loader

सोनिया ने मोदी को लिया निशाने पर, कोरोना पर सर्वदलीय बैठक की माँग की

रोज़ाना चार लाख से ज़्यादा नए कोरोना मामलों के बीच कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने नरेंद्र मोदी सरकार को निशाने पर लिया है और मौजूदा हालत के लिए उसे ज़िम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कोरोना पर सर्वदलीय बैठक बुलाने की मांग भी की है। सोनिया गांधी ने कांग्रेस के राज्यसभा और लोकसभा सांसदों के साथ वर्चुअल मीटिंग की।

ख़ास ख़बरें
उन्होंने इस बैठक में कहा कि देश में कोरोना से हालात बिगड़ते जा रहे हैं, इस पर काबू पाने के लिए सरकार को ठोस रणनीति अपनानी चाहिए। सोनिया गांधी ने कहा कि सिस्टम नहीं मोदी सरकार फेल साबित हुई है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने संसाधनों और शक्ति का सही से इस्तेमाल नहीं किया।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व पर सवाल उठाते हुए सोनिया गांधी ने कहा कि देश को एक ऐसा राजनीतिक नेतृत्व मिला है जिसकी जनता से कोई सहानुभूति नहीं है।
 कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष ने  कहा कि कई बीजेपी-शासित राज्य सरकारें लोगों को मदद पहुंचाने की बजाय मदद करने वालों पर कार्रवाई कर रही हैं। 

sonia gandhi targets modi on coronavirus fight - Satya Hindi

राहुल : केंद्र की विफलता से लॉकडाउन की स्थिति

दूसरी ओर, एक दूसरे घटनाक्रम में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिख कर कहा है कि सरकार की विफलता के कारण देश एक बार फिर लॉकडाउन के मुहाने पर पहुँच गयाा है।

कांग्रेस के इस पूर्व अध्यक्ष ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार के पास कोई कोरोना टीकाकरण रणनीति नहीं हैं। सरकार ने उसी समय इस महामारी पर विजय पाने की घोषणा कर दी जब यह वायरस फैल रहा था।
उन्होंने प्रधानमंत्री को सुझाव दिया कि इस वायरस एवं इसके विभिन्न स्वरूपों के बारे में वैज्ञानिक तरीके से पता लगाया जाए। सभी नए म्यूटेशन के खिलाफ टीकों के असर का आकलन किया जाए और सभी लोगों को तेजी से टीका लगाया जाए।
कांग्रेस नेता ने प्रधानमंत्री से आग्रह किया कि कमजोर तबकों के लोगों को वित्तीय मदद और खाद्य सामाग्री उपलब्ध कराई जाए ताकि लॉकडाउन के कारण गरीबों को उस पीड़ा को न झेलना पड़े जो उन्हें पिछले साल के लॉकडाउन के समय झेलनी पड़ी थी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें