loader

पीआर वाली मीडिया रणनीति के बूते चीन से लड़ना संभव नहीं: राहुल

गलवान में हुई हिंसा के बाद भारत सरकार लगातार नकारती रही कि चीन हमारी सीमा में नहीं घुसा है। तो लोगों ने सवाल पूछा कि फिर आप चीन से इतने दौर की सैन्य या राजनीतिक स्तर की वार्ता क्यों कर रहे हैं। भारतीय सेना के जवान दिन-रात मुल्क़ की सरहदों की हिफ़ाजत में खड़े हैं लेकिन सरकार के बयान इस स्थिति को साफ नहीं करते कि चीन हमारी सीमा के अंदर घुसा है या नहीं। 

2017 में चीन ने इसी तरह डोकलाम में घुसने की कोशिश की थी। ताज़ा वाक़या यह है कि जब एनडीटीवी ने यह बताया कि चीन भूटान की सीमा के दो किमी. अंदर तक घुस आया है और उसने 9 किमी. अंदर तक सड़क बना ली है, तो भारत सरकार के डोकलाम से चीन के चले जाने के दावों पर सवाल खड़े हुए। इसकी सेटेलाइट तसवीरें भी सामने आईं हैं। 

ताज़ा ख़बरें

इसी को लेकर कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने सोमवार को मोदी सरकार पर हमला बोला है। राहुल ने लिखा, ‘चीन की भू-राजनीतिक रणनीति का मुक़ाबला पब्लिक रिलेशन से चलने वाली मीडिया की रणनीति से नहीं किया जा सकता है।’ उन्होंने कहा कि लगता है कि इतनी साधारण सी बात को भी भारत सरकार चला रहे लोगों ने टाल दिया है। 

राहुल का यह निशाना मीडिया के उस वर्ग पर है जिसने दिन-रात यह जोरदार अभियान चलाया हुआ है कि नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में चीन भारत से थर-थर कांप रहा है। राहुल ने यह समझाने की कोशिश है कि मीडिया के इस वर्ग के द्वारा जो दिखाया जा रहा है, वह ज़मीनी हालात से उलट है। 

चीन पर भरोसा करना मुश्किल 

सीमाओं का विस्तार करने में जुटा चीन तिब्बत, ताईवान पर अवैध कब्जा करे बैठा है। वह लद्दाख और अरुणाचल को अपना हिस्सा बताता है। हाल ही में दोनों देशों की सेनाओं के पुरानी स्थिति में लौट जाने की ख़बरें आई हैं लेकिन फिर भी ड्रैगन पर भरोसा करना ख़तरे से खाली नहीं है।

लद्दाख से चीनी सेना की वापसी की ख़बरों पर देखिए वीडियो-

घुसपैठ की जानकारी हटाई 

अगस्त महीने में भारत सरकार के रक्षा मंत्रालय ने चीन के द्वारा गलवान में आधिकारिक तौर पर घुसपैठ की बात मानी थी। रक्षा मंत्रालय ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट @DefenceMinIndia पर दी गई जानकारी में घुसपैठ को स्वीकार किया था। लेकिन यह बात प्रधानमंत्री मोदी के ‘कोई नहीं घुसा है’ वाले बयान के उलट थी। 

मंत्रालय ने पहले अपनी वेबसाइट पर लिखा था,  'वास्तविक नियंत्रण रेखा और ख़ास कर गलवान घाटी में 5 मई, 2020 से ही चीन की आक्रामकता बढ़ती जा रही है। चीनी सेना ने 17-18 मई, 2020 को कुगरांग नाला, गोगरा और पैंगोंग त्सो के उत्तरी किनारे पर सीमा का उल्लंघन किया।' लेकिन थोड़ी देर बाद इसे वेबसाइट से हटा दिया गया। 

देश से और ख़बरें
इसके बाद भी राहुल ने प्रधानमंत्री मोदी को घेरा था। राहुल ने ट्वीट कर कहा था, 'चीन का डट कर विरोध करना तो दूर की बात है, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चीन का नाम तक नहीं ले रहे हैं।' राहुल ने यह भी कहा था, 'पहले भारतीय सरज़मीं पर चीनी सैनिकों के होने की बात से इनकार करने और उसके बाद उससे जुड़े क़ाग़जात को वेबसाइट से हटा देने से तथ्य नहीं बदलेंगे।'

गलवान में चीनी घुसपैठ और जवानों की शहादत को लेकर कांग्रेस का रूख़ बेहद आक्रामक रहा था। कांग्रेस ने कहा था कि 15 जून की रात के बाद से ही सीमाओं की ज़मीनी हक़ीक़त को लेकर देश के लोगों को अंधेरे में रखा गया। पार्टी ने पूछा था कि पीएम मोदी हमारे शहीदों को इंसाफ़ कैसे दिलाएंगे और कब वह गलवान में हुई हिंसा और हमारी सीमा में घुसपैठ के लिए खुलकर चीन का नाम लेंगे। राहुल ने कहा था, ‘लद्दाख के लोग कह रहे हैं कि चीन हमारी ज़मीन ले रहा है और प्रधानमंत्री कहते हैं कि हमारी ज़मीन किसी ने नहीं ली है। जाहिर है, कोई न कोई झूठ बोल रहा है।’ 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें