loader

लोगों की आवाज़ को कुचलने की कोशिश, लगाया जा रहा राजद्रोह: जस्टिस लोकुर

कई अहम मसलों पर न्यायपालिका को भी कटघरे में खड़े करने वाले सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस मदन बी. लोकुर ने कहा है कि लोगों की आवाज़ को दबाया जा रहा है। पूर्व न्यायाधीश ने कहा कि सरकार के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाने के कारण हज़ारों लोगों को जेल में डाल दिया गया है। 

जस्टिस लोकुर ‘फ़्रीडम ऑफ़ स्पीच एंड ज्युडिशरी’ विषय पर सोमवार को हुए सेमिनार में बोल रहे थे। इस वेबिनार का आयोजन कैम्पेन फ़ॉर ज्यूडिशल अकाउंटिबिलिटी और स्वराज अभियान एनजीओ की ओर से किया गया था।

कई लोग अपनी आवाज़ उठा रहे हैं लेकिन सरकारें सोचती हैं कि वे ऐसा करके अपनी हदों को पार कर रहे हैं। तो लोग क्या कर सकते हैं। वे सड़कों पर नहीं जा सकते और हिंसा नहीं कर सकते। वे केवल अपनी बात को कहना जारी रख सकते हैं।


पूर्व जस्टिस मदन बी. लोकुर

जस्टिस लोकुर ने कहा कि लोगों द्वारा अपनी आवाज़ को उठाने पर राज्य सरकारें उन पर राजद्रोह का मुक़दमा लगा देती हैं। उन्होंने कहा, ‘राजद्रोह का इस्तेमाल लोगों की आवाज़ को सख़्ती से कुचलने के लिए किया जा रहा है। राजद्रोह देश की आज़ादी की लड़ाई लड़ने वालों पर लगाया जाता था।’ 

ताज़ा ख़बरें

पूर्व न्यायाधीश ने कहा कि ऐसा भाषण जो देश की एकता और अखंडता की बात करता हो, उसे देश तोड़ने वाला करार दिया जा रहा है और ऐसी बातें कहने वालों को नज़रबंदी या हिरासत में रखा जा रहा है। 

जस्टिस लोकुर ने कहा, ‘कुछ युवा, छात्र जिससे देश के लिए कुछ बेहतर हो सके, उस बात को उठा रहे हैं लेकिन आप कहते हैं कि हम आपको गैर-कानूनी गतिविधियों और राजद्रोह के लिए गिरफ़्तार कर रहे हैं। लेकिन कुछ ऐसे लोग भी हैं जो हिंसा की बात करते हैं और आप उनके ख़िलाफ़ कुछ भी नहीं करते।’ 

हालांकि जस्टिस लोकुर ने किसी का नाम नहीं लिया लेकिन उनका इशारा डॉ. कफ़ील की ओर था, जिन्हें 8 महीने तक नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ भड़काऊ भाषण देने के आरोप में जेल में बंद रखा गया था। न्यायपालिका को लेकर देखिए, वरिष्ठ पत्रकारों की चर्चा- 

योगी सरकार ने डॉ. कफ़ील की रिहाई रोकने की पूरी कोशिश की लेकिन इलाहाबाद हाई कोर्ट ने सरकार से तुरंत उन्हें रिहा करने के लिए कहा। जस्टिस लोकुर ने सवाल उठाया कि किसी को अवैध रूप से क़ैद में रखने जाने से उस शख़्स को हुए नुक़सान की भरपाई कौन करेगा। 

वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण के ख़िलाफ़ हाल ही में चले अवमानना के मामले को लेकर जस्टिस लोकुर ने कहा कि भूषण की कोई भी मंशा न्यायपालिका के ख़िलाफ़ जाने की नहीं थी। 

जस्टिस लोकुर ने जेएनयू के छात्र उमर ख़ालिद को गिरफ़्तार किए जाने की निंदा की। ख़ालिद पर दिल्ली दंगों की साज़िश रचने का आरोप है।

देश से और ख़बरें

‘क्या यह न्याय है’

आम आदमी के मसलों को लगातार उठाने वाले पूर्व जस्टिस लोकुर ने दिल्ली में इस साल फ़रवरी में हुए दंगों को लेकर 4 हफ़्ते बाद एफ़आईआर दर्ज होने को लेकर नाराजगी जताई थी। जस्टिस लोकुर ने कहा था कि क्या यह न्याय है। उन्होंने कहा था कि दिल्ली में ताक़तवर लोगों द्वारा भड़काऊ भाषण और नारे लगाए गए और ऐसे मामलों में पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी रही। जबकि दूसरी तरफ़ कमज़ोर लोगों पर राजद्रोह का आरोप लगाकर उनको सलाखों के पीछे धकेल दिया गया। 

पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के राज्यसभा का सदस्य नियुक्त होने के बाद भी लोकुर ने इसे लेकर सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा था कि क्या आख़िरी क़िला भी ढह गया है? उनका यह बयान न्यायपालिका की स्वतंत्रता, निष्पक्षता और अखंडता के संदर्भ में आया था क्योंकि गोगोई ने चीफ़ जस्टिस रहते हुए ही कहा था कि सेवानिवृत्ति के बाद जजों की नियुक्ति न्यायपालिका की आज़ादी पर ‘धब्बा’ है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें