loader

राष्ट्रपति चुनाव: संयुक्त उम्मीदवार उतारेगा विपक्ष 

राष्ट्रपति चुनाव को लेकर दिल्ली के कांस्टीट्यूशन क्लब में विपक्षी दलों की बैठक हुई। इस बैठक में विपक्षी दलों के तमाम बड़े नेता पहुंचे। 

बैठक में मौजूद सभी विपक्षी दलों ने एक प्रस्ताव पास किया। इस प्रस्ताव में कहा गया है कि उन्होंने फैसला लिया है कि वे राष्ट्रपति चुनाव में संयुक्त उम्मीदवार उतारेंगे। एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कहा कि इस बैठक में नहीं आने वाले विपक्षी दलों से बात की जाएगी। 

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि बैठक में शरद पवार को उतारने पर भी चर्चा हुई लेकिन वह तैयार नहीं हुए। उन्होंने कहा कि जो भी नाम आएगा उस पर विपक्षी दलों के बीच चर्चा होगी। 

ममता बनर्जी की अपील पर यह बैठक बुलाई गई थी। बैठक में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव, टीएमसी के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी, जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती, नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला, कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, राष्ट्रीय लोक दल के प्रमुख जयंत चौधरी, शिवसेना के नेता सुभाष देसाई, डीएमके के नेता टीआर बालू, आरजेडी के सांसद मनोज झा आदि शामिल रहे। 

presidential election 2022 Mamata Banerjee Meeting - Satya Hindi

कौन होगा उम्मीदवार?

विपक्ष के सामने सबसे बड़ी चुनौती साझा उम्मीदवार उतारने की है। शरद पवार के राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष का उम्मीदवार बनने से इनकार करने के बाद विपक्ष की मुश्किलें बढ़ गई हैं। अब विपक्ष को किसी बड़े चेहरे को सामने करना होगा और मजबूती के साथ चुनाव लड़ना होगा। लेकिन उसमें पहले ही फूट पड़ गई है। 

ताज़ा ख़बरें

गोपाल कृष्ण गांधी का नाम 

वाम दलों की ओर से महात्मा गांधी के पोते गोपाल कृष्ण गांधी का नाम राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष के उम्मीदवार के तौर पर सुझाया गया है। गोपाल कृष्ण गांधी ने इंडिया टुडे से इस बात की पुष्टि की है कि उनसे इस संबंध में बात की गई है। उन्होंने कहा कि यह अहम सुझाव है और उन्हें इस पर विचार करने के लिए कुछ वक्त चाहिए। गोपाल कृष्ण गांधी साल 2017 के उप राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष के उम्मीदवार थे लेकिन उन्हें एम. वेंकैया नायडू के हाथों हार का सामना करना पड़ा था। गोपाल कृष्ण गांधी दक्षिण अफ्रीका और श्रीलंका में भारत के राजदूत रह चुके हैं। 

यह भी कहा जा रहा है कि कांग्रेस के नेता गुलाम नबी आजाद को विपक्ष की ओर से राष्ट्रपति चुनाव में उम्मीदवार बनाया जा सकता है। एक चर्चा राज्यसभा के सांसद और कांग्रेस के पूर्व नेता कपिल सिब्बल को भी उम्मीदवार बनाए जाने की है। 

विपक्षी एकजुटता की कोशिशों को झटका

राष्ट्रपति चुनाव को लेकर विपक्षी एकजुटता की कोशिशों को उस वक़्त जोरदार झटका लगा जब 5 राजनीतिक दलों ने इस बैठक से किनारा कर लिया। इन दलों में टीआरएस के अलावा, आम आदमी पार्टी, बीजू जनता दल, शिरोमणि अकाली दल और वाईएसआर कांग्रेस शामिल हैं। 

बता दें कि राष्ट्रपति के चुनाव के लिए 18 जुलाई को मतदान होगा जबकि नतीजे 21 जुलाई को आएंगे। नामांकन की अंतिम तारीख 29 जून है।

सवाल यह है कि विपक्ष किसे अपना उम्मीदवार बनाएगा। इससे बड़ी बात यह है कि क्या विपक्ष राष्ट्रपति चुनाव में संयुक्त उम्मीदवार उतार पाएगा। अगर विपक्षी दलों के बीच संयुक्त उम्मीदवार उतारने को लेकर सहमति नहीं बनी तो बीजेपी और एनडीए के उम्मीदवार की राह इस चुनाव में आसान हो जाएगी। 

हालांकि शरद पवार इस मुद्दे पर विपक्षी दलों के बीच एक राय कायम करने में अपनी भूमिका निभाएंगे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें