loader
मंचीय कवि कुमार विश्वास

आप के पूर्व नेता और कवि कुमार विश्वास की गिरफ्तारी पर रोक

मंचीय कवि कुमार विश्वास को अदालत से राहत मिली है। पंजाब में उनकी गिरफ्तारी पर तलवार लटक रही थी। पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ कथित भड़काने वाला बयान देने के आरोप में पंजाब में दर्ज एफआईआर में कवि कुमार विश्वास की गिरफ्तारी पर सोमवार को रोक लगा दी। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। कुमार विश्वास भी आम आदमी पार्टी के संस्थापकों में रहे हैं।
कुमार विश्वास ने अपने खिलाफ दर्ज एफआईआर रद्द कराने के लिए पिछले हफ्ते पंजाब हरियाणा हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था।

ताजा ख़बरें

कवि के खिलाफ पंजाब पुलिस ने 12 अप्रैल को रूप नगर थाने में समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देने, आपराधिक साजिश, धर्म या नस्ल के आधार पर दुश्मनी पैदा करने के इरादे से समाचार प्रकाशित करने या प्रसारित करने का मामला दर्ज किया था। पुलिस ने कहा था कि नरिंदर सिंह की शिकायत पर मामला दर्ज किया गया है।

कुमार विश्वास ने इस एफआईआर को दर्ज कराने के लिए पंजाब हरियाणा हाई कोर्ट में याचिका दायर की। अपनी याचिका में विश्वास ने कहा था कि हाल के पंजाब विधानसभा चुनावों के बाद, आम आदमी पार्टी प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता में आई थी और उसके तुरंत बाद उसने अपने राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराईं। ऐसा उन्हें परेशान करने के लिए किया गया। उनके पुराने ट्वीट और बयान को एफआईआर में जोड़ा गया।

देश से और खबरें

कुमार विश्वास ने याचिका में कहा कि यह एफआईआर अवैध, मनमानी और अन्यायपूर्ण है। इसमें राज्य की मशीनरी का उपयोग किया गया है। एफआईआर राजनीतिक रूप से प्रेरित है।इसे प्रतिशोध की भावना से दर्ज कराया गया है। बता दें कि कुमार विश्वास के अलावा कांग्रेस नेता अलका लांबा के खिलाफ भी इसी तरह एफआईआर दर्ज की गई थी। इसके बाद इनके घरों पर पंजाब पुलिस भेजी गई। लेकिन अलका लांबा सैकड़ों कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ खुद पंजाब पहुंची और पुलिस के सामने अपना बयान दर्ज कराया। अलका लांबा ने साफ शब्दों में दोहराया कि उन्होंने केजरीवाल के खिलाफ जो भी कहा और जिस आधार पर एफआईआर की गई, उससे वो नहीं डरती हैं। वो अपने बयान पर कायम हैं। अलका लांबा के इस बयान के जवाब में आम आदमी पार्टी चुप रही और उसने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें