loader

जेलेंस्की-मोदी वार्ता: यूक्रेन-रूस में शांति के प्रयास करेगा भारत?

रूस और यूक्रेन में जारी युद्ध के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर ज़ेलेंस्की के साथ फोन पर बात की। उन्होंने यूक्रेन के राष्ट्रपति से कहा कि यूक्रेन संघर्ष का कोई सैन्य समाधान नहीं हो सकता है, साथ ही इस पर भी जोर दिया कि परमाणु फैसिलिटीज के ख़तरे के विनाशकारी परिणाम हो सकते हैं। 

टेलीफोन पर बातचीत के दौरान मोदी और ज़ेलेंस्की ने यूक्रेन में चल रहे संघर्ष पर चर्चा की। प्रधानमंत्री कार्यालय द्वारा जारी एक बयान के अनुसार, प्रधानमंत्री ने शत्रुता को जल्द से जल्द समाप्त करने और बातचीत व कूटनीति के मार्ग को आगे बढ़ाने की आवश्यकता को दोहराया है।

ताज़ा ख़बरें

यूक्रेन ने रूस के कब्जे वाले चार क्षेत्रों में से दो में महत्वपूर्ण प्रगति की है। कुछ दिन पहले ही रूस ने 'जनमत संग्रह' कराने के बाद शुक्रवार को यूक्रेन के चार क्षेत्रों को अपने कब्जे में लेने की घोषणा कर दी थी। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने क्रेमलिन समारोह में डोनेट्स्क, लुहान्स्क, खेरसॉन और ज़ापोरिज्जिया को औपचारिक रूप से रूस में शामिल कर लिया। इस पर पश्चिमी देशों ने तीखी प्रतिक्रिया दी। अमेरिका ने रूस पर ताज़ा प्रतिबंध लगाने की घोषणा कर दी।

इस बीच ख़बर है कि उन कब्जा किए गए दो क्षेत्रों में यूक्रेनी सेना काफ़ी आगे बढ़ी है। यूक्रेन की सेना ने दक्षिण के कई इलाकों पर फिर से कब्जा कर लिया है। उसने नीप्रो नदी के किनारों पर कब्जा करके रूसी फौज की सप्लाई लाइन काट दी है। 

इससे पहले यूक्रेन ने लाइमन शहर की फतह का ऐलान कर दिया। यूक्रेन का यह शहर जुलाई से रूस के कब्जे में था। समाचार एजेंसी रॉयटर्स की रिपोर्ट के अनुसार, यूक्रेनी सैनिकों ने कहा कि उन्होंने कब्जे वाले पूर्वी यूक्रेन में लाइमैन के प्रमुख गढ़ पर कब्जा कर लिया है।

बहरहाल, बयान में कहा गया है कि प्रधानमंत्री मोदी ने ज़ेलेंस्की से कहा कि यूक्रेन संघर्ष का कोई सैन्य समाधान नहीं हो सकता, भारत किसी भी शांति प्रयास में योगदान देने को तैयार है।

उन्होंने कहा, 'परमाणु सुविधाओं के खतरे के सार्वजनिक स्वास्थ्य, पर्यावरण के लिए दूरगामी, विनाशकारी परिणाम हो सकते हैं।' बता दें कि पुतिन ने रूस के अस्तित्व के लिए परमाणु हथियारों के उपयोग की धमकी दी थी।

देश से और ख़बरें

भारत इस मामले में सधे हुए क़दम रख रहा है और यह 30 सितंबर को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में पेश किए गए एक मसौदा प्रस्ताव पर अनुपस्थित रहा था। उसमें रूस के 'अवैध जनमत संग्रह' और चार यूक्रेनी क्षेत्रों के कब्जे की निंदा की गई थी। भारत रूसी तेल भी खरीद रहा है, जिसकी पश्चिम ने आलोचना की थी। इसके जवाब में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने संवाददाताओं से कहा था कि रूस से एक महीने में भारत की कुल तेल खरीद शायद यूरोप की एक दिन की तुलना में भी कम है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें