loader
फोटो साभार: ट्विटर/राष्ट्रपति भवन

लोकतंत्र सफल क्योंकि इतने पंथों, भाषाओं ने बांटा नहीं, हमें जोड़ा: राष्ट्रपति

गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा कि गरीबी, अशिक्षा जैसी अनगिनत चुनौतियों के बाद भी 'स्पिरिट ऑफ़ इंडिया' यानी 'भारत का उत्साह' कम नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि 'हम एक लोकतांत्रिक गणराज्य के रूप में सफल हुए हैं क्योंकि इतने सारे पंथों और इतनी सारी भाषाओं ने हमें विभाजित नहीं किया है, उन्होंने केवल हमें जोड़ा है। यही भारत का सार है। वह सार संविधान के केंद्र में था, जो समय की कसौटी पर खरा उतरा है।'

राष्ट्रपति ने आगे कहा, 'बाबासाहेब आंबेडकर और अन्य लोगों ने हमें एक नक्शा और एक नैतिक ढांचा दिया, लेकिन उस रास्ते पर चलने का काम हमारी ज़िम्मेदारी है। हम काफी हद तक उनकी उम्मीदों पर खरे उतरे हैं, और फिर भी हम महसूस करते हैं कि गांधीजी के 'सर्वोदय' के आदर्श, सभी के उत्थान के लिए बहुत कुछ किया जाना अभी भी बाक़ी है।"

राष्ट्रपति ने कहा कि राष्ट्र हमेशा डॉ. बीआर आंबेडकर का आभारी रहेगा, जिन्होंने संविधान की मसौदा समिति का नेतृत्व किया। उन्होंने कहा कि और इस तरह इसे अंतिम रूप देने में उन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। 

उन्होंने कहा कि 'भारत एक गरीब और निरक्षर राष्ट्र की स्थिति से आगे बढ़ते हुए विश्व-मंच पर एक आत्मविश्वास से भरे राष्ट्र का स्थान ले चुका है। संविधान-निर्माताओं की सामूहिक बुद्धिमत्ता से मिले मार्गदर्शन के बिना यह प्रगति संभव नहीं थी।'

ताज़ा ख़बरें
राष्ट्रपति ने भारत की मौजूदा आर्थिक स्थिति की तारीफ़ की और कहा, 'पिछले साल भारत दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया। यह उपलब्धि, आर्थिक अनिश्चितता से भरी वैश्विक पृष्ठभूमि में प्राप्त की गई है। सक्षम नेतृत्व और प्रभावी संघर्षशीलता के बल पर हम शीघ्र ही मंदी से बाहर आ गए, और अपनी विकास यात्रा को फिर से शुरू किया।'

राष्ट्रीय शिक्षा नीति शिक्षार्थियों को इक्कीसवीं सदी की चुनौतियों के लिए तैयार करते हुए हमारी सभ्यता पर आधारित ज्ञान को समकालीन जीवन के लिए प्रासंगिक बनाती है।


राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू

उन्होंने कहा, 'हम विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अपनी उपलब्धियों पर गर्व का अनुभव कर सकते हैं। अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में, भारत गिने-चुने अग्रणी देशों में से एक रहा है।' राष्ट्रपति ने महिला सशक्तीकरण का भी ज़िक्र किया। उन्होंने कहा, 'महिला सशक्तीकरण तथा महिला और पुरुष के बीच समानता अब केवल नारे नहीं रह गए हैं। मेरे मन में कोई संदेह नहीं है कि महिलाएं ही आने वाले कल के भारत को स्वरूप देने के लिए अधिकतम योगदान देंगी।'

देश से और ख़बरें

राष्ट्रपति मुर्मू ने कहा, 'सशक्तीकरण की यही दृष्टि अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों सहित, कमजोर वर्गों के लोगों के लिए सरकार की कार्य-प्रणाली का मार्गदर्शन करती है। वास्तव में हमारा उद्देश्य न केवल उन लोगों के जीवन की बाधाओं को दूर करना और उनके विकास में मदद करना है, बल्कि उन समुदायों से सीखना भी है।' उन्होंने आगे कहा कि जनजातीय समुदाय के लोग, पर्यावरण की रक्षा से लेकर समाज को और अधिक एकजुट बनाने तक, कई क्षेत्रों में सीख दे सकते हैं।

जी-20 की अध्यक्षता का ज़िक्र करते हुए राष्ट्रपति ने कहा, 'इस वर्ष भारत G-20 देशों के समूह की अध्यक्षता कर रहा है। विश्व-बंधुत्व के अपने आदर्श के अनुरूप, हम सभी की शांति और समृद्धि के पक्षधर हैं। G-20 की अध्यक्षता एक बेहतर विश्व के निर्माण में योगदान हेतु भारत को अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका प्रदान करती है।'

ख़ास ख़बरें

बता दें कि गणतंत्र दिवस पर भारत के मुख्य अतिथि मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतह अल-सिसी का बुधवार को राष्ट्रपति भवन में रस्मी स्वागत किया गया। मिश्र के राष्ट्रपति ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की और कृषि, डिजिटल डोमेन, संस्कृति और व्यापार सहित कई क्षेत्रों में द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ाने के तरीकों पर ध्यान केंद्रित करते हुए व्यापक बातचीत की। 

इस बीच, दिल्ली पुलिस ने लाल किला, विजय चौक, इंडिया गेट और अन्य वीआईपी इलाकों में गणतंत्र दिवस परेड और कार्यक्रमों के लिए सुरक्षा और यातायात के व्यापक इंतजाम किए हैं। वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के अनुसार, परेड में 60,000 से अधिक लोगों के शामिल होने की उम्मीद है, जो गुरुवार सुबह 10.30 बजे विजय चौक से शुरू होगी और लाल किला मैदान क्षेत्र की ओर बढ़ेगी। इंडिया गेट पर, समारोह सुबह 9.30 बजे शुरू होगा।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें