loader

रफ़ाल पर बोले मोदी, कांग्रेस को झूठ बोलने की आदत

पीएम मोदी ने रविवार को यूपीए अध्यक्ष सोनिया गाँधी के संसदीय क्षेत्र रायबरेली में मॉर्डन कोच फ़ैक्ट्री के 900वें कोच और हमसफर कोच के रेक को हरी झंडी दिखाई। पीएम ने 1100 करोड़ की परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास भी किया। इस दौरान हुई जनसभा में पीएम मोदी ने रफ़ाल डील पर सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के संदर्भ में कांग्रेस पर पलटवार किया। 
मोदी ने कहा, ‘कांग्रेस रक्षा सौदों को लेकर इसलिए परेशान है क्योंकि उसमें क्वात्रोची मामा या फिर मिशेल अंकल नहीं है। कांग्रेस ने इस आरोपी को बचाने के लिए अपना वकील अदालत में भेज दिया।’ उन्होंने कहा कि कांग्रेस के लिए देश का रक्षा मंत्रालय भी झूठा है। देश की रक्षा मंत्री झूठी हैं। भारतीय वायुसेना के अफ़सर भी झूठे हैं। फ़्रांस की सरकार झूठी है। अब उन्हें देश की सर्वोच्च अदालत भी झूठी लगने लगी है। लेकिन वे नहीं जानते कि सच को श्रृंगार की जरूरत नहीं होती और झूठ चाहे जितना भी बोला जाए उसमें जान नहीं होती है।' मोदी ने इस दौरान सीमा पर तैनात सैनिकों के लिए भारत माता की जय के नारे भी लगवाए। 
जनसभा में पीएम मोदी ने कहा कि चार साल तक रायबरेली में सिर्फ़ कपूरथला से लाए गए कोचों में पेच कसने और पेंट करने का काम होता था। पीएम ने कहा कि इस फ़ैक्ट्री को कभी भी पूरी क्षमता से काम नहीं करने दिया गया। उन्होंने कहा कि इस फ़ैक्ट्री के लगने से यहाँ के युवाओं को रोजगार मिलेगा। 
सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को रफ़ाल डील पर फ़ैसला सुनाया था। इसके बाद कांग्रेस ने मोदी सरकार पर कोर्ट को गुमराह करने का आरोप लगाया था। राहुल गाँधी ने आरोप लगाया कि मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में झूठी जानकारी दी है। इसके बाद केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में ग़लती को सुधारने के लिए शपथ पत्र दिया है। 
पीएम ने कहा, ‘कांग्रेस सरकारों का रवैया सेनाओं के प्रति ख़राब रहा है। इस रवैये के लिए देश उन्हें माफ़ नहीं करेगा।’ उन्होंने कहा कि बीजेपी के लिए दल से पहले देश है। पीएम मोदी ने कहा कि केन्द्र सरकार देशहित, राष्ट्रहित और जनहित को सर्वोपरि रखती है और यही उनकी सरकार के संस्कार हैं। पीएम मोदी ने सवाल पूछा कि करगिल युद्ध के बाद सेना ने आधुनिक विमानों की जरूरत बताई थी, कांग्रेस ने 10 साल राज किया लेकिन वायुसेना को मजबूत नहीं होने दिया, आख़िर किसके दबाव में कांग्रेस शांत बैठी रही?'।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें