loader

सांसद शशि थरूर लड़ेंगे कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव

केरल से कांग्रेस के सांसद शशि थरूर कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव लड़ेंगे। थरूर ने अपने प्रतिनिधि को कांग्रेस के केंद्रीय चुनाव प्राधिकरण के पास फॉर्म लेने के लिए भेजा है। बताना होगा कि कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव में नामांकन 24 सितंबर से 30 सितंबर तक होने हैं। 8 अक्टूबर तक नाम वापस लिए जा सकेंगे। एक से ज्यादा उम्मीदवार होने की सूरत में 17 अक्टूबर को मत डाले जाएंगे। 

19 अक्टूबर को मतों की गिनती होगी और उसी दिन चुनाव नतीजे घोषित कर दिए जाएंगे।

बीते दिनों में कई राज्यों की कांग्रेस कमेटियों ने राहुल गांधी को अध्यक्ष बनाने के पक्ष में प्रस्ताव पास किया था लेकिन अब यह साफ हो गया है कि राहुल गांधी चुनाव नहीं लड़ेंगे और राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के अलावा शशि थरूर भी चुनाव मैदान में उतरेंगे। पंजाब से कांग्रेस के सांसद मनीष तिवारी, मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ भी चुनाव मैदान में उतर सकते हैं। 

ताज़ा ख़बरें

ऐसे में देश के सबसे पुराने राजनीतिक दल कांग्रेस में अध्यक्ष पद का चुनाव बेहद रोमांचक हो सकता है और दो दशक बाद कांग्रेस को गांधी परिवार से बाहर का कोई अध्यक्ष मिल सकता है। 

शशि थरूर ने कुछ दिन पहले कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की थी। मुलाकात के दौरान सोनिया गांधी ने शशि थरूर से कहा कि वह कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव में पूरी तरह तटस्थ रहेंगी। शशि थरूर ने उदयपुर चिंतन शिविर के बाद सामने आए उदयपुर संकल्प का भी जोरदार समर्थन किया था।
थरूर ने पिछले महीने एक मलयालम पत्रिका में लेख लिखकर कहा था कि कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव स्वतंत्र और निष्पक्ष होना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा था कि कांग्रेस में फैसला लेने वाली सर्वोच्च कमेटी सीडब्ल्यूसी में भी एक दर्जन पदों के लिए चुनाव की घोषणा करनी चाहिए। 

G-23 में हैं शशि थरूर

शशि थरूर कांग्रेस में असंतुष्ट नेताओं के गुट G-23 में शामिल हैं। G-23 गुट ने साल 2020 में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखकर पार्टी में बड़े बदलाव किए जाने और अध्यक्ष का चुनाव कराए जाने की मांग की थी। इस गुट के प्रमुख चेहरे गुलाम नबी आजाद पार्टी छोड़ चुके हैं और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी उनके निशाने पर हैं। 

उम्मीदवारों पर टिप्पणी न करें

इस बीच, कांग्रेस के कम्युनिकेशन विभाग के महासचिव जयराम रमेश ने कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ताओं और कम्युनिकेशन विभाग के पदाधिकारियों से अपील की है कि वे कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव में खड़े होने वाले किसी भी उम्मीदवार को लेकर किसी तरह की टिप्पणी ना करें। जयराम रमेश का यह बयान कांग्रेस के प्रवक्ता गौरव वल्लभ की उस टिप्पणी के संदर्भ में आया है जिसमें गौरव ने पूर्व केंद्रीय मंत्री और केरल से कांग्रेस के सांसद शशि थरूर पर हमला बोला था। 

Shashi Tharoor will contest in Congress president election 2022 - Satya Hindi

क्या कहा था गौरव ने?

गौरव वल्लभ ने कहा था कि एक ओर अशोक गहलोत हैं, जो तीन बार मुख्यमंत्री रहे हैं, केंद्र सरकार में मंत्री रहे हैं, पांच बार सांसद, पांच बार विधायक रहे हैं, जिन्होंने सीधे मुकाबले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह को हराया है और 45 साल के राजनीतिक कैरियर में उन पर कोई दाग नहीं है। जबकि दूसरी ओर शशि थरूर हैं जिनका पिछले 8 सालों में सिर्फ एक बड़ा योगदान पार्टी के लिए है कि उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को उस वक्त खत भेजा था जिस वक्त वह अस्पताल में भर्ती थीं और इस वजह से उनके जैसे पार्टी के करोड़ों कार्यकर्ताओं को बहुत दुख हुआ था। वल्लभ ने कहा था कि कांग्रेस अध्यक्ष के लिए उनका चयन पूरी तरह स्पष्ट है। 

अब सवाल यही है कि अशोक गहलोत और शशि थरूर में से जीत किसे मिलेगी। क्योंकि सोनिया गांधी कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव में पूरी तरह तटस्थ रहने की बात कह चुकी हैं। इसलिए निश्चित रूप से चुनाव बेहद रोमांचक होगा। 

कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव में पार्टी के कुल 9,100 मतदाता मतदान करेंगे। लेकिन क्या G-23 गुट चुनाव में सामने खड़े प्रत्याशी को टक्कर दे पाएगा।

देश से और खबरें

अनुभवी नेता हैं गहलोत 

अशोक गहलोत के पास सियासत का लंबा अनुभव है। वह कांग्रेस में महासचिव (संगठन) रहने के साथ ही तीन बार राजस्थान के मुख्यमंत्री और कई बार प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष भी रह चुके हैं। अशोक गहलोत कांग्रेस के उन नेताओं में से हैं जिन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और राजीव गांधी के साथ काम किया है। 

दूसरी ओर शशि थरूर भी कांग्रेस के जाने-पहचाने चेहरे हैं और पढ़े-लिखे नेता हैं। वह मोदी लहर में भी चुनाव जीत कर आए हैं। वह केंद्र सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें