loader

सीरो सर्वे से जानिए, यूपी-बिहार-एमपी में दर्ज कोरोना केस कितने कम!

केंद्र सरकार के ही आँकड़े बिहार, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण के कम आँकड़े दर्ज किए जाने का पोल खोलते हैं। सरकारी एजेंसी है इंडियन काउंसिल ऑफ़ मेडिकल रिसर्च यानी आईसीएमआर। इसी ने सीरो सर्वे कराया है। इसी सीरो सर्वे की रिपोर्ट को आधार माना जाए तो संक्रमण का हर एक मामला दर्ज हुआ तो बिहार में 134, यूपी में 100 और मध्य प्रदेश में 86 संक्रमित लोग छुट गए। अब आँकड़े छुपाने का आरोप लगाएँ या कमजोर स्वास्थ्य व्यवस्था का नतीजा होना बताएँ? आँकड़े तो झूठ नहीं ही बोलेंगे!

आईसीएमआर के ताज़ा सीरो सर्वे के आँकड़े देश की वास्तविक तसवीर पेश करते हैं। सीरो सर्वे में कोरोना से बने एंटीबॉडी का पता लगाया जाता है। यानी पहले जिनकी कोरोना जाँच नहीं हुई हो या जिन्हें कोरोना संक्रमण की जानकारी नहीं हो उसका भी इसमें पता चल जाता है। इस सर्वे में पता चला कि पूरे देश में सर्वे कराए गए लोगों में से 67.6 फ़ीसदी लोगों में वह एंटीबॉडी मिली। यानी उन्हें कोरोना हुआ था। सबसे ज़्यादा मध्य प्रदेश में 79% और बिहार, राजस्थान, गुजरात और छत्तीसगढ़ में क़रीब 75%, और उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु, उत्तराखंड, आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में यह 70% के क़रीब था। जबकि केरल में यह सिर्फ़ 44 फ़ीसदी था। 

ताज़ा ख़बरें

इससे पता चलता है कि केरल कोरोना संक्रमण को रोकने में किसी भी दूसरे राज्यों की तुलना में अधिक सफल रहा है। यह एक उपलब्धि है। खासकर तब जब केरल में जनसंख्या घनत्व काफ़ी ज़्यादा है और यह इस मामले में दूसरे स्थान पर है और लगभग 50% शहरी आबादी है।

इस सीरो सर्वे के आँकड़ों और दर्ज किए गए आँकड़ों से पता लगाया जा सकता है कि कितने लोग अनुमानित तौर पर कोरोना से संक्रमित हुए होंगे और कितने लोग छुट गए होंगे। इस तरह से आँकड़े निकालने पर आख़िरी सीरो सर्वे से पता चलता है कि पूरे देश में औसत अनुमानित संक्रमण का एक मामला दर्ज किया गया तो 33 संक्रमण के मामले छुट गए। इस आधार पर सबसे ख़राब रिपोर्टिंग वाले राज्य बिहार, यूपी और मध्य प्रदेश हैं। बिहार में हर एक केस दर्ज होने पर 134, यूपी में हर एक केस दर्ज होने पर 100 और मध्य प्रदेश में हर एक केस दर्ज होने पर 86 मामले दर्ज ही नहीं हुए। अब इन तीन राज्यों की तुलना केरल, महाराष्ट्र और कर्नाटक से करके देखिए। केरल में हर एक मामला दर्ज होने पर 6, महाराष्ट्र में हर एक मामला दर्ज होने पर 12 और कर्नाटक में हर एक मामला दर्ज होने पर 18 मामले छुट गए। 

सीरो सर्वे की रिपोर्ट केरल और महाराष्ट्र की स्वास्थ्य व्यवस्था अपेक्षाकृत बेहतर होने के संकेत देती है। इन दोनों राज्यों में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार आते रहना यह भी दिखाता है कि लगातार मामले दर्ज किए जा रहे हैं।

इस सर्वे से सवाल उठता है कि बिहार, यूपी और मध्य प्रदेश जैसे राज्यों में कोरोना से संक्रमित होने वाले लोगों की संख्या क्या कराड़ों में नहीं होगी? सीरो सर्वे तो कम से कम ऐसा ही संकेत देता है। दूसरे राज्यों में भी संक्रमण के मामले दर्ज की गई संख्या से कहीं ज़्यादा होंगे।

ताज़ा सीरो सर्वे में एक महत्वपूर्ण जानकारी मिलती है। इस बार कराए गए 28,975 व्यक्तियों के सर्वे में 6-9 वर्ष के बच्चे भी 10% शामिल थे। आँकड़ों से पता चला है कि क़रीब 60% बच्चों और किशोरों में एंटीबॉडी या संक्रमण के सबूत हैं। यह इस विचार को पुष्ट करता है कि हालाँकि बच्चे गंभीर बीमारी से बच जाते हैं, लेकिन वे संक्रमित तो हो जाते हैं।

sero survey reveals actual covid cases in indian states like up, bihar, mp - Satya Hindi

सर्वे में एक बात और प्रमुखता से सामने आई है कि जिन्हें कोरोना के टीके लगे उनमें भी कुछ लेगों में वह एंटीबॉडी नहीं पाई गई। सर्वे में क़रीब 5,000 ऐसे लोग थे जिन्हें टीके की एक खुराक और 2,600 लोगों को दोनों खुराकें लगी हुई थीं। ऐसे 62% लोगों में एंटीबॉडी पाई गई जिन्हें कोई वैक्सीन नहीं लगी थी। जिनको एक खुराक लगी थी उनके 81% और जिनको दोनों खुराक लगी थी उन क़रीब 90% लोगों में एंटीबॉडी पाई गई। 

इसका मतलब यह है कि लगभग 10% व्यक्तियों को दोनों टीके की खुराक मिली, फिर भी उनमें कोई एंटीबॉडी नहीं थी। ऐसे में यह सवाल उठ रहा है कि क्या ऐसे लोगों को फिर बूस्टर वैक्सीन की खुराक की ज़रूरत होगी।

देश से और ख़बरें
बहरहाल, इस सीरो सर्वे के बाद यह सवाल उठ रहा है कि क्या भारत हर्ड इम्युनिटी तक पहुँच गया है? लेकिन लगता है कि ऐसा नहीं है। 33% आबादी यानी 45 करोड़ से अधिक लोग अभी भी वायरस के प्रति संवेदनशील हैं। इसे इस रूप में भी देखा जा सकता है कि हर रोज़ अब मामले फिर से बढ़ने लगे हैं और 40 हज़ार से ज़्यादा केस आने लगे हैं। केंद्र सरकार ने पाँच दिन पहले ही कहा है कि 10 राज्यों में पॉजिटिविटी रेट 10% से ज़्यादा है। यानी जितने लोगों की कोरोना जाँच कराई गई है, उनमें से 10 प्रतिशत लोगों में कोरोना संक्रमण पाया गया है। 5 फ़ीसदी से ज़्यादा पॉजिटिविटी रेट होने पर चिंताजनक स्थिति होती है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें