loader

कोरोना- 20 लाख का आँकड़ा पार, ग़ायब है मोदी सरकार: राहुल गाँधी

देश में कोरोना संक्रमण का मामला आने से पहले से ही चेताते रहे राहुल गाँधी ने अब कोरोना संक्रमितों की संख्या 20 लाख को पार करने पर कहा है कि मोदी सरकार कहाँ ग़ायब है। वह पहले से ही आरोप लगाते रहे हैं कि सरकार इस वायरस को लेकर ढुलमुल रवैया अपनाती रही है और इसने पहले से पूरी तैयारी नहीं की।

देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या बेतहाशा बढ़ने पर कांग्रेस नेता राहुल गाँधी ने मोदी सरकार को आड़े हाथों लिया है। अब कोरोना संक्रमितों की संख्या इतनी ज़्यादा होने पर राहुल ने ट्वीट किया है। 

इससे पहले 17 जुलाई को कोरोना संक्रमितों की संख्या 10 लाख होने पर भी राहुल ने ट्वीट कर आगाह किया था। उन्होंने आज उस ट्वीट को रीट्वीट करते हुए ही नया ट्वीट किया है। 17 जुलाई के ट्वीट में उन्होंने कहा था कि यदि इसी तेज़ी से कोरोना फैलता रहा तो 10 अगस्त तक देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 20 लाख से ज़्यादा हो जाएगी। हुआ भी यही। हालाँकि 10 अगस्त से काफ़ी पहले ही यह संख्या बीस लाख के पार कर गई। 

दरअसल, राहुल इस बात पर ज़ोर देते रहे हैं कि वह कोरोना संक्रमण के बारे में जो आगाह करते रहे हैं क़रीब-क़रीब वैसे ही हालात बन रहे हैं। राहुल ने पहले भी प्रधानमंत्री मोदी के उन दावों को लेकर तंज कसते हुए ट्वीट किया था जिसमें प्रधानमंत्री ने कहा था कि 'सही समय पर सही फ़ैसले लेने के कारण भारत दूसरे देशों की अपेक्षा बेहतर स्थिति में है।'

ताज़ा ख़बरें

प्रधानमंत्री की 21 दिन में कोरोना संक्रमण के ख़िलाफ़ लड़ाई जीतने वाली बात पर भी राहुल ने सवाल खड़े किए थे। उन्होंने एक वीडियो को शेयर किया था। वीडियो के सबसे ऊपरी हिस्से में लिखा था- कोरोना के ख़िलाफ़ लड़ाई। इस वीडियो में कोरोना पर प्रधानमंत्री द्वारा दिए गए कई भाषणों के कुछ अंश लिए गए। वीडियो के बैकग्राउंड में प्रधानमंत्री का भाषण चलता दिखाया गया  और इसके ऊपर भारत में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को और कैसे देश तीसरे स्थान पर पहुँच गया। वीडियो में प्रधानमंत्री मोदी कहते हैं, 'महाभारत का युद्ध 18 दिन में जीता गया था। आज कोरोना के ख़िलाफ़ युद्ध पूरा देश लड़ रहा है उसमें 21 दिन लगने वाले हैं।... ताली बजाकर के, थाली बजाकर के.... घंटी बजाकर के। ... मोमबत्ती, दीया, टॉर्च या मोबाइल की फ्लैशलाइट जलाएँ।'

बता दें कि अब देश में कोरोना संक्रमण काफ़ी तेज़ी से फ़ैल रहा है। पहले दस लाख पहुँचने में क़रीब 24 हफ़्ते का समय लगा था जबकि अब सिर्फ़ तीन हफ़्ते में ही 10 लाख संक्रमण के मामले आ गए हैं। हाल के दिनों में संक्रमण की रफ़्तार काफ़ी तेज़ हुई है और अब हर दो दिन में एक लाख संक्रमण के मामले आने लगे हैं। इस मामले में भारत अब भी अमेरिका और ब्राज़ील के बाद तीसरे स्थान पर है। अमेरिका में कोरोना से प्रभावित लोगों की तादाद 50 लाख और ब्राज़ील में 28 लाख से ज़्यादा है। 

देश से और ख़बरें
देश में 30 जनवरी को पहला मामला आया था और 17 जुलाई को कोरोना संक्रमितों की संख्या 10 लाख पहुँची थी। लेकिन अब गुरुवार यानी छह अगस्त को ही संक्रमितों की संख्या 20 लाख से ज़्यादा हो गई है। देश में संक्रमण बढ़ने की इस रफ़्तार को शुरुआत से देखें तो मामले लगातार बढ़ते हुए दिखते हैं। 30 जनवरी को पहला मामला आने के बाद 31 फ़रवरी तक सिर्फ़ 3 मामले थे। 24 मार्च को जब प्रधानमंत्री ने लॉकडाउन की घोषणा की थी तब सिर्फ़ 564 कोरोना वायरस पॉजिटिव मामले थे। 31 मार्च तक क़रीब 1400 मामले आए थे। अप्रैल के आख़िर में यह संख्या बढ़कर क़रीब 35 हज़ार के पास पहुँच गई थी।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें