loader

कोरोना: मोदी बोले - 5 अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट तक मोमबत्ती-दीपक जलाएं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार सुबह 9 बजे एक वीडियो जारी किया। इसमें प्रधानमंत्री ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान देश ने सामूहिक शक्ति का परिचय दिया है। प्रधानमंत्री ने कहा, ‘मेरे प्यारे देशवासियों, कोरोना वैश्विक महामारी के ख़िलाफ़ देशव्यापी लॉकडाउन को आज 9 दिन हो रहे हैं, इस दौरान आप सभी ने जिस तरह के अनुशासन और सेवाभाव, दोनों का परिचय दिया है, वह अभूतपूर्व है। शासन-प्रशासन और जनता ने स्थिति को संभालने का अच्छा प्रयास किया है। आपने 22 मार्च को कोरोना के ख़िलाफ़ लड़ाई लड़ने वालों का जिस तरह अभिवादन किया, वह दुनिया भर के लिये मिसाल बन गया है।’ 
ताज़ा ख़बरें

मोदी ने कहा, ‘इस रविवार को 5 अप्रैल को हम सबको मिलकर कोरोना को चुनौती देनी है। हमें 5 अप्रैल को 130 करोड़ देशवासियों की महाशक्ति का जागरण करना है। 5 अप्रैल रविवार को रात 9 बजे मैं आप सबके 9 मिनट चाहता हूं। रात 9 बजे घर की लाइट बंद करके, दरवाजे या बालकनी पर खड़े रहकर मोबाइल की फ़्लैश लाइट, टॉर्च, दीपक, मोमबत्ती ज़रूर जलाएं।’

‘सोशल डिस्टेंसिंग को न तोड़ें’

प्रधानमंत्री ने आगे कहा, ‘चारों ओर जब हर व्यक्ति एक-एक दीया जलायेगा तो इस रोशनी में हम यह संकल्प करें कि हम अकेले नहीं हैं, कोई भी अकेला नहीं है। 130 करोड़ देशवासी एक साथ हैं। इस दौरान किसी को भी, कहीं पर भी इकट्ठा नहीं होना है। घर के दरवाजे, बालकनी से ही इसे करना है और सोशल डिस्टेंसिंग की लक्ष्मण रेखा को नहीं लांघना है। सोशल डिस्टेंसिंग ही कोरोना को हराने का रामबाण इलाज है।’

मोदी ने कहा, 'यह भाव प्रकट हुआ है कि देश एक होकर कोरोना के ख़िलाफ़ लड़ाई लड़ सकता है। लॉकडाउन के समय में देश की सामूहिकता दिखाई दी है।’

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘साथियों, आज जब देश के करोड़ों लोग घरों में हैं तो किसी को भी लग सकता है कि वह अकेला क्या करेगा, इतनी बड़ी लड़ाई को वे अकेले कैसे लड़ पायेंगे, कितने दिन ऐसे काटने पड़ेंगे।’ 

'कोई अकेला नहीं है'

मोदी ने वीडियो संदेश में कहा, ‘यह लॉकडाउन का समय ज़रूर है लेकिन हम में से कोई भी अकेला नहीं है। हमारे यहां माना जाता है कि जनता जनार्दन ईश्वर का ही रूप होती है, इसलिये जब देश इतनी बड़ी लड़ाई लड़ रहा हो तो जनता के विराट स्वरूप का साक्षात्कार करते रहना चाहिए। यह साक्षात्कार हमें लक्ष्य की प्राप्ति के लिये ऊर्जा देता है।’ 

प्रधानमंत्री ने ख़ुद ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी थी। प्रधानमंत्री ने कहा था कि वह शुक्रवार सुबह 9 बजे एक छोटा वीडियो संदेश जारी करेंगे। बीते एक महीने में मोदी दो बार देश को संबोधित कर चुके हैं। 

देश से और ख़बरें

पहली बार 19 मार्च को जब प्रधानमंत्री ने रात 8 बजे लोगों को संबोधित किया था तो उन्होंने कहा था कि कोरोना वायरस से बचने के लिये प्रत्येक भारतवासी का सजग रहना बेहद आवश्यक है। प्रधानमंत्री ने कहा था कि कोरोना से बचने के लिये आपको पूरा योगदान देना है और मानव जाति और भारत की जीत के लिये, ऐसा करना ज़रूरी है। तब मोदी ने 22 मार्च को ‘जनता कर्फ्यू’ रखे जाने का एलान किया था और लोगों से इसमें सहयोग देने की अपील की थी। 

इसके बाद 24 मार्च को रात 8 बजे एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित किया था और कहा था कि उसी दिन रात 12 बजे से पूरे देश में 21 दिनों के लिए संपूर्ण लॉकडाउन कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा था कि इस दौरान लोगों के घरों से बाहर निकलने पर पूरी तरह पाबंदी लगाई जा रही है और देश के हर राज्य, जिले, कस्बे और गली को लॉकडाउन किया जा रहा है। प्रधानमंत्री ने कहा था कि यह जनता कर्फ्यू से आगे का क़दम है और बेहद ज़रूरी भी है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें