loader
प्रतीकात्मक तसवीर।

नौकरियों में दलितों से भेदभाव रोकने के लिए उपनाम छुपाएँ: रिपोर्ट

सरकारी नौकरियाँ मिलने में दलितों के साथ कितना भेदभाव होता है, यह सरकार द्वारा ज़िम्मेदारी सौंपी गई एक कमेटी की रिपोर्ट में ही सामने आया है। इस रिपोर्ट में सुझाव दिया गया है कि यदि सिविल सेवा की परीक्षा में शामिल होने वाले अभ्यर्थियों के उपनाम छुपा दिए जाएँ तो उनको बराबरी का मौक़ा मिल सकता है। उपनाम छुपाने की बात इसलिए की गई है क्योंकि 90 फ़ीसदी भारतीय नामों के उपनाम से संबंधित व्यक्ति की जाति का पता चल जाता है। यानी समिति का साफ़ तौर पर कहना है कि उपनाम छुपा दिए जाएँ तो ज़्यादा दलितों को नौकरी मिलेगी। इसका एक मतलब यह भी है कि ऐसे लोगों को नौकरियाँ देने में भेदभाव किया जाता है।

ताज़ा ख़बरें

एक सवाल उठ सकता है कि सिविल सेवा जैसी परीक्षाओं की कॉपियों में तो नाम, धर्म, जाति जैसी जानकारियाँ दी नहीं जाती हैं तो किसी अभ्यर्थी की जाति कैसे पता चलेगी? जाति पता नहीं चलती है, लेकिन सिर्फ़ लिखित परीक्षा में ही। लिखित परीक्षा के बाद जब इंटरव्यू होता है तो वहाँ पर यह जानकारी सामने आ जाती है।

इसी को लेकर समिति ने अभ्यर्थियों के नाम छुपाने की सिफारिश की है। यह सिफारिश दलित इंडियन चैंबर ऑफ़ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के शोध विंग ने एक रिपोर्ट में की है। इसको सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय द्वारा भारतीय समाज में दलितों की स्थिति का मूल्यांकन करने की ज़िम्मेदारी सौंपी गई। 

इस रिपोर्ट को तैयार करने वाले शोध विभाग से जुड़े पीएसएन मूर्ति ने दैनिक 'हिंदुस्तान' को बताया कि रिपोर्ट को अंतिम रूप दिया जा रहा है और जल्द ही इसे सरकार को सौंपा जाएगा। उनका कहना है कि इस रिपोर्ट को राष्ट्रीय अनुसूचित आयोग को भी सौंपा जाएगा। 

रिपोर्ट के अनुसार मूर्ति ने कहा कि केंद्र सरकार के 89 सचिवों में मात्र एक सचिव दलित हैं। 

देश में दलितों की स्थिति बेहद ख़राब रही है। पहले उनके साथ छूआछूत होता रहा था और अब भी जब तब ऐसी घटनाएँ सामने आ जाती हैं। अक्सर इस तरह की ख़बरें आती रही हैं कि दलित दूल्हे को घोड़ा नहीं चढ़ने दिया गया या फिर मंदिर में प्रवेश नहीं करने दिया गया।

जातिगत गालियों से ताने मारना तो जैसे आम बात है। समझा जाता है कि ऐसे में यदि दलितों को भारतीय प्रशासनिक सेवा, भारतीय विदेश सेवा और भारतीय पुलिस सेवा जैसी सिविल सेवा में जगह मिलती है तो उनकी सामाजिक स्थिति ऊपर उठेगी। 

social justice and empowerment ministry study says hide surnames to curb dalit job bias - Satya Hindi

सिविल सेवा में जगह पाने को अक्सर सामाजिक प्रतिष्ठा से जोड़कर देखा जाता रहा है। इसके लिए क़रीब 9-10 लाख छात्र आवेदन करते हैं और इसमें से क़रीब एक हज़ार को ही नौकरी मिल पाती है। 

हर साल लगभग दस लाख भारतीय खुद को भीषण और गला काट प्रतिस्पर्धी वार्षिक परीक्षा के लिए झोंक देते हैं। वे इसमें सफलता के लिए कोचिंग करते हैं, लाखों रुपये तैयारी पर सालों-साल तक ख़र्च करते हैं। ऐसी स्थिति में कुछ ही दलित पढ़ाई कर पाते हैं। कुछ राज्य सरकारों ने कोचिंग फीस के साथ मदद की पेशकश शुरू की है। फिर भी सामान्य अभ्यर्थियों और दलित अभ्यर्थियों में बड़ा अंतर रह जाता है।

देश से और ख़बरें

'द गार्डियन' की रिपोर्ट के अनुसार, लखनऊ में सेवानिवृत्त वरिष्ठ पुलिस अधिकारी स्वर्ण राम दारापुरी कहते हैं कि साक्षात्कार में दलितों का भारी नुक़सान होता है। अधिकांश ग्रामीण पृष्ठभूमि से आते हैं और अपने परिवार में शिक्षित होने वालों में पहली पीढ़ी से होते हैं। 

रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय पुलिस सेवा में आने वाले कुछ दलितों में से एक दारापुरी कहते हैं कि उन्हें भेदभाव सहना पड़ा है। वह कहते हैं कि उच्च जाति के साक्षात्कारकर्ताओं के लिए 'जाति-तटस्थ' होना असंभव है क्योंकि जिस वक़्त वे एक दलित उपनाम सुनते हैं, उनका पूरा रवैया बदल जाता है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें