loader
फ़ोटो क्रेडिट - https://kashmirlife.net/

पुलवामा पार्ट 2 की थी साज़िश, जैश और हिज़बुल मुजाहिदीन का हाथ: आईजी

जम्मू-कश्मीर के आईजी विजय कुमार ने पुलवामा में एक सफेद रंग की सेंट्रो कार में विस्फोटक मिलने के बारे में कहा है कि खु़फ़िया एजेंसियों को एक हफ़्ते से आत्मघाती हमला होने की सूचना मिल रही थी। उन्होंने कहा कि बुधवार को इस बात की पक्की सूचना मिली थी कि आतंकवादी संगठन हिज़बुल मुजाहिदीन और जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादी आत्मघाती हमला कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि यह हमला पुलवामा हमले की तरह ही किया जाना था। 

ताज़ा ख़बरें

आईजी ने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘हमें सूचना मिली थी कि आतंकवादियों ने सेंट्रो कार का इंतजाम किया है और इसमें बम भरकर हमला किया जा सकता है। सेना, पुलिस, सीआरपीएफ़ ने मिलकर बुधवार शाम को नाका लगाया और कार दिखने पर वॉर्निंग फ़ायर की। इस पर आतंकवादी सेंट्रो कार को छोड़कर भाग गया। गुरुवार सुबह बम को डिफ्यूज कर दिया गया।’ उन्होंने कहा कि आतंकवादियों का लक्ष्य किसी सुरक्षा बल की गाड़ी को निशाना बनाना था। 

आईजी ने कहा, ‘जैश और हिज़बुल के आतंकवादी मिलकर कश्मीर में आतंकवाद फैलाने की साज़िश रच रहे हैं। बीते कई महीनों में कई आतंकवादियों के लगातार मारे जाने के कारण इनके संगठन बौखलाए हुए हैं।’
आईजी ने कहा कि कार में 40 से 45 किलो विस्फोटक मिला है। उन्होंने कहा कि यह आर्मी, जम्मू-कश्मीर पुलिस और सीआरपीएफ़ की संयुक्त कामयाबी है। 
देश से और ख़बरें

40 से ज़्यादा जवान हुए थे शहीद

14 फ़रवरी, 2019 को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आत्मघाती हमले में 40 से ज़्यादा भारतीय जवान शहीद हो गये थे। आतंकवादियों ने योजना बनाकर इस हमले को अंजाम दिया था। हैरान करने वाली बात यह है कि हमले के एक साल बाद भी राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) अब तक यह पता नहीं कर पाई है कि इस हमले के लिए विस्फ़ोटकों का इंतजाम कहां से किया गया। जवानों की सुरक्षा को लेकर ढेरों सवाल उठने के बाद केंद्र सरकार की ओर से कहा गया था कि पुलवामा का हमला ख़ुफ़िया एजेंसियों की नाकामी नहीं था। 

पुलवामा हमले में जवानों की सुरक्षा में हुई जबरदस्त चूक को लेकर सैकड़ों सवाल उठे थे। सवाल उठे थे कि केंद्रीय पुलिस बल को बख़्तरबंद गाड़ियाँ क्यों नहीं मुहैया कराई गईं थीं। इतने बड़े काफ़िले के बीच जैश के आतंकवादी ने कैसे अपनी कार सीआरपीएफ़ की बस से टकरा दी?

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें