loader

राष्ट्रपति चुनाव: 18 जुलाई को होगा मतदान, 21 को आएंगे नतीजे

राष्ट्रपति चुनाव के लिए तारीखों का एलान हो गया है। 18 जुलाई को मतदान होगा और जरूरी हुआ तो 21 जुलाई को मतगणना की जाएगी। निर्वाचन आयोग ने गुरूवार को इसका एलान किया। राष्ट्रपति चुनाव के लिए अधिसूचना 15 जून को जारी होगी, नामांकन की अंतिम तारीख 29 जून है जबकि 2 जुलाई तक नाम वापस लिए जा सकेंगे। निर्वाचन आयोग ने कहा कि नए राष्ट्रपति का शपथ ग्रहण समारोह 25 जुलाई को होगा। 

Presidential polls 2022 held on July 18 - Satya Hindi
राष्ट्रपति का यह चुनाव सरकार चला रहे एनडीए गठबंधन, विपक्ष में बैठे यूपीए गठबंधन और अन्य विपक्षी दलों के 2024 के लोकसभा चुनाव के लिए बनने वाले सियासी समीकरणों को भी साफ करेगा।

कैसे होता है चुनाव?

भारत के राष्ट्रपति का चुनाव लोकसभा और राज्यसभा के सांसदों और सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के विधायकों के द्वारा किया जाता है। हर सांसद के वोट की वैल्यू 700 है जबकि विधायकों के वोटों की वैल्यू हर राज्य में अलग-अलग होती है। निर्वाचन आयोग ने बताया कि राष्ट्रपति के चुनाव में 776 सांसद और 4033 विधायक मतदान करेंगे। इस तरह इस चुनाव में कुल 4,809 मतदाता हैं। आयोग ने बताया कि सांसदों के वोट की कुल वैल्यू 5,43,200 है जबकि विधायकों के वोट की वैल्यू 5,43,231 है और यह कुल मिलाकर 10,86,431 होती है। 

ताज़ा ख़बरें

उत्तर प्रदेश जैसे बड़े राज्य में हर विधायक के वोट की वैल्यू 208 है। क्योंकि उत्तर प्रदेश में बीजेपी और उसके सहयोगी दलों ने 273 सीटों पर जीत हासिल की है और कई राज्यों में बीजेपी की सरकार है इसलिए एनडीए के पास इस मामले में बढ़त है।

उत्तर प्रदेश विधानसभा के वोटों की कुल वैल्यू 83,824, पंजाब की 13,572, उत्तराखंड की 4480, गोवा की 800 और मणिपुर की 1080 है।

किसे उम्मीदवार बनाएगा एनडीए?

देखना होगा कि क्या एनडीए रामनाथ कोविंद को फिर से राष्ट्रपति के पद के लिए उम्मीदवार बनाएगा। बीजेपी एनडीए के उम्मीदवार को लेकर अपने सहयोगी दलों के साथ भी विचार विमर्श कर आम सहमति बनाने के काम में जुटी है। 

इसके अलावा वह विपक्षी दलों जैसे जगन मोहन रेड्डी की वाईएसआर कांग्रेस और नवीन पटनायक की बीजेडी के साथ भी बातचीत कर रही है। इसके लिए पार्टी ने अपने वरिष्ठ नेताओं को मोर्चे पर लगाया है। केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव नवीन पटनायक जबकि पार्टी के प्रवक्ता जीवीएल नरसिम्हा राव जगन मोहन रेड्डी के साथ बातचीत कर रहे हैं।

इस तरह की चर्चा है कि एनडीए कर्नाटक के राज्यपाल थावरचंद गहलोत को राष्ट्रपति पद के लिए जबकि केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी को उपराष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार बना सकता है। जबकि विपक्ष किन नामों पर दांव लगाएगा इस बारे में अभी कोई ठोस चर्चा सामने नहीं आई है। हालांकि यह चर्चा जरूर है कि विपक्ष राज्यसभा सांसद कपिल सिब्बल को संयुक्त प्रत्याशी के तौर पर राष्ट्रपति चुनाव में मैदान में उतार सकता है। 

नीतीश क्या करेंगे?

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार क्या एनडीए के उम्मीदवार का साथ देंगे? यह सवाल इसलिए उठा है क्योंकि नीतीश इन दिनों बिहार में विपक्षी दल आरजेडी के साथ दोस्ती बढ़ा रहे हैं। नीतीश ने इससे पहले भी एनडीए में रहते हुए ही उसके राष्ट्रपति के उम्मीदवार का समर्थन नहीं किया था। कुछ दिन पहले केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने नीतीश कुमार से मुलाकात कर उनसे राष्ट्रपति चुनाव के बारे में चर्चा की थी। 

केसीआर भी सक्रिय 

दूसरी ओर तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव यानी केसीआर भी एक बार फिर सक्रिय हुए हैं। केसीआर ने बीते दिनों कई विपक्षी नेताओं से मुलाकात की और इस दौरान 2024 के चुनाव के साथ ही राष्ट्रपति के चुनाव को लेकर भी चर्चा होने की बात सामने आई थी। 

देखने वाली बात यही है कि विपक्ष एकजुट होकर उम्मीदवार उतारेगा या वह बिखरा हुआ नजर आएगा। यदि विपक्ष एकजुट नहीं हुआ तो एनडीए के उम्मीदवार की जीत आसान हो जाएगी।

कांग्रेस कमजोर, बीजेपी मजबूत 

पांच राज्यों के चुनाव में कांग्रेस की हालत बेहद पतली रही है इसलिए राष्ट्रपति के चुनाव में वह यूपीए के किसी उम्मीदवार को मजबूती से खड़ा नहीं कर पाएगी। जबकि टीएमसी, डीएमके, शिवसेना, टीआरएस विपक्षी उम्मीदवार खड़ा करने में अहम रोल निभाएंगे।

जबकि दूसरी ओर बीजेपी को हाल ही में 4 राज्यों में बड़ी चुनावी जीत मिली है। कई राज्यों में उसकी अपने दम पर सरकार है और कई जगह वह सहयोगियों के साथ मिलकर सरकार चला रही है। ऐसे में राष्ट्रपति के चुनाव में निश्चित रूप से बीजेपी की अगुवाई वाले एनडीए का पलड़ा भारी है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें