loader
पीएम केयर्स फंड के इवेंट में पीएम मोदी। फाइल फोटो - पीआईबी

पीएम केयर्स फंडः कोर्ट ने कहा- इतना खास मुद्दा और हलफनामा सिर्फ 1 पेज का!

पीएम केयर्स फंड को संविधान के अनुच्छेद 12 के तहत "राज्य" घोषित करने की मांग वाली याचिका के जवाब में दाखिल एफिडेविट पर दिल्ली हाईकोर्ट ने मंगलवार को हैरानी जताई।
लाइव लॉ के मुताबिक हाईकोर्ट ने मंगलवार को पीएमओ सचिव को एक विस्तृत जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया। अदालत ने कहा- यह एक महत्वपूर्ण मुद्दा था जिसके लिए उचित प्रतिक्रिया की आवश्यकता थी।

ताजा ख़बरें
हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस सतीश चंद्र शर्मा और जस्टिस सुब्रमण्यम प्रसाद की बेंच ने मामले में पीएम केयर्स फंड ट्रस्ट की ओर से पहले दायर एक पेज के हलफनामे पर नाखुशी जताई। पीठ ने कहा कि याचिका में उठाई गई चिंताओं को सही ठहराने के लिए हलफनामा पर्याप्त विस्तृत नहीं था।

प्रधानमंत्री कार्यालय के अवर सचिव ने हलफनामे में कहा कि PM CARES ट्रस्ट के कामकाज में केंद्र सरकार या राज्य सरकार का कोई नियंत्रण नहीं है। इस पर कोर्ट ने कहा- 

यह इतना महत्वपूर्ण मुद्दा है और केवल एक पृष्ठ का हलफनामा दायर किया गया है। इस जवाब में कुछ कानाफूसी तक नहीं है। उचित जवाब दाखिल करें। मसला इतना आसान नहीं है। हमें एक विस्तृत जवाब की जरूरत है।


- दिल्ली हाईकोर्ट, पीएम केयर्स फंड पर मंगलवार को

दिल्ली हाईकोर्ट ने मामले में विस्तृत जवाब दाखिल करने के लिए केंद्र को चार सप्ताह का समय भी दिया। कोर्ट ने टिप्पणी की कि उसे याचिका में उठाए गए हर बिंदु पर एक विस्तृत आदेश पारित करना होगा।

पीठ अब इस मामले की सुनवाई 16 सितंबर को करेगी।

देश से और खबरें

याचिकाकर्ता के तर्क

जनहित याचिका याचिकाकर्ता सम्यक गंगवाल के लिए बहस करते हुए, वरिष्ठ अधिवक्ता श्याम दीवान ने तर्क दिया कि फंड भारत के संविधान के अर्थ में राज्य के अलावा और कुछ नहीं है और संवैधानिक पदाधिकारियों द्वारा बनाए गए किसी भी फंड को भारत के संविधान से अनुबंधित नहीं किया जा सकता है। दीवान ने कहा: आप एक संरचना बना सकते हैं लेकिन आप संविधान से छूट का दावा नहीं कर सकते।

दीवान ने कहा कि यदि प्रधानमंत्री किसी संस्थान को बसाना चाहते हैं, तो वह ऐसा कर सकते हैं, हालांकि, यह राज्य की छत्रछाया में होना चाहिए। दीवान ने तर्क दिया कि फंड सुशासन के लिए विनाशकारी है और भविष्य में कई समस्याएं पैदा कर सकता है।

पीएम केयर्स फंड पहले दिन से ही विवादों से घिरा हुआ है। प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष के होने के बावजूद एक नया फंड बनाने के औचित्य पर लगातार सवाल उठाए जा रहे हैं। इन सवालों के संतोषजनक उत्तर मोदी सरकार की तरफ़ से नहीं आए हैं। पीएम केयर्स फंड 28 मार्च 2020 को शुरू किया गया था और कहा गया था कि ये कोरोना महामारी से निपटने और इसी तरह के कामों के लिए बनाया गया है। लेकिन जिस तरह से इसे बनाया गया था, उससे ही संदेह पैदा हो गए थे कि आख़िर इसका मुख्य उद्देश्य क्या है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें