loader

...तो 150 रुपये प्रति लीटर तक पहुंच जाएगा पेट्रोल?

महंगे पेट्रोल और डीजल ने देश भर में हाहाकार मचाया हुआ है। आम आदमी इससे बुरी तरह त्रस्त है लेकिन इस बीच ऐसी ख़बर है कि अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में क्रूड ऑयल यानी कच्चा तेल और महंगा हो सकता है। निश्चित रूप से भारत में भी पेट्रोल-डीजल की क़ीमतों पर इसका असर पड़ेगा और लोगों पर इसकी जोरदार चोट पड़ेगी। 

मुल्क़ में हालात ये हैं कि देश के चारों महानगरों- दिल्ली, मुंबई, कोलकाता और चेन्नई के अलावा भी कई शहरों में पेट्रोल कई महीनों से 100 रुपये के पार बिक रहा है और डीजल भी इससे ज़्यादा पीछे नहीं है। शुक्रवार को दिल्ली में पेट्रोल 108.64 रुपये और डीजल 97.37 रुपये प्रति लीटर की क़ीमत पर बिका। 

लेकिन अर्थव्यवस्था के हालात पर नज़र रखने वाली गोल्डमैन सैक्स का अनुमान है कि 2022 में क्रूड ऑयल के दाम 110 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच जाएंगे। क्रूड ऑयल अभी 85 डॉलर प्रति बैरल के हिसाब से मिल रहा है तो पेट्रोल और डीजल ने हाहाकार मचाया हुआ है, अगर यह 110 डॉलर प्रति बैरल पहुंच गया तो हालात क्या होंगे, इसका अंदाजा लगाया जा सकता है। 

ताज़ा ख़बरें
सीधा मतलब यह है कि ऐसे हालात में भारत में पेट्रोल की क़ीमत 150 रुपये प्रति लीटर तक पहुंच जाएगी जबकि डीजल 140 रुपये प्रति लीटर के भाव से बिकेगा। 
Petrol diesel prices hike in india Goldman Sachs  - Satya Hindi

मध्य प्रदेश के अनूपपुर में तो पेट्रोल अभी ही 120 रुपये प्रति लीटर को पार कर गया है जबकि डीजल 110 रुपये प्रति लीटर बिक रहा है। इसी तरह बालाघाट में पेट्रोल 120 रुपये प्रति लीटर के आसपास है।

कब मिलेगी राहत?

पेट्रोल-डीजल की ही तरह एलपीजी सिलेंडर भी लगातार महंगा होता जा रहा है। लेकिन एक बात तय है कि जिस तरह पेट्रोल-डीजल के दामों में बेतहाशा बढ़ोतरी हो रही है, उससे नहीं लगता कि जनता को कोई राहत आने वाले दिनों में मिलने वाली है। महंगाई की मार से कराह रही जनता को लगातार महंगा ईंधन ख़रीदना पड़ रहा है लेकिन उसकी सुनने वाला कोई नहीं है।

देश से और ख़बरें

अगर गोल्डमैन सैक्स का अनुमान सही साबित हुआ तो हालात बेहद ख़राब हो सकते हैं। ऐसे में केंद्र सरकार को ईंधन पर लगने वाले टैक्स को कम करके जनता को कुछ राहत देनी चाहिए लेकिन वह ऐसा करने के लिए तैयार नहीं है। 

2014 के लोकसभा चुनाव से पहले पेट्रोल-डीजल की क़ीमतों को लेकर तत्कालीन यूपीए सरकार पर बरसने वाली बीजेपी के राज में ईंधन की क़ीमत आसमान छू रही हैं। लेकिन अब वह इसे लेकर पूरी तरह चुप है और उल्टा यूपीए सरकार को दोषी बता रही है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें