loader

दंगेः 13 विपक्षी दलों ने कहा - हम पीएम की चुप्पी पर हैरान

हाल ही के साम्प्रदायिक दंगों पर प्रधानमंत्री मोदी की चुप्पी से देश के 13 विपक्षी दल हैरान हैं। उन्होंने शनिवार को शांति और सद्भाव बनाए रखने के लिए एक संयुक्त अपील जारी की। उन्होंने सांप्रदायिक हिंसा के अपराधियों के लिए कड़ी सजा की मांग की। चुप्पी के लिए पीएम पर हमला करते हुए कहा गया कि पीएम मोदी ऐसे लोगों के खिलाफ बोलने में नाकाम रहे हैं जो कट्टरता का प्रचार करते हैं और जो अपने शब्दों और कार्यों से हमारे समाज को उकसाते और भड़काते हैं।
बयान में कहा गया है, यह चुप्पी इस बात का स्पष्ट प्रमाण है कि इस तरह की भीड़ इस संरक्षण का फायदा उठाती है। हस्ताक्षर करने वालों में कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, राष्ट्रवादी कांग्रेस, सीपीएम, डीएमके, आरजेडी सहित अधिकांश प्रमुख विपक्षी दल शामिल हैं। इस सूची में शिवसेना और आम आदमी पार्टी का नाम नहीं है।

ताजा ख़बरें
बयान में कहा गया है, जिस तरह से हमारे समाज का ध्रुवीकरण करने के लिए सत्ताधारी दल से जुड़े संगठनों द्वारा जानबूझकर भोजन, पोशाक, आस्था, त्योहारों और भाषा से जुड़े मुद्दों का इस्तेमाल किया जा रहा है, उससे हम बेहद दुखी हैं। देश में जब व्यक्तिगत आस्था, कपड़े, मनचाहे भोजन पर प्रतिबंध और एक विशेष भाषा थोपने, सांप्रदायिक झड़पों के मामलों में बढ़ोतरी हो रही है, उसी के बीच यह अपील आई है।
इसमें कहा गया है कि हम अपने दृढ़ विश्वास को दोहराते हैं कि हमारा देश तभी समृद्ध होगा जब वह पूरी तरह से अपनी कई विविधताओं का सम्मान, समायोजन और जश्न मनाएगा। अपील ने स्पष्ट रूप से सरकार पर उन लोगों को संरक्षण देने का आरोप लगाया जो भड़काऊ भाषण देते हैं और इसमें लिप्त होते हैं। बयान में कहा गया है, हम देश में ऐसे लोगों द्वारा अभद्र भाषा की बढ़ती घटनाओं से बेहद चिंतित हैं, जिन्हें आधिकारिक संरक्षण प्राप्त है और जिनके खिलाफ कोई सार्थक और कड़ी कार्रवाई नहीं की जा रही है।

देश से और खबरें
राज्यों में सांप्रदायिक हिंसा की हालिया घटनाओं की निंदा करते हुए, बयान में कहा गया कि तमाम रिपोर्ट उस क्षेत्र में एक "भयावह पैटर्न" को दर्शाती हैं, जहां ऐसी घटनाएं हुई हैं। बयान में विभिन्न स्थानों पर रामनवमी जुलूसों के दौरान हाल ही में अभद्र भाषा और झड़पों का जिक्र किया गया है। नफरत फैलाने के लिए सोशल मीडिया और ऑडियो-विजुअल प्लेटफॉर्म के दुरुपयोग पर भी चिंता व्यक्त की।विपक्षी दलों ने सदियों से भारत को परिभाषित और समृद्ध करने वाले सामाजिक सद्भाव के बंधन को मजबूत करने" के लिए मिलकर काम करने के सामूहिक संकल्प का आह्वान किया है। कहा गया कि हम लोग सभी वर्गों से शांति बनाए रखने और सांप्रदायिक ध्रुवीकरण को तेज करने की इच्छा रखने वालों के भयावह मकसद को नाकाम करने की अपील करते हैं। हम देश भर में अपनी सभी पार्टी इकाइयों से शांति और सद्भाव बनाए रखने के लिए स्वतंत्र रूप से और संयुक्त रूप से काम करने का आह्वान करते हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें