loader

राहुल ने छेड़ा 'रोज़गार दो' अभियान, मोदी पर किया तंज

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने बेरोज़गारी का मुद्दा उठाते हुए नरेंद्र मोदी सरकार पर ज़ोरदार हमला बोला है और तीखा तंज किया है। उन्होंने 'रोज़गार दो' अभियान शुरू करते हुए सरकार पर निशाना साधा है। राहुल गांधी ने कहा कि मोदी ने हर साल 2 करोड़ लोगों को रोज़गार देने का वादा किया था, पर इसके बदले 14 करोड़ लोग बेरोज़गार हो गए।
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने ट्वीट किया, 'जब नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बने थे तो उन्होंने देश के युवाओं से वादा किया था कि 2 करोड़ युवाओं को वह रोजगार देंगे। हर साल। बहुत बड़ा सपना दिया। लेकिन सच्चाई निकली, नरेंद्र मोदी की नीतियों ने 14 करोड़ लोगों को बेरोज़गार बना दिया है।'
देश से और खबरें
राहुल गांधी ने इस स्थिति के लिए मोदी सरकार की नीतियों, ख़ास कर नोटबंदी को ज़िम्मेदार ठहराया। उन्होंने ट्वीट कर कहा, 'यह क्यों हुआ? ग़लत नीतियों के कारण हुआ। नोटबंदी, ग़लत जीएसटी, और फिर लॉकडाउन। इन तीन तत्वों ने हिंदुस्तान के ढाँचे को, इकोनॉमिक स्ट्रक्चर को खत्म कर दिया है, नष्ट कर दिया है। अब सच्चाई यह है कि हिंदुस्तान अब अपने युवाओं को रोज़गार नहीं दे सकता है। इसलिए यूथ कांग्रेस ज़मीन पर उतर रही है।'

हमलावर राहुल

याद दिला दें कि बीते कुछ दिनों से राहुल गांधी ट्वीट के ज़रिए केंद्र सरकार और बीजेपी के मुद्दे पर लगातार हमले बोलते रहे हैं। चीनी घुसपैठ, कोरोना से निपटने में सरकार की नाकामी, आर्थिक समस्याएं, बेरोज़गारी जैसे मुद्दों पर उन्होंने कई बार अभियान छेड़ दिया और एक के बाद एक कई ट्वीट किये हैं।
राहुल गांधी केंद्र सरकार पर हमले ऐसे समय कर रहे हैं जब विपक्ष लगभग निस्तेज पड़ा हुआ है। दूसरे दलों के नेता चुप हैं, कहीं से कोई विरोध नहीं हो रहा है। स्वयं कांग्रेस पार्टी की स्थिति भी बेहद कमज़ोर हो चुकी है और उसमें बड़े पैमाने पर बग़ावत हो रही है।
जहां तक बेरोज़गारी का सवाल है, लॉकडाउन के पहले ही इस मामले में स्थिति बहुत ही बुरी हो चुकी थी। बेरोज़गारी को शीर्ष पर माना गया था और यह कहा जा रहा था कि अर्थव्यवस्था सुस्त होने के कारण ऐसा हो रहा है। इसे नोटबंदी से जोड़ कर देखा जा रहा था। लॉकडाउन के बाद यह स्थिति विकराल हो चुकी है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें