार का आधा है। राष्ट्रीय औसत के हिसाब से हमारी प्रति व्यक्ति आय दोगुनी है। हमारी महंगाई दर केवल 5 फीसदी है जबकि राष्ट्रीय महंगाई दर 8 फीसदी है। हम जानते हैं कि हम क्या कर रहे हैं। हमें कोई यह नहीं बताए कि हमें क्या करना है। हमें उन लोगों से डिक्टेशन लेने की जरूरत नहीं है जो हमसे खराब प्रदर्शन करते हैं। वो लोग हमें उन चीजों को करने के लिए मजबूर करते हैं जो हम नहीं करना चाहते हैं।
ताजा ख़बरें
उन्होंने कहा कि हम उनसे (केंद्र) कहीं भी 'अनुरोध' शब्द का इस्तेमाल करते हुए याद नहीं करते। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपनी मांग रखी और फिर 'प्रोत्साहन' शब्द का भी इस्तेमाल किया। मुझे नहीं लगता कि संविधान ऐसी अनुमति देता है। राज्यों को अपना वित्त प्रबंधन खुद संभालने की अनुमति हमारा संविधान देता है। जब केंद्र सरकार ने एक्साइज ड्यूटी बढ़ाई और वह भी शुद्ध एक्साइज ड्यूटी से सेस (उपकर) और सरचार्ज (अधिभार) में ट्रांसफर कर दिया। पेट्रोल पर तीन गुणा और डीजल पर 10 गुणा बढ़ाया। उन्होंने इस पर राज्यों से सलाह तक भी नहीं की। उन्होंने हमें दिए गए हिस्से में कटौती की। उस समय तो उन्होंने कोई रहम हमारे ऊपर नहीं किया। उन्होंने जरा भी नहीं सोचा। केंद्र की सात-आठ साल से खराब टैक्स नीति है। अब जब यह नीति उल्टे गले पड़ गई तो हमें नकली खलनायक बनाया जा रहा है। यह अत्याचार है। यह बेशर्म पाखंड है।

Petrol-Diesel: On Nirmala's advice, Tamil Nadu said - don't be hypocritical - Satya Hindi
पलानीवेल त्यागराजन, वित्त मंत्री, तमिलनाडु
केंद्रीय एक्साइज ड्यूटी पर डिटेल देते हुए तमिलनाडु के वित्त मंत्री ने कहा कि यह ₹9.4 से बढ़कर ₹32.5 हो गया। फिर दरियादिली दिखाते हुए उन्होंने इसमें से ₹5 एक बार और ₹8 एक बार काटा। आपने ₹13 ले लिया, लेकिन बढ़ी हुई एक्साइज तो अभी भी ₹19 है। यह अभी भी उस दर से दोगुणी है जिस पर इस सरकार के सत्ता में आने पर टैक्स लगाया जा रहा था। डीजल पर यह टैक्स ₹ 3.4 या कुछ और था, वो इसे ₹ 32 तक ले गए, फिर उन्होंने इसमें से ₹ 10 और ₹ 8 या 6 रुपये की कटौती कर दी। लेकिन हकीकत में वो टैक्स अभी भी चार या पांच गुणा है।
देश से और खबरें
डीएमके नेता का यह बयान दो दिन बाद आया है जब निर्मला सीतारमण ने बढ़ती महंगाई के बीच उपभोक्ताओं को बढ़ती कीमतों से बचाने के लिए फ्यूल पर एक्साइज ड्यूटी में कटौती और महत्वपूर्ण वस्तुओं पर लेवी में बदलाव की घोषणा की। निर्मला ने राज्यों से इसमें शामिल होने और अपना हिस्सा कम करने को भी कहा था। तमिलनाडु के वित्त मंत्री ने उसी का जवाब दिया है। अन्य विपक्ष शासित राज्यों ने भी यही एतराज जताया है कि केंद्र सरकार हमारे हिस्से में क्यों कटौती कर रही है और हमसे और कटौती करने को क्यों कह रही है, जबकि उसने खुद बेतहाशा एक्साइज ड्यूटी बढ़ाई थी। आज भी फ्यूल की जो कीमतें कम होकर हैं, वो मार्च महीने के स्तर पर हैं।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें