loader

नौसेना में फर्जी बिल के जरिए 6.76 करोड़ के घोटाले का आरोप, सीबीआई ने की छापेमारी 

फर्जी बिल बनाकर नौसेना में 6.76 करोड़ का कथित घोटाला होने की बात सामने आई है। इस मामले में जांच एजेंसी सीबीआई ने वेस्टर्न नेवल कमांड (डब्ल्यूएनसी) के 4 अफ़सरों व 14 अन्य लोगों के ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज किया है। अफ़सरों में एक कैप्टन भी शामिल है। 

एनडीटीवी के मुताबिक, सीबीआई ने अभियुक्तों के ठिकानों पर छापेमारी की है और कुछ अहम सामग्री बरामद की है। बताया गया है कि सीबीआई ने दिल्ली, गुजरात, महाराष्ट्र और कर्नाटक में 30 ठिकानों पर छापे मारे हैं। आरोप है कि ये फर्जी बिल डब्ल्यूएनसी में आईटी हार्डवेयर की आपूर्ति के नाम पर बनाए गए थे। 

ताज़ा ख़बरें

सीबीआई द्वारा दर्ज एफ़आईआर में कहा गया है, डब्ल्यूएनसी के और नेवी के रक्षा खातों के प्रधान नियंत्रक कार्यालय, मुंबई के कुछ अफ़सरों ने निजी क्षेत्र के कुछ लोगों और कंपनियों के साथ मिलकर वेस्टर्न नेवल के अधिकारियों को धोखा देने की साज़िश रची और फर्जी बिल बनाए। 

सीबीआई ने कहा है कि कैप्टन अतुल कुलकर्णी, कमांडर मंदार गोडबोले और ओपी शर्मा की इसमें प्रमुख भूमिका थी। सीबीआई के मुताबिक़ सात फर्जी बिल बनाए गए थे और यह घटना 2016 की है। 

देश से और ख़बरें
मुंबई स्थित नेवी के रक्षा खातों के प्रधान नियंत्रक कार्यालय के पांच अफ़सरों को भी सीबीआई की ओर से अभियुक्त बनाया गया है। इन पर आरोप है कि बिलों की ऑडिटिंग और पेमेंट में इनकी भूमिका रही है। 

जांच एजेंसी ने कहा है कि सभी अभियुक्तों ने अपने पदों का दुरुपयोग कर सीनियर अधिकारियों को धोखा दिया और जनता के पैसे को लूटा। 

एनडीटीवी के मुताबिक़, सीबीआई के सूत्रों ने कहा कि शुरुआती जांच में यह पता चला है कि इन बिलों में दर्ज की गई किसी भी वस्तु की आपूर्ति डब्ल्यूएनसी के ऑफ़िस को नहीं की गई। इसके अलावा बिलों की प्रक्रिया, इनकी स्वीकृति, वित्तीय मंजूरी, खरीद के ऑर्डर से जुड़ा कोई भी दस्तावेज डब्ल्यूएनसी के ऑफ़िस में नहीं है और इससे पता चलता है कि ये सारे बिल पूरी तरह जाली थे। 

सात में से दो बिलों की कॉपी एनडीटीवी के पास है। 1.91 करोड़ का एक बिल 23 मार्च, 2016 को स्टार नेटवर्क के नाम पर बना था जबकि 2.93 करोड़ का दूसरा बिल एसीएमई नेटवर्क के नाम बना था। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें