loader

राम मंदिर निर्माण: भूमि पूजन से पहले आडवाणी का संदेश, बोले- सपना पूरा हो रहा है

5 अगस्त को अयोध्या में होने वाले राम मंदिर निर्माण के भूमि पूजन कार्यक्रम से पहले पूर्व उप प्रधानमंत्री लाल कृष्ण आडवाणी ने वीडियो संदेश जारी कर अपनी बात कही है। आडवाणी ही वह नेता हैं, जिन्हें राम मंदिर आंदोलन को देश के कोने-कोने तक पहुंचाने का श्रेय दिया जाता है। 

92 वर्ष के आडवाणी ने मंगलवार शाम को अपने संदेश में कहा, ‘जीवन के कुछ सपने पूरे होने में बहुत समय लेते हैं। लेकिन जब वे चरितार्थ होते हैं तो लगता है कि प्रतीक्षा सार्थक हुई। ऐसा ही एक सपना जो मेरे हृदय के समीप है, अब पूरा हो रहा है।’ 

आडवाणी ने कहा, ‘अयोध्या में श्री राम जन्मभूमि पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा श्री राम मंदिर का भूमि पूजन हो रहा है। निश्चय ही यह केवल मेरे लिए ही नहीं, समस्त भारतीय समुदाय के लिए एतिहासिक क्षण है और भावपूर्ण भी।’ 

ताज़ा ख़बरें

वयोवृद्ध नेता आडवाणी ने कहा कि श्री राम जन्मभूमि पर भव्य राम मंदिर का निर्माण भारतीय जनता पार्टी का एक स्वप्न रहा है और मिशन भी। 

उन्होंने आगे कहा, ‘मैं विनम्रता का अनुभव करता हूं कि नियति ने मुझे वर्ष 1990 में राम जन्मभूमि आंदोलन के दौरान सोमनाथ से अयोध्या तक राम रथ यात्रा का दायित्व प्रदान किया और इस यात्रा ने असंख्य लोगों की आकांक्षा, ऊर्जा को प्रेरित किया।’

 

लाल कृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी इस कार्यक्रम में शामिल नहीं हो रहे हैं और वे वीडियो कॉन्फ्रेन्सिंग के माध्यम से घर पर ही इसका लाइव प्रसारण देखेंगे। इससे पहले इन दोनों बुजुर्ग नेताओं को भूमि पूजन कार्यक्रम के लिए निमंत्रण देर में दिए जाने की चर्चा तेजी से चली थी। 

देश से और ख़बरें

रथ यात्रा में सारथी थे मोदी 

आडवाणी ने ही गुजरात के सोमनाथ से उत्तर प्रदेश के अयोध्या तक हजारों किमी लंबी रथ यात्रा के जरिये राम मंदिर के पक्ष में माहौल बनाया था। हालांकि वह यात्रा पूरी नहीं कर सके थे और रास्ते में ही बिहार के तत्कालीन मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव ने उन्हें समस्तीपुर में गिरफ़्तार कर लिया था। इस रथ यात्रा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनके सारथी रहे थे। 

सरयू तट पर रहेंगी उमा 

राम मंदिर आंदोलन में प्रमुख भूमिका निभाने वाली और बीजेपी नेता उमा भारती ने अयोध्या आने के बारे में बताया है लेकिन उन्होंने कहा है कि वह मुख्य कार्यक्रम स्थल से दूर सरयू तट पर डेरा डालेंगी। उमा भारती का कहना है कि भोपाल से अयोध्या तक के रास्ते में वह किसी कोरोना संक्रमित के संपर्क में आ सकती हैं, इसलिए मुख्य कार्यक्रम में जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रहेंगे, उनका शामिल होना उचित नहीं होगा। उमा भारती का कहना है कि कार्यक्रम समाप्त होने के बाद वह अलग से रामलला के दर्शन करने जाएंगी।

घरों में रहें लोग: योगी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपील की है कि वे इस कार्यक्रम को अपने घरों में रहकर टीवी पर ही देखें और कोरोना संक्रमण के ख़तरे को देखते हुए अयोध्या में न जुटें। राम जन्म भूमि परिसर में स्थित राम लला मंदिर के प्रधान पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास और उनके दो सहायक पुजारियों प्रदीप दास व अशोक को क्वारेन्टीन कर दिया गया है। प्रदीप दास 30 जुलाई को कोरोना पाजिटिव पाए गए थे। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें