loader
फ़ोटो क्रेडिट - @BJP4India

मोदी बोले- ‘सबके साथ से, सबके विश्वास से, सबका विकास करना है’

02.05 P.M- मोदी ने कहा, ‘हमें सभी की भावनाओं का ध्यान रखना है। हमें सबके साथ से, सबके विश्वास से, सबका विकास करना है। हमें अपने संकल्प और परिश्रम से आत्मनिर्भर भारत का निर्माण करना है। राम परिवर्तन के पक्षधर हैं। राम ने हमें कर्तव्य पालन की सीख दी है। राम ने हमें विरोध से निकलकर बोध और शोध का मार्ग दिखाया है। हमारा देश जितना ताक़तवर होगा, उतनी ही शांति बनी रहेगी।’ 

02.01 P.M- मोदी ने कहा, ‘राम सबके हैं, राम सबमें हैं। यह मंदिर भारतीय संस्कृति की विरासत का द्योतक होगा। यह मंदिर अनंतकाल तक मानवता को प्रेरणा देगा। राम मंदिर का संदेश कैसे पूरे विश्व का निरंतर पहुंचे, यह हमारी वर्तमान और भावी पीढ़ियों की जिम्मेदारी है। जहां-जहां भगवान राम के चरण पड़े, वहां राम सर्किट बनाया जा रहा है।’ 

01.56 P.M- प्रधानमंत्री ने कहा, ‘देश भर के धामों और मंदिरों से लाई गई मिट्टी और नदियों का पवित्र जल यहां की शक्ति बन गई है। न तो पहले ऐसा कभी हुआ है, न कभी होगा। राम मंदिर राष्ट्रीय भावना का प्रतीक बनेगा। राम ने सामाजिक समरसता को अपने शासन की आधारशिला बनाया था।’ उन्होंने कहा कि राम की सर्वव्यापकता भारत की विविधता में एकता का प्रतीक है। 
pm modi will attend ram mandir bhoomi poojan today - Satya Hindi
लोगों को संबोधित करते पीएम मोदी। फ़ोटो क्रेडिट- @BJP4India

01.50 P.M- मोदी ने कहा, ‘कोरोना के कारण यह कार्यक्रम मर्यादाओं के बीच हुआ। सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के बाद देशवासियों ने सभी की भावनाओं का ध्यान रखते हुए मर्यादित व्यवहार किया था। इस मंदिर के साथ सिर्फ़ नया इतिहास ही नहीं रचा जा रहा है, इतिहास ख़ुद को दोहरा भी रहा है।’ 

01.40 P.M- मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि वर्षों से टाट के नीचे रह रहे रामलला के लिए एक भव्य मंदिर का निर्माण होगा। स्वतंत्रता आंदोलन का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि इसके लिए सैकड़ों लोगों ने बलिदान दिया, उसी तरह राम मंदिर के लिए कई पीढ़ियों ने अथक प्रयास किया है। उन्होंने कहा कि राम मंदिर के लिए चले आंदोलन में अर्पण से लेकर संकल्प भी था। 

01.35 P.M- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन से पहले जयकारा लगाया। उन्होंने कहा कि इस जयकारे की गूंज अयोध्या में ही नहीं, विश्व भर में है। प्रधानमंत्री ने कहा, ‘ट्रस्ट ने मुझे भूमि पूजन के लिए आमंत्रित किया, इसके लिए मैं उनका आभार व्यक्त करता हूं।’ 

01.25 P.M- श्री राम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास ने कहा है कि करोड़ों लोगों की इच्छा है कि यहां दिव्य-भव्य मंदिर का जल्द से जल्द निर्माण होना चाहिए। 

01.15 P.M- संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि मंदिर निर्माण के लिए लोगों को दायित्व दे दिए गए हैं और अब उन्हें यह काम करना है। आज भारत को वैभवशाली बनाने के काम की शुरुआत हो गई है। 

01.05 P.M- भूमि पूजन के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने संबोधन में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कारण 5 शताब्दियों का यह संकल्प पूरा हो सका है। 

12.52 P.M- भूमि पूजन का कार्यक्रम संपन्न हो गया है। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राम मंदिर की आधारशिला रखी। 

12.40 P.M- भूमि पूजन के दौरान चल रहे अनुष्ठान में 9 शिलाओं की पूजा की गई है। अनुष्ठान में वैदिक मंत्रोच्चार के जरिये धार्मिक कार्यक्रमों को संपन्न कराया जा रहा है।  

pm modi will attend ram mandir bhoomi poojan today - Satya Hindi
pm modi will attend ram mandir bhoomi poojan today - Satya Hindi

12.15 P.M- राम मंदिर निर्माण के भूमि पूजन के कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाग ले रहे हैं। उनके साथ संघ प्रमुख मोहन भागवत, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, पुजारी व अन्य लोग मंच पर मौजूद हैं। 

12.04 P.M- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पारिजात का पौधा लगाया।  

12.00 P.M- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रामलला की पूजा कर रहे हैं। 

11.56 A.M- हनुमानगढ़ी में पूजा के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राम जन्मभूमि परिसर पहुंच गए हैं। 

11.45 A.M- प्रधानमंत्री का काफिला हनुमानगढ़ी पहुंचा। वहां उन्होंने मंदिर की परिक्रमा करने के बाद पूजा की। 

11.36 A.M- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या पहुंच गए हैं। प्रधानमंत्री के पहुंचने से पहले पूरे इलाक़े को खाली करा लिया गया है। अयोध्या पहुंचने पर प्रधानमंत्री का उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उनका स्वागत किया।
pm modi will attend ram mandir bhoomi poojan today - Satya Hindi
फ़ोटो क्रेडिट - @BJP4India

11:05 A.M - संघ प्रमुख मोहन भागवत भी भूमि पूजन स्थल पर पहुंचे।  

10:57 AM - स्वामी अवधेशानंद, स्वामी रामदेव, उमा भारती और चिदानंद महाराज कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे।  

प्रधानमंत्री के वहाँ क़रीब तीन घंटे तक रुकने का कार्यक्रम है। इस कार्यक्रम को लेकर पूरे अयोध्या में ज़बरदस्त तैयारियाँ की गई हैं। 

ताज़ा ख़बरें

कोरोना वायरस संक्रमण की आशंकाओं के बीच कार्यक्रम के लिए विशिष्ट व दूसरे आमंत्रित लोगों की सूची छोटी ही रखी गई। रिपोर्टों में कहा गया है कि यह संख्या क़रीब पौने दो सौ की है। ऐसी सावधानियां इसलिए बरती जा रही हैं कि हाल ही में मंदिर के पुजारी सहित कई गार्ड कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। इस कार्यक्रम में गृह मंत्री अमित शाह भी शामिल होने वाले थे लेकिन कोरोना संक्रमण के कारण वह शामिल नहीं हो सके। 

मंदिर आंदोलन का चेहरा रहे बीजेपी के दिग्गज नेता लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी ने कोरोना वायरस के कारण बनी ख़तरनाक स्थिति को देखते हुए वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से भूमि पूजन कार्यक्रम में भाग लिया।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें