loader

जैसा हिटलर के शासन में हुआ, वैसा ही अब भारत में हो रहा है: अमरिंदर सिंह 

नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ दिल्ली के शाहीन बाग़ में पिछले एक महीने से चल रहे धरने के बाद देश के कई अन्य शहरों में भी महिलाएं धरने पर बैठ गई हैं। एक ओर इस क़ानून के ख़िलाफ़ आक्रोश बढ़ता जा रहा है, वहीं दूसरी ओर विपक्षी दलों की सरकारें इसे अपने राज्य में लागू करने से साफ़ इनकार भी कर चुकी हैं और इसके ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट भी पहुंच चुकी हैं। ऐसे में केंद्र सरकार की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही हैं। इस बीच, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने इस क़ानून को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जोरदार सियासी हमला बोला है। 

अमरिंदर सिंह ने कहा है कि यह क़ानून देश के धर्मनिरपेक्ष ढांचे के ख़िलाफ़ है। सिंह ने कहा कि भारत में जो कुछ हो रहा है वह वैसा ही है जैसा 1930 में जर्मनी में हुआ था, जब वहां एडोल्फ़ हिटलर का शासन था। 

अमरिंदर ने कहा, ‘जर्मनी के लोग तब नहीं बोले और उन्हें पछताना पड़ा लेकिन हमें अब बोलना पड़ेगा जिससे हमें पछताना ना पड़े।' मुख्यमंत्री ने अकालियों से कहा कि वे नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़तरों को समझने के लिए हिटलर की जीवनी पढ़ें।

पंजाब की विधानसभा में नागरिकता संशोधन क़ानून को रद्द करने का प्रस्ताव शुक्रवार को पास किया गया। अमरिंदर सिंह ने इस दौरान विधानसभा में कहा, ‘वर्तमान में जो हो रहा है, वह बेहद दुखद है। हमने कभी ऐसा नहीं सोचा था। हम केवल राजनीति के लिए भाईचारे को तोड़ना चाहते हैं। हमने इतिहास से कोई सबक नहीं सीखा है।’ 

ताज़ा ख़बरें

पंजाब की विधानसभा में इस क़ानून के ख़िलाफ़ प्रस्ताव पास होने से बीजेपी को जोरदार झटका लगा है क्योंकि इस प्रस्ताव का बीजेपी की सहयोगी शिरोमणि अकाली दल (बादल) ने भी समर्थन किया है। जबकि शिअद ने संसद में इस क़ानून का समर्थन किया था। शिअद नेता बिक्रम मजीठिया ने कहा कि अगर लोगों को लाइन में लगकर यह साबित करना पड़े कि उन्होंने कहां जन्म लिया है तो हम ऐसे किसी भी क़ानून के ख़िलाफ़ हैं। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार इस क़ानून के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाएगी। इससे पहले केरल और छत्तीसगढ़ की सरकार इस क़ानून के विरोध में सुप्रीम कोर्ट पहुंच चुकी हैं। 

देश से और ख़बरें
अमरिंदर सिंह ने कहा, ‘ग़रीब लोग कहां जाएंगे और वे कहां से जन्म प्रमाण पत्र लाएंगे। यह बड़ी त्रासदी है। मुझे बहुत दुख के साथ कहना पड़ रहा है कि मेरे देश में यह हो रहा है तो मैं सोचता हूं कि मुझे यहां नहीं होना चाहिए था, जब हम ऐसी स्थिति में पहुंच गए हैं जहां राजनीति के लिए भाईचारे को तोड़ा जा रहा है।’ 
अमरिंदर सिंह ने कहा कि उन्होंने कभी यह नहीं सोचा था कि भारत जैसे धर्मनिरपेक्ष देश में जहां पाकिस्तान से ज़्यादा मुसलिम आबादी है, वहां भी ऐसा हो सकता है।
अमरिंदर ने कहा, ‘वे लोग कहां जाएंगे जिन्हें आप ग़ैर-नागरिक कहते हैं? असम में विदेशी घोषित किये गये 18 लाख लोगों को अगर दूसरे देशों ने स्वीकार करने से मना कर दिया तो वे कहां जाएंगे। क्या किसी ने इस बारे में सोचा है।’ मुख्यमंत्री ने कहा कि क्या केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने इस बारे में सोचा है कि इन कथित विदेशी लोगों के साथ क्या होगा। सिंह ने भारतीय सेना के सिपाही अब्दुल हमीद की मिसाल दी, जिन्हें 1965 में भारत-पाकिस्तान के युद्ध में बहादुरी के लिए मरणोपरांत परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया था।
छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ मोदी सरकार पर हमला बोला है। बघेल ने कहा है कि ऐसा लगता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह के बीच नागरिकता संशोधन क़ानून के मुद्दे पर झगड़ा चल रहा है और इस वजह से पूरे देश के लोगों को परेशानी हो रही है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें