loader

कंसर्ट के थोड़ी देर बाद बॉलीवुड गायक केके की मौत 

जाने-माने गायक केके की कोलकाता में मंगलवार रात को मौत हो गई। उससे कुछ ही घंटे पहले उन्होंने कोलकाता के एक ऑडिटोरियम में कार्यक्रम किया था। उनकी उम्र 53 साल थी। केके के नाम से मशहूर गायक कृष्णकुमार कुन्नाथ की मौत पर कोलकाता पुलिस ने अप्राकृतिक मौत (अननैचुरल डेथ) का मामला दर्ज किया है। मामला न्यू मार्केट थाने में दर्ज कराया गया है। मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि केके के चेहरे और सिर में चोट के निशान हैं। मौत के कारणों का पता लगाने के लिए बुधवार को कोलकाता के एसएसकेएम अस्पताल में पोस्टमार्टम किया जाएगा।

कार्यक्रम करने के बाद जब वह अपने होटल में पहुंचे तो वहां उनकी सेहत बिगड़ गई जिसके बाद उन्हें तुरंत अस्पताल ले जाया गया। सीएमआरआई अस्पताल के डॉक्टर ने कहा कि केके को जब रात 10 बजे अस्पताल लाया गया तो उनकी मौत हो चुकी थी। 

Singer KK Dies In Kolkata - Satya Hindi

केके ने अपना आखिरी कार्यक्रम कोलकाता के नज़रुल मंच ऑडिटोरियम में किया और इसकी तस्वीरें भी उन्होंने अपने इंस्टाग्राम पेज पर शेयर की थी।

केके का पूरा नाम कृष्ण कुमार कुन्नाथ था। पल और यारों जैसे उनके गाने 1990 के दशक के अंत में युवाओं के बीच काफी लोकप्रिय हुए थे।

उन्होंने बड़ी संख्या में बॉलीवुड फिल्मों के गीत गाए थे। केके ने हिंदी, तमिल, तेलुगू, कन्नड़, मलयालम, मराठी, बंगाली और कुछ अन्य भाषाओं में भी गाने गाए थे।

केके की मौत पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, फिल्म अभिनेता अक्षय कुमार, पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग, गायक राहुल वैद्य, संगीत निर्देशक अरमान मलिक सहित कई लोगों ने दुख जताया है।

देश से और ख़बरें

वीडियो और चश्मदीदों के बयानों से कार्यक्रम स्थल पर व्यवस्थाओं पर सवाल खड़े हो रहे हैं। कार्यक्रम वाली जगह पर कथित तौर पर एयर-कंडीशनिंग काम नहीं कर रहा था और गर्मी 'दम घोंटने' वाली थी। गायक की मौत का कारण अज्ञात है और जल्द ही पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने की उम्मीद है। 

सोशल मीडिया यूज़रों ने कहा है कि दक्षिण कोलकाता स्थल, नज़रूल मंच, एक बंद सभागार है और उस कार्यक्रम के लिए भीड़भाड़ थी।

सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में दिखता है कि गायक अपना चेहरा पोंछने के लिए ब्रेक लेते हैं और उन्हें बहुत पसीना आता है। वीडियो में लोगों की आवाज़ भी सुनी जा सकती है कि बहुत ज़्यादा गर्मी है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें