loader

अंबाला एयरफोर्स स्टेशन पहुंची ताक़तवर लड़ाकू विमान राफ़ेल की पहली खेप 

ताक़तवर लड़ाकू विमान राफ़ेल की पहली खेप अंबाला स्थित एयरफोर्स स्टेशन पर पहुंच गयी है। इस खेप को वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया ने ख़ुद अंबाला पहुंचकर रिसीव किया। भारतीय वायुसीमा में दाखिल होते ही आईएनएस कोलकाता ने इसका हैप्पी लैंडिंग कहकर स्वागत किया। अंबाला एयरफोर्स स्टेशन पहुंचने पर रफ़ाल को वाटर सैल्यूट दिया गया। पहली खेप में 5 विमान हैं बाकी विमानों की सप्लाई 2022 तक होगी। 

राफ़ेल के भारत पहुंचने पर अंबाला के लोगों में जबरदस्त उत्साह है। लोगों ने मिठाईयां बांटीं और तिरंगा लहराया। 

राफ़ेल के आने के चलते अंबाला एयरफोर्स स्टेशन पर भीड़ जुटने की संभावना थी इसलिए आसपास के इलाक़ों में धारा 144 लगा दी गई है। किसी भी तरह की फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी पर भी पाबंदी लगा दी गई है। कहा गया था कि अगर मौसम ठीक नहीं रहा तो राफ़ेल को जोधपुर एयरबेस पर उतारा जा सकता है। 

ताज़ा ख़बरें

राफ़ेल को भारतीय वायुसेना के लिए अहम माना जा रहा है और इससे वायुसेना की ताक़त में इजाफ़ा होगा। चीन के साथ सीमा पर चल रहे तनाव और पाकिस्तान की ओर से भारत के ख़िलाफ़ जारी साज़िशों के बीच राफ़ेल के आने से निश्चित रूप से भारत के हौसले बुलंद होंगे और दुश्मन के हौसले पस्त होंगे। 

राफ़ेल विमानों को खरीदने की सिफारिश फरवरी, 2012 में की गई थी और यदि वक्त पर इनकी ख़रीद का सौदा सम्पन्न हो जाता तो आज भारतीय वायुसेना के बेड़े में केवल पांच नहीं कुल 120 लड़ाकू विमान शामिल होते।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें