loader
फ़िल्म अभिनेता सलमान ख़ान। फ़ाइल फ़ोटो

काला हिरण शिकार के लिए सलमान की हत्या की साज़िश, आरोपी गिरफ़्तार

फरीदाबाद पुलिस ने एक ऐसे शार्प शूटर को गिरफ़्तार किया है जो फ़िल्म अभिनेता सलमान ख़ान की हत्या की साज़िश रच रहा था। इसके लिए उसने मुंबई में सलमान ख़ान के घर की रेकी भी की थी लेकिन लॉकडाउन के वजह से उसे इस साज़िश को टालना पड़ा। पुलिस ने दावा किया है कि आरोपी ने पूछताछ में यह खुलासा किया है। यह आरोपी लॉरेंस बिश्नोई गैंग का सदस्य है। कहा जा रहा है कि सलमान ख़ान काला हिरण शिकार मामले के कारण बिश्नोई गैंग के निशाने पर आए क्योंकि बिश्नोई समाज काला हिरण को पूज्य मानता है। 

बिश्नोई समाज काले हिरण को अपने गुरु भगवान जंबाजी यानी जंबेश्वर का अवतार मानता है। कहा जाता है कि बिश्नोई समाज के लोग काले हिरण और वृक्षों के लिए अपनी जान तक दे सकते हैं। मान्यता है कि जंबेश्वर भगवान ने सभी जीव-जंतुओं के प्रति दयाभाव, समर्पण, शाकाहार आदि का पालन करने की सीख दी थी और इसी कारण समाज के लोगों का जीव जंतुओं के प्रति खास लगाव है। 

ताज़ा ख़बरें

राजस्थान में स्थानीय अदालत ने काला हिरण शिकार मामले में सलमान ख़ान को 5 साल की सज़ा सुनाई थी। लेकिन जोधपुर सेंट्रल जेल में दो रात बिताने के बाद ही 50,000 रुपये के दो बॉन्डों पर उन्हें ज़मानत दे दी गई। 

इस मामले में अभिनेता सैफ़ अली ख़ान, तब्बू, सोनाली बेंद्रे और नीलम कोठारी भी आरोपी थे जिन्हें सबूतों के अभाव में बरी कर दिया गया था। लेकिन स्थानीय अदालत के फ़ैसले को राजस्थान सरकार की ओर से चुनौती दिए जाने के बाद हाई कोर्ट ने नोटिस दिया था। 

इन अभिनेताओं पर आरोप है कि उन्होंने साल 1998 में फ़िल्म 'हम साथ साथ हैं' की शूटिंग के दौरान जोधपुर के नज़दीक कणकणी गाँव में दो काले हिरणों का शिकार किया था। इसके ख़िलाफ़ स्थानीय विश्नोई समुदाय के लोगों ने शिकायत की थी, जिसके बाद इस मामले को दर्ज किया गया था। 

बहरहाल, पुलिस के अनुसार, अब जो हरियाणा के फरीदाबाद में आरोपी गिरफ़्तार हुआ है वह भिवानी निवासी राहुल उर्फ़ सांगा उर्फ़ बाबा उर्फ़ सुन्नी (27) है। उसको क्राइम ब्रांच और पुलिस ने 15 अगस्त के दिन उत्तराखंड में उसके ठिकाने से गिरफ्तार किया था। वह 24 जून को फरीदाबाद निवासी राशन डीलर प्रवीण की हत्या का आरोपी है। पुलिस पूछताछ के संबंध में उसे फरीदाबाद लेकर आई। वह लॉरेंस बिश्नोई गैंग का सदस्य है। इस गैंग में संपत नेहरा बिश्नोई का सबसे ख़ास सदस्य है।

देश से और ख़बरें
पुलिस ने आरोपी से पूछताछ की जानकारी दी है। 'द इंडियन एक्सप्रेस' के अनुसार, डीसीपी राजेश दुग्गल ने कहा, 'पूछताछ के दौरान, यह सामने आया है कि राहुल जनवरी में सलमान ख़ान की हत्या के लिए रेकी करने यानी जानकारी जुटाने के लिए मुंबई गया था। वह इसके लिए बांद्रा में अभिनेता के घर गया और दो दिनों के लिए इस क्षेत्र में रुका।' उन्होंने कहा कि बिश्नोई और संपत नेहरा के कहने पर जून 2018 में गिरफ़्तारी से पहले राहुल ने रेकी की थी। 

बिश्नोई के इशारे पर सलमान ख़ान की हत्या की साज़िश रचने के आरोप में नेहरा को हैदराबाद से गिरफ्तार किया गया था।

पुलिस के अनुसार, जब राहुल ने बिश्नोई के कहने पर सलमान ख़ान के घर की रेकी की और वे लोग इस साज़िश को अंजाम देने वाले थे तभी कोरोना संक्रमण के कारण लॉकडाउन हो गया और उन्हें अपनी योजना रोकनी पड़ी।

पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि आरोपी राहुल ने पुरानी रंजिश और मुखबिरी के शक में डीलर प्रवीण की हत्या उसके एसजीएम नगर स्थित घर में घुसकर कर दी थी। इस वारदात में शामिल रहे राहुल के 4 साथियों को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। राहुल पर अभी तक 4 हत्याओं का आरोप है। पिछले साल उसने पुलिस टीम पर हमला कर एक गैंगस्टर को भी छुड़ा लिया था।

लॉरेंस बिश्नोई पंजाब, हरियाणा और राजस्थान का एक गैंगस्टर है। लॉरेंस उस वक़्त सुर्खियों में आया था जब उसने कोर्ट में पेशी के दौरान सलमान को हत्या की धमकी दी थी।

फ़िलहाल गैंग का सरगना लॉरेंस बिश्नोई राजस्थान की भरतपुर सेंट्रल जेल में सज़ा काट रहा है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें